Saturday, July 20, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयनेपाल में फिर प्लेन क्रैश, उतरने के दौरान पहाड़ी से टकराकर आग का गोला...

नेपाल में फिर प्लेन क्रैश, उतरने के दौरान पहाड़ी से टकराकर आग का गोला बना येति एयरलाइन्स का विमान: 30 शव बरामद, 68 यात्री सहित 72 लोग थे सवार

नेपाल में पिछले 30 सालों में नेपाल में 30 ऐसे क्रैश हुए हैं। इनमें कई लोगों की जान गई है। मई 2022 में नेपाल के पोखरा में ही तारा एयरलाइंस का विमान क्रैश हुआ था, जिसमें 22 लोगों की मौत हो गई थी। इनमें चार भारतीय भी थे। यह पोखरा से जोमसोम पर्वतीय शहर के लिए उड़ान भरा था।

नेपाल के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल पोखरा (Pokhara, Nepal) में एक विमान क्रैश (Plane Crash in Nepal) हो गया है। इसका मलवा इधर-उधर फैला है। इस विमान में 68 यात्री और क्रू दल के सदस्यों के साथ कुल 72 लोग सवार थे। हादसे की कई तस्वीरें और वीडियो सामने आए हैं।

इस हादसे में अब तक 30 शव बरामद किए गए हैं। बरामद किए गए शवों की पहचान की जा रही है। वहीं, अन्य लोगों की भी तलाश की जारी है। नेपाल की सेना ने घटनास्थल पर पहुँचकर राहत और बचाव कार्य शुरू कर दिया है। आशंका जताई जा रही है कि इस हादसे में शायद ही कोई बचा होगा।

ये प्लेन क्रैश पोखरा एयरपोर्ट के पास हुआ यह विमान क्रैश किन कारणों से हुआ है, इसकी जानकारी फिलहाल सामने नहीं आई है। हालाँकि, माना जा रहा है कि इसके पीछे तकनीकी कारण हो सकते हैं। हादसे के बाद पोखरा एयरपोर्ट को बंद कर दिया गया है।

हालाँकि, कुछ मीडिया रिपोर्ट में यह भी कहा जा रहा है कि खराब मौसम की वजह से विमान एक पहाड़ी से टकरा गया और विमान धमाके के साथ आग के गोले में बदल गया। वहीं, कुछ मीडिया रिपोर्ट में कहा जा रहा है कि खराब मौसम के बीच हवाई अड्डे पर उतरने का प्रयास करते समय यह विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ है। बता दें कि पोखरा हवाई अड्डे का इलाका पहाड़ियों से घिरा हुआ है.

यह विमान नेपाल की राजधानी कठमांडू से पोखरा जा रहा था। येती एयरलाइंस का ATR 72 सीटर विमान कास्की जिले के पोखरा में पुराने हवाई अड्डे और पोखरा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के बीच दुर्घटनाग्रस्त हुआ बताया जा रहा है।

येति एयरलाइंस के प्रवक्ता सुदर्शन बरतौला ने कहा कि यति एयरलाइंस के विमान में कुल 68 यात्री और चालक दल के चार सदस्य सवार थे। इस विमान को कैप्टन कमल केसी उड़ा रहे थे। स्थानीय अधिकारी गुरुदत्त ढकाल ने AFP को बताया, “रेस्क्यू टीम और बचावकर्मी मौके पर मौजूद हैं। ​​पहले आग बुझाने और यात्रियों को बचाने पर ध्यान दिया जा रहा है।”

बता दें कि नेपाल में विमान या हेलीकॉप्टर क्रैश आम बात जैसी है। पिछले 30 सालों में नेपाल में 30 ऐसे क्रैश हुए हैं। इनमें कई लोगों की जान गई है। मई 2022 में नेपाल के पोखरा में ही तारा एयरलाइंस का विमान क्रैश हुआ था, जिसमें 22 लोगों की मौत हो गई थी। इनमें चार भारतीय भी थे। यह पोखरा से जोमसोम पर्वतीय शहर के लिए उड़ान भरा था।

साल 2016 में भी तारा का एक विमान लापता होने के बाद क्रैश हो गया था। उत्तरी नेपाल के पहाड़ी इलाके में लापता हुए इस विमान में 23 यात्री थे। इस दुर्घटना में सभी यात्री मारे गए थे। उस वक्त उड़ान का कुल समय 19 मिनट था, लेकिन उड़ान भरने के आठ मिनट बाद विमान से संपर्क टूट गया था।

बता दें कि नेपाल के पास अधिकतर विमान पुराने हैं। इसके साथ ही नेपाल में पर्वत श्रृंखलाएँ और गहरी घाटियाँ हैं। अगर यहाँ मौसम खराब होता है तो विजिबलिटी बिल्कुल खत्म होने से जैसी स्थिति हो जाती है। इसके साथ ही, पर्वतीय स्थलों पर हवाईअड्डों का रनवे भी बेहद ट्रिकी होता है। इस कारण कुशल पायलट के नहीं होने पर दुर्घटना की आशंकाएँ बढ़ जाती हैं।

पोखरा से सटा है अन्नपूर्णा और धौलागिरी पर्वतमाला। यहाँ दुनिया की सबसे गहरी घाटियाँ हैं। यहाँ मौसम खराब होने पर तेज हवाएँ और बादल मौजूद रहते हैं। कई बार यहाँ दूसरी जगह जाने के लिए इन पर्वतमालाओं के ऊपर से होकर गुजरना पड़ता है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -