Tuesday, July 23, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयश्रीलंका में इमरजेंसी, देश छोड़ मालदीव भागे राष्ट्रपति राजपक्षे: भारतीय उच्चायोग ने कहा- हम...

श्रीलंका में इमरजेंसी, देश छोड़ मालदीव भागे राष्ट्रपति राजपक्षे: भारतीय उच्चायोग ने कहा- हम जनता के साथ

जानकारी के मुताबिक, राजपक्षे के देश छोड़ने की खबर के बाद से जनता में जबरदस्त गुस्सा है। प्रदर्शनकारी अब श्रीलंकाई प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर आगे बढ़ रहे हैं।

श्रीलंका (Sri Lanka) के राष्‍ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे (Gotabaya Rajapaksa) देश छोड़कर मालदीव पहुँच गए हैं। श्रीलंकाई प्रधानमंत्री के मीडिया प्रभाग ने इसकी जानकारी दी है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, श्रीलंका की वायुसेना के विशेष विमान की मदद से गोटाबाया राजपक्षे पत्‍नी और बॉडीगार्ड के साथ मालदीव (Maldives) की राजधानी माले पहुँचे हैं।

राष्ट्रपति के भागने के बाद श्रीलंका ने ‘स्टेट ऑफ इमरजेंसी’ की घोषणा कर दी है। साथ ही राजधानी कोलंबो सहित देश के पश्चिमी इलाके में अनिश्चितकाल के लिए कर्फ्यू भी लगा दिया गया है।

इसी बीच श्रीलंका के सोशल मीडिया में दावा किया जा रहा है कि भारत ने गोटाबाया को मालदीव भागने में मदद की। इस अफवाह पर भारतीय उच्‍चायोग ने तत्‍काल ट्वीट करके इसका पुरजोर खंडन किया है।

श्रीलंका में भारतीय उच्‍चायोग ने ट्वीट करके कहा, “उच्‍चायोग आधारहीन और अटकलों पर आधारित मीडिया में आई उन सभी खबरों को खंडन करता है, जिसमें कहा गया है कि भारत ने गोटाबाया राजपक्षे और बासिल राजपक्षे के श्रीलंका छोड़कर जाने में मदद की। यह बार-बार कहा गया है कि भारत श्रीलंका की जनता का समर्थन करना जारी रखेगा, क्‍योंकि वे समृद्धि करना चाहते हैं। लोकतांत्रिक तरीके और मूल्‍यों के जरिए प्रगति चाहते हैं। साथ ही लोकतांत्रिक संस्‍थान और संवैधानिक ढाँचा विकस‍ित करना चाहते हैं।”

रिपोर्ट्स के मुताबिक, गोटबाया राजपक्षे राष्ट्रपति पद से इस्तीफे के कागज पर हस्ताक्षर कर चुके हैं। इसका ऐलान आज किया जाएगा। राजपक्षे के इस्तीफे के बाद अब देश में राष्ट्रपति की कमान संसद के स्पीकर महिंदा यापा अभयवर्दना के हाथों में आ जाएगी। गोटबाया को 2019 में राष्ट्रपति के रूप में चुना गया था। जानकारी के मुताबिक, राजपक्षे के देश छोड़ने की खबर के बाद से जनता में जबरदस्त गुस्सा है। प्रदर्शनकारी अब श्रीलंकाई प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर आगे बढ़ रहे हैं।

बता दें कि मंगलवार (12 जुलाई 2022) तड़के राष्ट्रपति के भाई और पूर्व वित्त मंत्री बासिल राजपक्षे ने अमेरिका जाने की कोशिश की थी, लेकिन कोलंबो के मुख्य हवाईअड्डे के वीवीआईपी लाउंज के जरिए उन्हें देश छोड़ने से रोक दिया गया। इसके बाद राजपक्षे को हवाईअड्डा छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा था।

गौरतलब है कि श्रीलंका में आर्थिक संकट को लेकर लोगों में उपजे असंतोष के बाद राष्ट्रपति भवन पर प्रदर्शनकारियों ने कब्जा कर लिया है। कब्जे के बाद मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि राष्ट्रपति भवन में रखी गोटबाया राजपक्षे की करोड़ों रुपए की नकदी प्रदर्शनकारियों के हाथ लगी है। इसका एक वीडियो भी वायरल भी सामने आया है। वीडियो में देखा जा सकता है राष्ट्रपति भवन पर कब्जा करने वाले प्रदर्शनकारियों में से एक नोटों की गड्डियाँ गिन रहा है। वहीं एक प्रदर्शनकारी नोटों का बंडल दिखा रहा है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -