Monday, May 27, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयहॉन्गकॉन्ग में चीन के खिलाफ बढ़ता आक्रोश देखकर TikTok ने कहा अलविदा, अमेरिका भी...

हॉन्गकॉन्ग में चीन के खिलाफ बढ़ता आक्रोश देखकर TikTok ने कहा अलविदा, अमेरिका भी कर रहा है चीनी ऐप बैन की तैयारी

पिछले दिनों हॉन्गकॉन्ग में चीन द्वारा थोपे जा रहे क़ानून के ख़िलाफ़ बड़ी संख्या में लोगों ने सड़क पर उतर कर विरोध प्रदर्शन किया था। जून माह में तो इस विरोध प्रदर्शन में लगभग 10 लाख लोग काले कपड़ो में सड़कों पर उतरे थे और बीजिंग द्वारा प्रदेश पर थोपे जा रहे कानून के खिलाफ़ सड़कें जाम की थीं।

चीन के कब्जे वाले हॉन्गकॉन्ग में चीन सरकार के खिलाफ पिछले दिनों कई विरोध प्रदर्शन देखने को मिले। सैंकड़ों की तादाद में लोगों ने सड़कों पर उतरकर अपना आक्रोश जाहिर किया। इसी बीच खबर आई कि टिकटॉक ने हॉन्गकॉन्ग के मार्केट से बाहर निकलने के संदेश दे दिए हैं।

विदेशी मीडिया के अनुसार, सोमवार को देर शाम एक प्रवक्ता ने यह जानकारी रॉयटर्स को दी। कहा जा रहा है फेसबुक समेत अन्य टेक्नॉलजी कंपनियाँ भी अब क्षेत्र में अपना काम सस्पेंड कर रही हैं। दरअसल, यहाँ की सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों के आधार पर यह फैसला लिया गया है।

मार्केट के प्रति अपनी प्रतिबद्धताओं के बारे में सवाल किए जाने पर टिकटॉक के प्रवक्ता ने कहा, “हाल के कुछ इवेंट्स को देखते हुए हमने हॉन्गकॉन्ग में टिकटॉक ऐप के ऑपरेशन को बंद करने का फैसला लिया है।”

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कंपनी का हवाला देते हुए कहा जा रहा है कि हॉन्गकॉन्ग का बाजार टिकटॉक के लिए एक छोटा और नुकसान वाला सौदा है। हॉन्गकॉन्ग में पिछले साल इस ऐप को 1,50,000 डाउनलोड मिले थे।

वहीं दुनियाभर में इसे 2 बिलियन डाउनलोड्स मिल चुके हैं। कंपनी ने यह फैसला इसलिए किया है क्योंकि यहाँ के हालात बिगड़े हुए हैं और यह साफ नहीं है कि यह देश पूरी तरह से चीन के हाथों आ जाएगा।

गौरतलब है कि पिछले दिनों हॉन्गकॉन्ग में चीन द्वारा थोपे जा रहे क़ानून के ख़िलाफ़ बड़ी संख्या में लोगों ने सड़क पर उतर कर विरोध प्रदर्शन किया था। जून माह में तो इस विरोध प्रदर्शन में लगभग 10 लाख लोग काले कपड़ो में सड़कों पर उतरे थे और बीजिंग द्वारा प्रदेश पर थोपे जा रहे कानून के खिलाफ़ सड़कें जाम की थीं।

यहाँ बता दें कि हॉन्गकॉन्ग में चीन के ख़िलाफ़ चल रहा विरोध प्रदर्शन उसी कानून के ख़िलाफ़ है। जिससे वहाँ के लोगों को गलत तरीके से फँसा कर गिरफ्तार करना उसके लिए आसान हो गया है।

चीन ने इस क़ानून का ‘परीक्षण’ भी किया है, जिसके तहत एक गिरफ्तार किया गया। इसके बाद हॉन्गकॉन्ग में लोग चीन के खिलाफ सड़कों पर विरोध के लिए उतर आए और जम पर बवाल काटा।

ऐसे में मुमकिन है कि टिकटॉक का हॉन्गकॉन्ग के मार्केट को अलविदा कहना- बाइटडांस कंपनी के इसी डर का नतीजा हो कि कहीं जिस प्रकार हॉन्गकॉन्ग में चीन के ख़िलाफ़ माहौल तैयार हो रहा है, कहीं उसकी गाज टिकटॉक पर न गिर पड़े? और भारत की तरह वहाँ भी टिकटॉक के ख़िलाफ़ एक्शन ले लिया जाए!

अमेरिका भी कर रहा TikTok बैन पर विचार

भारत द्वारा टिकटॉक समेत 59 चीनी ऐप बैन किए जाने के बाद अमेरिका भी अलर्ट हो गया है। ताजा अपडेट के मुताबिक अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने सोमवार देर रात इस संबंध में ऐलान किया।

उन्‍होंने कहा कि हम निश्चित रूप से चीनी ऐप पर प्रतिबंध लगाने पर विचार कर रहे हैं। उधर, ऑस्‍ट्रेलिया में भी चीनी ऐप पर प्रतिबंध लगाने की माँग तेज होती जा रही है। खबरों के अनुसार ऑस्ट्रेलिया में संसदीय समिति जल्द इस पर अपनी मुहर लगा सकती है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

10 साल बाद KKR ने जीता IPL का खिताब, तीसरी बार चैंपियन बने: सनराइजर्स हैदराबाद को 8 विकेट से हराया, 10 ओवरों में किया...

आईपीएल 2024 का फाइनल मुकाबला कोलकाता नाइट राइडर्स ने जीत लिया। कोलकाता ने फाइनल मैच में सनराइजर्स हैदराबाद को आठ विकेट से हराया।

‘मुस्लिम बस्ती में रहना है तो बनो मुसलमान, हिंदू देवताओं की पूजा बंद करो’ : फतेहपुर के शिव-कविता की घरवापसी की कहानी, 20 साल...

शिव और कविता वाराणसी के रहने वाले थे, लेकिन रोजगार की तलाश में वो फतेहपुर आ गए। यहाँ उन्हें मकान देने वाले अमिल शेख ने मजबूर करके इस्लाम कबूल करवाया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -