Sunday, July 21, 2024
Homeविविध विषयभारत की बातजिस रिसर्चर ने की तुर्की में भूकंप की सटीक भविष्यवाणी, उसने अब भारत को...

जिस रिसर्चर ने की तुर्की में भूकंप की सटीक भविष्यवाणी, उसने अब भारत को लेकर कही ये बात…

"हमारा ध्यान लगभग 6 और इससे अधिक तीव्रता वाले भूकंपों पर है। इस श्रेणी में भूकंप तब अधिक आते हैं जब ग्रह और चंद्रमा सौर मंडल में विशिष्ट स्थिति में पहुँच जाते हैं।"

सोमवार (6 फरवरी, 2023) को आए भूकंप ने तुर्की और सीरिया में भारी तबाही मचाई। भूकंप से अब तक 24000 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। हालाँकि, इस भूकंप को लेकर 2 दिन पहले ही भविष्यवाणी कर दी गई थी। निश्चित तौर पर भविष्यवाणी की बात अजीबोगरीब लग सकती है लेकिन यह सच है। यही नहीं भविष्यवाणी करने वाले व्यक्ति ने अब भारत में भूकंप को लेकर भी भविष्यवाणी की है।

दरअसल यह भविष्यवाणी भूकंपीय गतिविधि का अध्ययन करने वाले सोलर सिस्टम जियोमेट्री सर्वे के (SSGEOS) एक रिसर्चर फ्रेंक होगरबीट्स ने की थी। उन्होंने भविष्यवाणी करते हुए एक ट्वीट किया था। इस ट्वीट में उन्होंने लिखा था, “आज नहीं तो कल, जल्द ही दक्षिण-मध्य तुर्की, जॉर्डन, सीरिया और लेबनान में 7.5 तीव्रता का भूकंप आएगा।”

फ्रेंक होगरबीट्स के इस ट्वीट के बाद यूजर्स ने भला-बुरा कहते हुए प्रतिक्रिया दी थी। कुछ यूजर्स ने तो उन्हें ‘झूठा भविष्यवक्ता’ तक करार दिया था। हालाँकि, इसके बाद 6 फरवरी की सुबह 4 बजे तुर्की में 7.8 तीव्रता का भूकंप आया।

भूकंप आने के बाद फ्रेंक होगरबीट्स की भविष्यवाणी सच हो गई थी। लेकिन इसके बाद सोमवार (6 फरवरी 2023) को ही के बाद होगरबीट्स ने अपनी रिसर्च एजेंसी SSGEOS के एक ट्वीट को रीट्वीट किया। इस ट्वीट में एक और तेज भूकंप आने की बात कही गई थी। इस ट्वीट के कुछ घण्टों बाद तुर्की में एक और भूकंप आया। रिएक्टर स्केल पर इस भूकंप की तीव्रता 7.6 मापी गई। यानी होगरबीट्स को एक और भविष्यवाणी सच हुई।

भारत को लेकर भविष्यवाणी…

तुर्की में भूकंप आने की 2 सटीक भविष्यवाणी कर चुके होगरबीट्स ने अब भारत में भूकंप को लेकर भी ऐसा ही दावा किया है। उनके इस दावे वाला वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जॉस क्विंटन द्वारा शेयर किए गए वीडियो में फ्रेंक को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि आने वाले कुछ दिनों में एशिया के अलग-अलग भागों में जमीन के भीतर हलचल होने संभावना है।

उन्होंने आगे कहा है कि हलचल पाकिस्तान और अफगानिस्तान से होते हुए हिंद महासागर के पश्चिम की तरफ हो सकती है। भारत इसके बीच में होगा। वहीं चीन में भी आने वाले कुछ दिनों में भूकंप आ सकता है। हालाँकि होगरबीट्स ने इस बार भी भूकंप की तीव्रता और समय के बारे में कुछ भी नहीं कहा है।

जैसा कि हमने पहले भी बताया है फ्रैंक होगरबीट्स SSGEOS नामक संस्था में काम करते हैं। इस संस्था ने अपनी वेबसाइट में लिखा है, “SSGEOS सोलर सिस्टम के ज्यामितीय सर्वे के लिए बहुत छोटा संस्थान है। हम भूकंपीय गतिविधि से संबंधित खगोलीय पिंडों के बीच ज्यामिति की निगरानी कर शोध करते हैं।” इसके अलावा, इस वेबसाइट में ग्रहों की स्थिति को लेकर कुछ फोटोज भी अपलोड किए गए हैं। इन फोटोज के साथ भूकंप आने की घटनाओं का जिक्र है।

(फोटो साभार : SSGEOS)

साथ ही वेबसाइट में कहा गया है, “हमारा ध्यान लगभग 6 और इससे अधिक तीव्रता वाले भूकंपों पर है। इस श्रेणी में भूकंप तब अधिक आते हैं जब ग्रह और चंद्रमा सौर मंडल में विशिष्ट स्थिति में पहुँच जाते हैं। ऐसे समय में बड़े भूकंप देखने को मिलते हैं। इसका एक अच्छा उदाहरण दिसंबर 2016 का है। इस पूरे महीने अधिक महत्वपूर्ण ग्रहों की स्थिति के कारण अधिक भूकंप आए थे। इसको लेकर हमने पहले ही 3 चेतावनी जारी की थी।”

(फोटो साभार : SSGEOS)

हालाँकि, वैज्ञानिकों का मानना है कि भूकंप को लेकर ऐसी भविष्यवाणी करना संभव नहीं है। वास्तव में अब तक ऐसे किसी भी शोध को लेकर स्पष्ट पुष्टि नहीं हुई है। इसलिए फ्रैंक होगरबीट्स की भविष्यवाणी पर अब भी संदेह जताए जा रहे हैं। लेकिन यदि उनकी भविष्यवाणी इसी तरह सही होती रहीं तो निश्चित रूप से इसे विज्ञान की एक बड़ी उपलब्धि माना जाएगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

हर दिन 14 घंटे करो काम, कॉन्ग्रेस सरकार ला रही बिल: कर्नाटक में भड़का कर्मचारियों का संघ, पहले थोपा था 75% आरक्षण

आँकड़े कहते हैं कि पहले से ही 45% IT कर्मचारी मानसिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, 55% शारीरिक रूप से दुष्प्रभाव का सामना कर रहे हैं। नए फैसले से मौत का ख़तरा बढ़ेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -