Friday, August 6, 2021
Homeरिपोर्टमीडियारवीश है खोदी पत्रकार, BHU प्रोफेसर ने भोजपुरी में विडियो बनाके रगड़ दी मिर्ची...

रवीश है खोदी पत्रकार, BHU प्रोफेसर ने भोजपुरी में विडियो बनाके रगड़ दी मिर्ची (लाल वाली)

BHU के प्रोफेसर किशोर ने भोजपुरी में रवीश को जवाब देते हुए पूछा कि रामायण पर काहे बिनबिनाएल बानी? मतलब, आप रामायण के कारण क्यों चिढ़े हुए हैं? भोजपुरी में विडियो इसलिए क्योंकि रवीश ने भी भोजपुरी में ही विडियो बना कर प्रोपेगेंडा फैलाया था।

प्रोपेगेंडा पत्रकार रवीश कुमार ने दूरदर्शन पर रामायण का फिर से प्रसारण किए जाने पर विरोध जताया है। बीएचयू के प्रोफेसर कौशल किशोर मिश्र ने उनके इस प्रोपेगेंडा का उन्हीं की भाषा में मुँहतोड़ जवाब दिया है। चूँकि रवीश कुमार ने भी भोजपुरी में वीडियो बना कर प्रोपेगेंडा फैलाया था, प्रोफेसर किशोर ने भी भोजपुरी में उन्हें जवाब देते हुए पूछा कि रामायण पर काहे बिनबिनाएल बानी? मतलब, आप रामायण के कारण क्यों चिढ़े हुए हैं? प्रोफेसर ने कहा कि रामायण दिखाया जा रहा है तो इस पर रवीश कुमार को मिर्ची क्यों लग रही है? उन्होंने समझाया कि भारत की जनसंख्या 130 करोड़ है, क्या सभी सड़क पर ही हैं?

उन्होंने कहा कि इतना बड़ा लॉकडाउन का निर्णय लिया गया है, ऐसे में सरकार को समय दिया जाना चाहिए ताकि समुचित व्यवस्था हो सके, इसमें बिलबिलाने की क्या ज़रूरत है? प्रोफेसर ने कहा कि वो जनता हैं और उन्होंने रामायण दिखाने की माँग की है। रामायण, महाभारत और चाणक्य जैसे सीरियल टीवी पर बार-बार दिखाए जाने चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि जब लॉकडाउन के कारण लोग अपने घरों में बैठे हुए हैं, ऐसे में उन्हें मनोरंजन के लिए कुछ न कुछ तो चाहिए होगा न?

उन्होंने रवीश को समझाया कि आप प्रकाश जावड़ेकर और अन्य पत्रकारों को गाली क्यों दे रहे हैं? उन्होंने कहा, “देश भर में हजारों पत्रकार हैं, क्या वो सभी आपके हिसाब से बुरे हैं? क्या एक आप ही पत्रकार बचे हैं पूरे भारत में? कुल रवीश कुमार ही पत्रकार हैं?” प्रोफेसर कौशल किशोर ने रवीश कुमार को सलाह देते हुए कहा कि वो थोड़ी सकारात्मक बातें भी करें। जब प्रधानमंत्री देश की जनता की परेशानी के लिए क्षमा माँग रहे हैं, ऐसे में रवीश क्या कहते हैं कि देश की सारी जनता मर जाए? उन्होंने पूछा कि रवीश आखिर बाकी सभी पत्रकारों को गालियाँ क्यों बकते रहते हैं?

प्रोफेसर ने कहा कि रवीश कुमार को इस समय देश का साथ देना चाहिए। जबकि रवीश अभी अमेरिका और जर्मनी से तुलना करने में लगे हैं। और सच्चाई यह है कि भारत की जनसंख्या 130 करोड़ है और यहाँ तुलनात्मक रूप से कम क्षति हुई है। उन्होंने रवीश से कहा कि वो खूब प्रश्न पूछें लेकिन सुझाव भी दें क्योंकि सिर्फ़ सवाल पूछना ही एक पत्रकार का कार्य नहीं है बल्कि समस्या का समाधान करना भी एक पत्रकार का काम है। उन्होंने रवीश से अपील करते हुए कहा कि वो अपनी भाषा बदलें और देश का साथ दें, देश को बचाने में योगदान दें।

BHU के प्रोफेसर कौशल किशोर ने रवीश कुमार की ली क्लास

प्रोफेसर कौशल किशोर ने कहा कि बजाए सुझाव देने के, रवीश कुमार ऊटपटांग बातें कर रहे हैं। जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस देश को बचाने में लगे हैं, तब रवीश को भी अपनी तरफ से कोशिश करनी चाहिए। ऊपर संलग्न किए गए वीडियो में आप भी देख सकते हैं कैसे प्रोफेसर कौशल किशोर ने रवीश कुमार के प्रोपेगंडा का भोजपुरी भाषा में अच्छी तरह से सभ्य भाषा का प्रयोग करते हुए जवाब दिया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान में गणेश मंदिर तोड़ने पर भारत सख्त, सालभर में 7 मंदिर बन चुके हैं इस्लामी कट्टरपंथियों का निशाना

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में मंदिर तोड़े जाने के बाद भारत सरकार ने पाकिस्तान के शीर्ष राजनयिक को तलब किया है।

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने भी अब्दुल्ला अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान की बुद्धिमत्ता खतरे में है और तालिबान इसे ख़त्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,173FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe