Monday, May 25, 2020
होम रिपोर्ट मीडिया रवीश है खोदी पत्रकार, BHU प्रोफेसर ने भोजपुरी में विडियो बनाके रगड़ दी मिर्ची...

रवीश है खोदी पत्रकार, BHU प्रोफेसर ने भोजपुरी में विडियो बनाके रगड़ दी मिर्ची (लाल वाली)

BHU के प्रोफेसर किशोर ने भोजपुरी में रवीश को जवाब देते हुए पूछा कि रामायण पर काहे बिनबिनाएल बानी? मतलब, आप रामायण के कारण क्यों चिढ़े हुए हैं? भोजपुरी में विडियो इसलिए क्योंकि रवीश ने भी भोजपुरी में ही विडियो बना कर प्रोपेगेंडा फैलाया था।

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

प्रोपेगेंडा पत्रकार रवीश कुमार ने दूरदर्शन पर रामायण का फिर से प्रसारण किए जाने पर विरोध जताया है। बीएचयू के प्रोफेसर कौशल किशोर मिश्र ने उनके इस प्रोपेगेंडा का उन्हीं की भाषा में मुँहतोड़ जवाब दिया है। चूँकि रवीश कुमार ने भी भोजपुरी में वीडियो बना कर प्रोपेगेंडा फैलाया था, प्रोफेसर किशोर ने भी भोजपुरी में उन्हें जवाब देते हुए पूछा कि रामायण पर काहे बिनबिनाएल बानी? मतलब, आप रामायण के कारण क्यों चिढ़े हुए हैं? प्रोफेसर ने कहा कि रामायण दिखाया जा रहा है तो इस पर रवीश कुमार को मिर्ची क्यों लग रही है? उन्होंने समझाया कि भारत की जनसंख्या 130 करोड़ है, क्या सभी सड़क पर ही हैं?

उन्होंने कहा कि इतना बड़ा लॉकडाउन का निर्णय लिया गया है, ऐसे में सरकार को समय दिया जाना चाहिए ताकि समुचित व्यवस्था हो सके, इसमें बिलबिलाने की क्या ज़रूरत है? प्रोफेसर ने कहा कि वो जनता हैं और उन्होंने रामायण दिखाने की माँग की है। रामायण, महाभारत और चाणक्य जैसे सीरियल टीवी पर बार-बार दिखाए जाने चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि जब लॉकडाउन के कारण लोग अपने घरों में बैठे हुए हैं, ऐसे में उन्हें मनोरंजन के लिए कुछ न कुछ तो चाहिए होगा न?

उन्होंने रवीश को समझाया कि आप प्रकाश जावड़ेकर और अन्य पत्रकारों को गाली क्यों दे रहे हैं? उन्होंने कहा, “देश भर में हजारों पत्रकार हैं, क्या वो सभी आपके हिसाब से बुरे हैं? क्या एक आप ही पत्रकार बचे हैं पूरे भारत में? कुल रवीश कुमार ही पत्रकार हैं?” प्रोफेसर कौशल किशोर ने रवीश कुमार को सलाह देते हुए कहा कि वो थोड़ी सकारात्मक बातें भी करें। जब प्रधानमंत्री देश की जनता की परेशानी के लिए क्षमा माँग रहे हैं, ऐसे में रवीश क्या कहते हैं कि देश की सारी जनता मर जाए? उन्होंने पूछा कि रवीश आखिर बाकी सभी पत्रकारों को गालियाँ क्यों बकते रहते हैं?

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

प्रोफेसर ने कहा कि रवीश कुमार को इस समय देश का साथ देना चाहिए। जबकि रवीश अभी अमेरिका और जर्मनी से तुलना करने में लगे हैं। और सच्चाई यह है कि भारत की जनसंख्या 130 करोड़ है और यहाँ तुलनात्मक रूप से कम क्षति हुई है। उन्होंने रवीश से कहा कि वो खूब प्रश्न पूछें लेकिन सुझाव भी दें क्योंकि सिर्फ़ सवाल पूछना ही एक पत्रकार का कार्य नहीं है बल्कि समस्या का समाधान करना भी एक पत्रकार का काम है। उन्होंने रवीश से अपील करते हुए कहा कि वो अपनी भाषा बदलें और देश का साथ दें, देश को बचाने में योगदान दें।

रामायण के प्रसारण शुरू होने पर रविश कुमार जी को मिर्च लगी थी।अब बीएचयू के प्रोफेसर साहब ने उनकी छाती पर मूंग दल दिया …….

Posted by Waachal on Sunday, March 29, 2020
BHU के प्रोफेसर कौशल किशोर ने रवीश कुमार की ली क्लास

प्रोफेसर कौशल किशोर ने कहा कि बजाए सुझाव देने के, रवीश कुमार ऊटपटांग बातें कर रहे हैं। जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस देश को बचाने में लगे हैं, तब रवीश को भी अपनी तरफ से कोशिश करनी चाहिए। ऊपर संलग्न किए गए वीडियो में आप भी देख सकते हैं कैसे प्रोफेसर कौशल किशोर ने रवीश कुमार के प्रोपेगंडा का भोजपुरी भाषा में अच्छी तरह से सभ्य भाषा का प्रयोग करते हुए जवाब दिया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

पिंजरा तोड़ की दोनों सदस्य जमानत पर बाहर आईं, दिल्ली पुलिस ने फिर कर लिया गिरफ्तार: इस बार हत्या का है मामला

हिंदू विरोधी दंगों को भड़काने के आरोप में पिंजरा तोड़ की देवांगना कालिता और नताशा नरवाल को दिल्ली पुलिस ने फिर गिरफ्तार कर...

जिन लोगों ने राम को भुलाया, आज वे न घर के हैं और न घाट के: मीडिया संग वेबिनार में CM योगी

"हमारे लिए राम और रोटी दोनों महत्वपूर्ण हैं। राज्य सरकार ने इस कार्य को बखूबी निभाया है। जिन लोगों ने राम को भुलाया है, वे घर के हैं न घाट के।"

Covid-19: 24 घंटों में 6767 संक्रमित, 147 की मौत, देश में लगातार दूसरे दिन कोरोना के रिकॉर्ड मामले सामने आए

इस समय देश में संक्रमितों की संख्या 1,31,868 हो चुकी है। अब तक 3867 लोगों की मौत हुई है। 54,440 लोग ठीक हो चुके हैं।

केजरीवाल सरकार जो बता रही उससे तीन गुना ज्यादा दिल्ली में कोरोना से मरे: MCD नेताओं ने आँकड़े छिपाने का लगाया आरोप

"MCD के आँकड़े मिला दिए जाए तो 21 मई तक कोरोना से दिल्ली में 591 मौतें हो चुकी थी। यह दिल्ली सरकार के आँकड़ों का तीन गुना है।"

हम सब डरे हैं, MLA झूठी शिकायत करती हैं: विष्णुदत्त विश्नोई की आत्महत्या के बाद पूरे थाने ने माँगा ट्रांसफर

विष्णुदत्त विश्नोई की आत्महत्या के बाद राजगढ़ थाने में तैनात पुलिसकर्मियों ने बीकानेर आईजी को पत्र लिखकर सामूहिक ताबदले की गुहार लगाई है।

दिल्ली के LNJP अस्पताल के बाहर ठेले पर ही शव ले जाते दिखे दो लोग, वीडियो ने खोली केजरीवाल की व्यवस्थाओं की पोल

जानकारी के मुताबिक उक्त वीडियो एलएनजेपी अस्पताल के गेट नंबर चार की है। इस वीडियो को गाड़ी में बैठकर सुनील कुमार एलेडिया ने अपने मोबाइल से बनाया है।

प्रचलित ख़बरें

गोरखपुर में चौथी के बच्चों ने पढ़ा- पाकिस्तान हमारी प्रिय मातृभूमि है, पढ़ाने वाली हैं शादाब खानम

गोरखपुर के एक स्कूल के बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई के लिए बने व्हाट्सएप ग्रुप में शादाब खानम ने संज्ञा समझाते-समझाते पाकिस्तान प्रेम का पाठ पढ़ा डाला।

‘न्यूजलॉन्ड्री! तुम पत्रकारिता का सबसे गिरा स्वरुप हो’ कोरोना संक्रमित को फ़ोन कर सुधीर चौधरी के विरोध में कहने को विवश कर रहा NL

जी न्यूज़ के स्टाफ ने खुलासा किया है कि फर्जी ख़बरें चलाने वाले 'न्यूजलॉन्ड्री' के लोग उन्हें लगातार फ़ोन और व्हाट्सऐप पर सुधीर चौधरी के खिलाफ बयान देने के लिए विवश कर रहे हैं।

रवीश ने 2 दिन में शेयर किए 2 फेक न्यूज! एक के लिए कहा: इसे हिन्दी के लाखों पाठकों तक पहुँचा दें

NDTV के पत्रकार रवीश कुमार ने 2 दिन में फेसबुक पर दो बार फेक न्यूज़ शेयर किया। दोनों ही बार फैक्ट-चेक होने के कारण उनकी पोल खुल गई। फिर भी...

राजस्थान के ‘सबसे जाँबाज’ SHO विष्णुदत्त विश्नोई की आत्महत्या: एथलीट से कॉन्ग्रेस MLA बनी कृष्णा पूनिया पर उठी उँगली

विष्णुदत्त विश्नोई दबंग अफसर माने जाते थे। उनके वायरल चैट और सुसाइड नोट के बाद कॉन्ग्रेस विधायक कृष्णा पूनिया पर सवाल उठ रहे हैं।

तब भंवरी बनी थी मुसीबत का फंदा, अब विष्णुदत्त विश्नोई सुसाइड केस में उलझी राजस्थान की कॉन्ग्रेस सरकार

जिस अफसर की पोस्टिंग ही पब्लिक डिमांड पर होती रही हो उसकी आत्महत्या पर सवाल उठने लाजिमी हैं। इन सवालों की छाया सीधे गहलोत सरकार पर है।

हमसे जुड़ें

206,713FansLike
60,071FollowersFollow
241,000SubscribersSubscribe
Advertisements