Thursday, July 25, 2024
Homeरिपोर्टमीडियाबरखा दत्त की 'द मोजो स्टोरी' सहित 8 ट्विटर अकाउंट के खिलाफ UP पुलिस...

बरखा दत्त की ‘द मोजो स्टोरी’ सहित 8 ट्विटर अकाउंट के खिलाफ UP पुलिस ने दर्ज की FIR, उन्नाव मामले में फैलाई फर्जी खबर

उन्नाव पुलिस ने कहा था कि ट्वीट में दावा किया गया कि पुलिस रात में लड़कियों का अंतिम संस्कार करना चाहती थी, जो भ्रामक था। दोनों लड़कियों का अंतिम संस्कार परिजनों द्वारा विधिपूर्वक किया गया है।

उन्नाव पुलिस ने तीन दलित लड़कियों को जहर दिए जाने वाली खबर पर फर्जी खबर फैलाने के आरोप में 21 फरवरी को आठ ट्विटर अकाउंट पर एफआईआर दर्ज की है। बता दें कि तीन लड़कियों में से दो की मौत हो गई, जबकि तीसरी बहन अस्पताल में भर्ती है और उसका इलाज चल रहा है।

FIR में कहा गया है कि इन ट्विटर अकाउंट्स ने झूठी जानकारी फैलाई थी कि इन लड़कियों का बलात्कार किया गया था, जबकि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में साफ तौर पर इससे इनकार किया गया। इन ट्विटर अकाउंट ने उनके शवों का घर वालों की मर्जी के खिलाफ अंतिम संस्कार किए जाने जैसी अफवाह फैलाकर आम जनता में आक्रोश पैदा करने का भी प्रयास किया।

भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 153 और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 66 के तहत ‘द मोजो स्टोरी’ (बरखा दत्त की समाचार एजेंसी), निलिम दत्ता (यूनीफाइड पीपुल्स मूवमेंट के अध्यक्ष), @janjagranlive (जनजागरण लाइव- समाचार एजेंसी), SurajKrBaudh (आज़ाद समाज पार्टी का प्रवक्ता), @VijayAmbedkarUP (जय भीम आईटी टीम), @Abhaykumarazad9 (भीम आर्मी सदस्य), @Rahuldkkr (गाडगे यूथ ब्रिगेड नेता) और @BhimSenaChief (नवाब सतपाल तंवर) के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

उत्तर प्रदेश फैक्ट चेक ने बरखा दत्त के ट्वीट को किया खारिज

19 फरवरी को, उत्तर प्रदेश सरकार के ही ‘उत्तर प्रदेश फैक्ट चेक’ अकाउंट ने बरखा दत्त द्वारा पोस्ट किए गए एक कथित फर्जी ट्वीट को खारिज कर दिया था। उन्नाव पुलिस ने कहा था कि ट्वीट में दावा किया गया कि पुलिस रात में लड़कियों का अंतिम संस्कार करना चाहती थी, जो भ्रामक था। दोनों लड़कियों का अंतिम संस्कार परिजनों द्वारा विधिपूर्वक किया गया है।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक विनोद कुमार पांडे ने अपने बयान में कहा कि उन्नाव मामले के संबंध में आठ लोगों के खिलाफ भ्रामक प्रचार करने और सोशल मीडिया पर गलत जानकारी देकर भड़काने के आरोप में मामला दर्ज किया गया।

उत्तर प्रदेश में उन्नाव जिले के असोहा थाना अंतर्गत बबुरहा गाँव में कल एक खेत में तीन दलित लड़कियाँ बेहोशी की अवस्था में पड़ी मिली थी। उनमें से दो को कथित तौर पर डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया, जबकि एक की हालत गंभीर है और जिला अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है।

उन्नाव केस

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिला स्थित बबुरहा गाँव में बुधवार (फरवरी 17, 2021) की शाम 13 और 16 वर्ष की आयु की दो लड़कियों (क्रमशः, काजल और कोमल) के शव खेत में पड़े मिले। इनके अलावा, एक 17 वर्षीय लड़की रोशनी, गंभीर हालत में पाई गई, जिसका कि कानपुर के अस्पताल में इलाज चल रहा है।

दोनों किशोरियों का पोस्टमॉर्टम करने वाले डाक्टरों का कहना था कि दोनों किशोरियों की मौत जहरीला पदार्थ खाने से हुई है। दोनों ने मौत से करीब 6 घंटे पहले खाना खाया था। दोनों के पेट में 100 से लेकर 80 ग्राम तक खाना मिला है। खाने में जहर होने की वजह से मौत हो गई।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

खालिस्तानी अमृतपाल के लिए संसद में पूर्व CM चन्नी की बैटिंग, सिख किसान नेताओं के साथ राहुल गाँधी की बैठक: क्या पका रही है...

बकौल चरणजीत सिंह चन्नी, अमृतपाल पर NSA लगाना 'अभिव्यक्ति की आज़ादी' के खिलाफ है। वो खालिस्तानी अमृतपाल सिंह की गिरफ़्तारी को आपातकाल बता रहे हैं।

अखलाक की मौत हर मीडिया के लिए बड़ी खबर… लेकिन मुहर्रम पर बवाल, फिर मस्जिद के भीतर तेजराम की हत्या पर चुप्पी: जानें कैसे...

बरेली में एक गाँव गौसगंज में तेजराम नाम के एक युवक की मुस्लिम भीड़ ने मॉब लिंचिंग कर दी। इलाज के दौरान तेजराम की मौत हो गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -