Thursday, July 25, 2024
Homeरिपोर्टमीडियाआज हुए चुनाव तो NDA को 321 सीटें: अपने ही चैनल के सर्वे से...

आज हुए चुनाव तो NDA को 321 सीटें: अपने ही चैनल के सर्वे से राजदीप परेशान, ट्विटर पर निकाली भड़ास

सर्वे में भाग लेने वाले देश के लगभग तीन-चौथाई नागरिक मोदी सरकार द्वारा आर्थिक संकट से निपटने की नीति को लेकर खुश है। मूड ऑफ द नेशन पोल में पाया गया है कि 73 प्रतिशत भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा देश में कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए किए गए कार्यों से संतुष्ट हैं।

इंडिया टुडे ने जनता की द्विवार्षिक राय जानने के लिए ‘मूड ऑफ द नेशन’ नाम से एक पोल कराया। 2021 का पहला पोल इंडिया टुडे द्वारा कल जारी किया गया। लेकिन जो परिणाम आए वह तथाकथित ‘धर्मनिरपेक्ष-उदारवादी’ मीडिया के लोगों के लिए काफी चौकाने वाले निकले। क्योंकि लिबरल गिरोह तो शायद यह उम्मीद कर रहे थे कि महामारी और उसके बाद के आर्थिक स्थिति के चलते भारतीय नागरिक मोदी सरकार से नफरत करने लगे होंगे।

चीन से फैले महामारी के लगभग एक साल बाद, इंडिया टुडे-कर्वे इनसाइट्स ने अपने द्विवार्षिक ‘मूड ऑफ द नेशन’ पोल करवाया। गुरुवार को प्रकाशित पोल के परिणामों से यह बात साबित हुई कि कोरोनावायरस महामारी को लेकर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उठाए गए कदमों पर भारतीयों ने अपनी संतुष्टि व्यक्त की है।

इंडिया टुडे कर्वे इनसाइट्स ‘मूड ऑफ द नेशन’ सर्वे

इंडिया टुडे-कर्वे इनसाइट्स मूड ऑफ द नेशन पोल के अनुसार, सर्वे में भाग लेने वाले देश के लगभग तीन-चौथाई नागरिक मोदी सरकार द्वारा आर्थिक संकट से निपटने की नीति को लेकर खुश है। MOTN सर्वे में पाया गया है कि 73 प्रतिशत भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा देश में कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए किए गए कार्यों से संतुष्ट हैं।

सर्वे में कहा गया है कि 23% रेस्पोंडेंट ने कहा कि मोदी सरकार का काम आउटस्टैंडिंग रहा, जबकि 50% ने इसे अच्छा माना। अप्रूवल रेटिंग के संदर्भ में, 74% भारतीय पीएम मोदी से खुश हैं। गौरतलब है कि जहाँ अगस्त 2020 के सर्वेक्षण में 78% का आँकड़ा सामने आया था, वहीं इस बार के आँकड़े में यह बस एक मामूली सी गिरावट है।

साभार: India Today

MOTN सर्वे में कहा गया है कि केंद्र सरकार ने महामारी की वजह से आर्थिक संकट को जिस तरह से हैंडल किया उससे 67 फीसदी भारतीय संतुष्ट हैं। 20% रेस्पोंडेंट ने इसे आउटस्टैंडिंग कहा तो वहीं 47% भारतीयों ने इसे अच्छा प्रदर्शन कहा। इसके अलावा MOTN पोल ने यह भी कहा कि 66 प्रतिशत रेस्पोंडेंट ने कहा कि महामारी के कारण उनकी इनकम कम हुई है, जबकि 19 प्रतिशत ने कहा कि उन्होंने इस दौरान अपनी नौकरियाँ खो दी हैं।

साथ ही सर्वे में यह भी अनुमान लगाया गया है कि अगर आज चुनाव करवाया जाए तो भाजपा भारी बहुमत से सत्ता में वापसी करेगी। द मूड ऑफ द नेशन पोल के मुताबिक बीजेपी 291 सीटें जीतेगी, जोकि अगस्त 2020 में मिले सीटों से आठ सीटे से ज्यादा है। अभी आए MOTN सर्वेक्षण के अनुसार, भाजपा की अगुवाई वाला राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) लगभग 321 सीटें जीतेगी, जोकि अगस्त में 316 था।

अमित शाह के लिए भी नतीजे चौकाने वाले निकले

MOTN सर्वेक्षण ने गृह मंत्री अमित शाह को मोदी सरकार में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाला मंत्री माना है। सर्वे प्रतिभागियों में से 39% ने शाह के पक्ष में मतदान किया है। उनके बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह 17%, तो वहीं 10% के साथ नितिन गडकरी चौथे स्थान पर रहे।

इंडिया टुडे

अपने ही चैनल का सर्वे देखकर राजदीप हुए हैरान-परेशान

जैसे ही इंडिया टुडे ने गुरुवार को अपने शो में इन उपरोक्त नंबरों को प्रकाशित किया, राजदीप सरदेसाई हैरान रह गए। राजदीप सरदेसाई ने अपने मन की भड़ास ट्विटर पर निकालते हुए कहा कि यह उनके लिए ‘चौंकाने वाला’ था कि आर्थिक संकट और करोना महामारी के बावजूद पोल के नतीजों में भारतीयों ने मोदी सरकार के कामों सराहना की है।

राजदीप सरदेसाई ने सर्वेक्षण पर टिप्पणी करते हुए कहा कि वह सर्वे पर विश्वास ही नहीं कर पा रहे क्योंकि लगभग 85% लोग लॉकडाउन में अपनी आजीविका के अवसरों को खोने के बावजूद आर्थिक संकट से निपटने के लिए दो तिहाई से अधिक लोग सरकार की सराहना कर रहे हैं।

अपने शो में राजदीप सरदेसाई ने कहा, “चलो बहुत स्पष्ट तौर पर बताते है कि COVID के समय के दौरान इनकम में 66% की कमी आई, 19% लोग कहते हैं कि उन्होंने अपनी नौकरी खो दी। और फिर भी इस सर्वे से पता चलता है कि लोग जीवन बचाने के लिए सरकार की सराहना कर रहे है। एक तरह वे अपनी आजीविका के लिए चिंतित हैं, लेकिन साथ ही, वे यह कहने को तैयार नहीं हैं कि केंद्र गलत तरीके से काम कर रहा है। मेरे पास अभी भी इस मामले में तर्कसंगत व्याख्या नहीं है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वकील चलाता था वेश्यालय, पुलिस ने की कार्रवाई तो पहुँचा हाई कोर्ट: जज ने कहा- इसके कागज चेक करो, लगाया ₹10000 का जुर्माना

मद्रास हाई कोर्ट में एक वकील ने अपने वेश्यालय पर कार्रवाई के खिलाफ याचिका दायर की। कोर्ट ने याचिका खारिज करके ₹10,000 का जुर्माना लगा दिया।

माजिद फ्रीमैन पर आतंक का आरोप: ‘कश्मीर टाइप हिंदू कुत्तों का सफाया’ वाले पोस्ट और लेस्टर में भड़की हिंसा, इस्लामी आतंकी संगठन हमास का...

ब्रिटेन के लेस्टर में हिन्दुओं के विरुद्ध हिंसा भड़काने वाले माजिद फ्रीमैन पर सुरक्षा एजेंसियों ने आतंक को बढ़ावा देने का आरोप लगाया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -