Saturday, May 25, 2024
Homeरिपोर्टमीडिया'बहन' से रेप का आरोपित जावेद 'हीरो', कोरोना पीड़ित के लिए बलिदान देने वाले...

‘बहन’ से रेप का आरोपित जावेद ‘हीरो’, कोरोना पीड़ित के लिए बलिदान देने वाले RSS कार्यकर्ता को ‘फैक्ट चेक’ के नाम पर किया गया था बदनाम

‘इंडियन एक्सप्रेस’ की भी इस खबर में हॉस्पिटल के बयान के बावजूद भ्रम फैलाया गया और दाभाडकर के एक परिजन से बयान के लिए दबाव बनाया गया, जबकि वो खुद कोरोना संक्रमित थे।

आज एक खबर सामने आई जिसमें जावेद खान नाम के एक ऐसे व्यक्ति पर भोपाल में 10 मई, 2022 को ‘बहन’ से बलात्कार के आरोप में मामला दर्ज किया गया है। यह वही जावेद खान है जिसे मीडिया गिरोह ने कभी अपने ऑटो को एक अस्थायी एम्बुलेंस में बदलने के लिए एक कोविड योद्धा का दर्जा देते हुए स्टार बना दिया था। तब जावेद खान ने दावा किया था कि उसने कम से कम 15 लोगों को नजदीकी अस्पताल ले जाकर बचा लिया। जिसके लिए अंतरराष्ट्रीय संगठनों, लिबरलों और मशहूर वामपंथी हस्तियों सहित अनगिनत मीडिया संगठनों ने न सिर्फ स्वागत किया बल्कि खूब कवरेज भी दिया।

News9 ने एक ट्वीट में कहा था, “भोपाल के ऑटो चालक जावेद खान ने अपने ऑटो को एम्बुलेंस में बदल दिया है और मरीजों को मुफ्त अस्पताल ले जाते हैं। उनका कहना है कि उन्होंने एम्बुलेंस बनाने के लिए अपनी पत्नी के गहने बेचे ताकि वह जरूरतमंद लोगों की मदद कर सकें क्योंकि मध्य प्रदेश में एम्बुलेंस की भारी कमी है।”

टीम एसओएस इंडिया ने लिखा था, ‘भोपाल निवासी ऑटो चालक जावेद खान ने अपनी पत्नी के जेवर बेचकर अपने ऑटो को एंबुलेंस बना दिया है। जावेद जी मरीजों को मुफ्त में अस्पताल ले जाते हैं। हम उसे सलाम करते हैं।”

वहीं एशियानेट ने जावेद खान पर एक वीडियो स्टोरी प्रकाशित की थी। उन्होंने एक वीडियो दिखाया जिसमें जावेद बता रहा था कि कैसे उसने अपने ऑटो को एम्बुलेंस में बदल दिया।

ग्रीन बेल्ट एंड रोड इंस्टीट्यूट के अध्यक्ष एरिक सोलहेम ने कहा, “भारत में बहुत सारे कोविड नायक हैं! भोपाल में इस ऑटो-रिक्शा चालक जावेद खान ने अपने वाहन को ऑक्सीजन से भरपूर एम्बुलेंस में बदल दिया है और वह लोगों की मुफ्त में सेवा करता है। खान रोजाना करीब 600 रुपए ऑक्सीजन भरने में खर्च करते हैं।”

अमेरिका में संदिग्ध भारत विरोधी संगठन इंडियन अमेरिकन मुस्लिम काउंसिल ने भी जावेद पर शेयर किए गए एक ट्वीट में लिखा, “भारत के मध्य प्रदेश राज्य के एक शहर भोपाल के मोहम्मद जावेद खान ने भारी ऑक्सीजन संकट के बीच COVID रोगियों की मुफ्त में मदद करने के लिए अपने ऑटो-रिक्शा को एक छोटी सी एम्बुलेंस में बदल दिया।”

एएफपी न्यूज एजेंसी ने भी जावेद की कहानी को कवर करते हुए लिखा, “जब भोपाल में ऑटो-रिक्शा चालक मोहम्मद जावेद खान ने लोगों को कोरोना से पीड़ित अपने माता-पिता को अस्पताल ले जाते देखा क्योंकि वे एम्बुलेंस का खर्च उठाने में सक्षम नहीं थे, तो उन्होंने अपना तिपहिया वाहन एक ऑक्सीजन सिलेंडर, एक ऑक्सीमीटर और अन्य चिकित्सा उपकरण फिट करके एक एम्बुलेंस में बदल दिया।”

विवादास्पद मकतूब मीडिया ने लिखा, “भोपाल के एक ऑटोरिक्शा चालक जावेद खान के बारे में खबर के अगले ही दिन, जिसने COVID-19 रोगियों के लिए अपने ऑटोरिक्शा को एम्बुलेंस में बदलने के लिए अपनी पत्नी के गहने बेच दिए और इंटरनेट पर छा गए, आज अस्पताल ले जाते हुए उन्हें मध्य प्रदेश पुलिस ने रास्ते में हिरासत में ले लिया।”

बीबीसी संवाददाता मेघा मोहन ने भी जावेद खान की तारीफ की थी।

हिन्दुस्तान टाइम्स ने भी उन पर एक वीडियो स्टोरी करते हुए लिखा, “मध्य प्रदेश के भोपाल में एक शख्स ने अपने तिपहिया वाहन को एंबुलेंस जैसी गाड़ी में बदल दिया है। ऑटो चालक जावेद खान कोविड मरीजों को नि:शुल्क एंबुलेंस सेवा मुहैया करा रहे हैं। खान का ऑटो ऑक्सीजन सिलेंडर, पीपीई किट, सैनिटाइजर और ऑक्सीमीटर से लैस है।”

विवादास्पद मीडिया हाउस मिल्ली गजट के संस्थापक जफरुल-इस्लाम खान ने भी लिखा था, “बड़े दिल वाला आदमी: ऑटो रिक्शा से एम्बुलेंस बनाया, जावेद खान भोपाल में मुफ्त सेवा प्रदान करते हैं। खान ने परिवार के सदस्यों के आग्रह पर की पहल, आजकल शहर के चारों ओर कोविड मरीजों को मुफ्त में सेवा दे रहे हैं। ”

अलजज़ीरा ने लिखा, “जैसा कि भारत कोरोनोवायरस महामारी की दूसरी लहर के तहत संघर्ष कर रहा है, मोहम्मद जावेद खान ने अपने ऑटो-रिक्शा को एक छोटी एम्बुलेंस में बदल दिया है, जो आशा की किरण है।”

जावेद खान एक नायक थे, लेकिन आरएसएस के नारायण दाभाडकर मीडिया गिरोह के लिए ‘संदिग्ध’

यहाँ किसी किसी भी मीडिया हाउस, मशहूर हस्ती, पत्रकार आदि ने जावेद खान की मंशा पर सवाल नहीं उठाया। हालाँकि, उसी दौरान एक और रिपोर्ट सामने आई थी कि आरएसएस के एक स्वयंसेवक ने एक और कोविड मरीज को बचाने के लिए अपनी जान कुर्बान कर दी थी।

पूरा मामला यूँ है कि एक आरएसएस स्वयंसेवक नारायण दाभाडकर, जिन्होंने अपना पूरा जीवन समाज की सेवा में बिताया, महामारी की दूसरी लहर के बीच कोविड से संक्रमित होते हैं। जैसे ही उनका SPO2 का स्तर गिरा, उनकी बेटी ने उन्हें शहर के किसी हॉस्पिटल में बेड दिलाने की कोशिश की। उनकी बेटी किसी तरह इंदिरा गाँधी अस्पताल में उनके लिए बेड दिलाने में कामयाब रही। हालाँकि, जब वे अस्पताल पहुँचे, दाभाडकर काका जैसा कि उन्हें प्यार से जाना जाता था, ने देखा कि 40 साल की एक महिला अपने बच्चों के साथ रो रही थी और अस्पताल के अधिकारियों से अपने पति को भर्ती करने के लिए बेड के लिए मिन्नतें कर रही थी, जो गंभीर स्थिति में थे।

दाभाडकर काका ने बिना कुछ सोचे-समझे शांति से डॉक्टरों को सूचित किया कि उनका बेड महिला के पति को दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, “मैं अब 85 वर्ष का हूँ, मैंने अपना जीवन जी लिया है, इसके बजाय आप इस आदमी को बेड दे दें, इनके बच्चों को इसकी आवश्यकता है।”

उसने अपने परिवार के सदस्यों से उन्हें घर वापस ले जाने के लिए कहा, जहाँ उन्होंने अगले तीन दिनों तक बहादुरी से वायरस से लड़ाई लड़ी, जिसके बाद उन्होंने अपना शरीर छोड़ दिया।

आरएसएस कार्यकर्ता नारायण दाभाडकर के बलिदान पर मीडिया संगठनों ने जताया संदेह

जबकि मेनस्ट्रीम मीडिया और लेफ्ट-लिबरल उनके बलिदान से स्पष्ट रूप से हैरान थे और उन्होंने इसमें में फैक्ट चेक करने का फैसला किया। जहाँ लोकसत्ता ने पुणे के एक तथाकथित सामाजिक कार्यकर्ता शिवराम थावरे की नागपुर के इंदिरा गाँधी अस्पताल के अधीक्षक अजय प्रसाद के साथ बातचीत के आधार पर इसका फैक्ट चेक किया। इंदिरा गाँधी अस्पताल ने उन्हें सूचित किया था कि उनके अस्पताल में भर्ती नारायण धाबड़कर के नाम का कोई मरीज नहीं है। हालाँकि, यह स्पष्ट नहीं था कि ‘सामाजिक कार्यकर्ता’ ने नागपुर नगर निगम द्वारा संचालित इंदिरा गाँधी अस्पताल से संपर्क किया, जहाँ नारायण दाभाडकर भर्ती थे। बता दें कि इंदिरा गाँधी सरकारी अस्पताल, जो महाराष्ट्र सरकार द्वारा संचालित है, जहाँ उन्हें स्पष्ट रूप से एक मरीज के रूप में भर्ती नहीं किया गया था।

गौरतलब है कि दाभाडकर काका की बेटी ने एक वीडियो जारी कर इस बारे में बताया। वीडियो में, उन्होंने कहा कि उनका इंदिरा गाँधी म्युनिसिपल अस्पताल में इलाज चल रहा था, और उनकी हालत दिन-ब-दिन बिगड़ती जा रही थी। डॉक्टरों ने उनकी बिगड़ती हालत की जानकारी दी थी। इलाज के दौरान, उन्होंने अपने प्रियजनों के लिए बेड तलाशते लोगों की अफरा-तफरी सुनी। तभी धाबडकर काका ने यह कहते हुए अपना बिस्तर खाली करने का फैसला किया कि वह पहले से ही एक पूर्ण जीवन जी चुके हैं, और किसी भी अस्पताल में उनके लिए रिज़र्व बेड का इस्तेमाल किसी और के इलाज के लिए किया जा सकता है।

इंडियन एक्सप्रेस ने भी फैक्ट चेक किया था, जहाँ उन्होंने इस स्टोरी को सच पाया। तब हॉस्पिटल के इंचार्ज डॉक्टर ने कहा कि उन्हें कारण तो नहीं पता, लेकिन उन्हें बेहतर अस्पताल में ले जाने के लिए ज़रूर कहा गया था। उनके दामाद अमोल पाचपोर ने डिस्चार्ज लेटर पर हस्ताक्षर किए, जिसके बाद उन्हें डिस्चार्ज किया गया था। लेकिन ‘इंडियन एक्सप्रेस’ की भी इस खबर में हॉस्पिटल के बयान के बावजूद भ्रम फैलाया गया और दाभाडकर के एक परिजन से बयान के लिए दबाव बनाया गया, जबकि वो खुद कोरोना संक्रमित थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

OBC आरक्षण में मुस्लिम घुसपैठ पर कलकत्ता हाई कोर्ट का फैसला देश की आँख खोलने वाला: PM मोदी ने कहा – मेहनती विपक्षी संसद...

पीएम मोदी ने कहा कि मेरे लिए मेरे देश की 140 करोड़ जनता साकार ईश्वर का रूप है। सरकार और राजनीति दलों को जनता प्रति उत्तरदायी होना चाहिए।

SFI के गुंडों के बीच अवैध संबंध, ड्रग्स बिजनेस… जिस महिला प्रिंसिपल ने उठाई आवाज, केरल सरकार ने उनका पैसा-पोस्ट सब छीना, हाई कोर्ट...

कागरगोड कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ रेमा एम ने कहा था कि उन्होंने छात्र-छात्राओं को शारीरिक संबंध बनाते देखा है और वो कैंपस में ड्रग्स भी इस्तेमाल करते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -