Friday, July 19, 2024
Homeरिपोर्टमीडियाजानवर के मल को 'अंडेनुमा गोला' बताकर हुई सनसनी पत्रकारिता: कानपुर पुलिस के ट्वीट...

जानवर के मल को ‘अंडेनुमा गोला’ बताकर हुई सनसनी पत्रकारिता: कानपुर पुलिस के ट्वीट के बाद NBT के पत्रकार का बना मजाक

नवभारत टाइम्स के पत्रकार ने कानपुर के बिल्हौरा में अंडानुमा जैसी चीज दिखने की वीडियो शेयर करते हुए यूपी पुलिस को टैग किया, जिसके बाद कानपुर के पुलिस कमिश्नर के हैंडल से जवाब आया कि ये किसी जानवर का मल है।

कानपुर के बिल्हौर के एक गाँव को लेकर नवभारत टाइम्स के एक पत्रकार ने हाल में सोशल मीडिया पर एक पोस्ट किया। इस पोस्ट में दिखाया गया कि कैसे बिल्हौर के एक गाँव में अंडेनुमा गोले मिले हैं और ग्रामीण इसे लेकर अलग-अलग चर्चा कर रहे हैं। पत्रकार ने अपने ट्वीट में ये भी बताया कि पुलिस सूचना होने पर इसे  देखने आई थी और जाँच के बाद चौंकाने वाले खुलासे हुए।

पत्रकार का नाम सुमित शर्मा है। वह नवभारत टाइम्स के लिए काम करते हैं। उन्होंने यूपी पुलिस को टैग करके ये वीडियो डाली।  उन्होंने लिखा, “कानपुर के बिल्हौर के एक गाँव में मिले अंडेनुमा गोले… ग्रामीणों में तरह-तरह की चर्चा… पुलिस के पहुँचने पर हुआ चौंकाने वाला खुलासा।”

इस ट्वीट को चूँकि उन्होंने यूपी पुलिस को भी टैग किया था तो इस पर कानपुर पुलिस कमिश्नर की भी प्रतिक्रिया आई। उन्होंने वीडियो पर जो जवाब दिया उसके कारण अब पत्रकार का मजाक बन रहा है और कहा जा रहा है कि हर बात को सनसनी बनाकर नहीं पेश करना चाहिए।

दरअसल कानपुर पुलिस कमिश्नर ने कहा था, “कुछ भी संदिग्ध नहीं है, ये किसी जानवर का मल है।”

इस ट्वीट के आते ही प्रतिक्रियाओं की भरमार लग गई।  इकोनॉमिक टाइम्स की पत्रकार अनुराधा शुक्ला ने लिखा, “ये बहुत ज्यादा कमाल था।”

रतन लाल ने कहा, “मेरे दादाजी की मौत हो गई। मैं अर्थी को कंधो पर लेकर जा रहा हूँ। लेकिन  यह ट्वीट देखने के बाद अब हँसता हँसता जा रहा हूँ।”

विष्णु ने कहा, “शायद ये डायनासोर का मल होगा। मुझे नहीं लगता कि कोई जानवर इतना बड़ा ठोस, गोलाकार मल करता होगा।”

एक यूजर ने कानपुर पुलिस कमिश्नर से कहा, “आप तो खुलासा कर दिए। अभी तो साहब सनसनी बना ही रहे थे।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -