Tuesday, August 9, 2022
Homeरिपोर्टमीडिया'भारत जल्द बनेगा $30 ट्रिलियन की इकोनॉमी' : देश का मजाक उड़वाने के लिए...

‘भारत जल्द बनेगा $30 ट्रिलियन की इकोनॉमी’ : देश का मजाक उड़वाने के लिए NDTV ने पीयूष गोयल के बयान से की छेड़छाड़, पोल खुलने पर भी सुधार नहीं

केंद्रीय मंत्री के बयान से उलट एनडीटीवी ने अपनी रिपोर्ट के शीर्षक में दिखाया है कि केंद्रीय मंत्री देश को 30 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनाने का दावा कर रहे हैं वो भी बहुत जल्द है। यही वजह है कि लोग भारत सरकार पर उंगली उठा रहे हैं।

किसी के बयान को तोड़-मरोड़ कर फेक न्यूज फैलाने में माहिर NDTV ने इस बार केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल के बयान से छेड़छाड़ की है। NDTV ने तथ्यों को किनारे करके पीयूष गोयल के नाम पर लिखा कि उन्होंने ये कहा है कि देश जल्द ही $30 ट्रिलियन की इकोनॉमी बनेगा।

इस ट्वीट को देखने के बाद NDTV के पाठक केंद्र सरकार का मजाक उड़ाने में फिर जुट गए। बताया जाने लगा कि भारत सरकार सिर्फ बातें बनाने का काम करती है और अब तक पिछले वादों को भी पूरा नहीं कर सकी है। किसी-किसी ने तो ये भी कहा कि देश 30 ट्रिलियन इकोनॉमी बनने की बजाय $30 ट्रिलियन कर्जे में डूब जाएगा।

अब देखें तो ये भारत के जल्द ही $30 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनने की बात एनडीटीवी की तरह ही कुछ मीडिया पोर्टल्स ने भी अपने शीर्षक में की। लेकिन हकीकत क्या है? इसे जानने के लिए पीयूष गोयल का वो ओरिजनल बयान देखना होगा जिसे लेकर एनडीटीवी जैसे संस्थानों ने ऐसी जानकारी फैलाई कि लोग सरकार के साथ देश का मजाक बनाने लगे।

पीयूष गोयल ने अपने बयान में कहा था, “अगर भारत हर साल कंपाउंडेड एनुअल ग्रोथ के आधार पर 8 फीसद की दर से बढ़ता है तो अर्थव्यवस्था 9 सालों में दोगुनी होकर $6.5 ट्रिलियन हो जाएगी। 18 सालों में यह $13 ट्रिलियन होगी, 27 सालों में $26 ट्रिलियन और 30 साल बाद ये बढ़कर $30 ट्रिलियन हो सकती है।”

अब केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल के बयान को पढ़ें तो पता चलेगा कि उन्होंने कहीं पर भी एनडीटीवी वाला दावा नहीं किया। बल्कि उन्होंने एक सुनहरे भविष्य की कल्पना की अनुमान पर की है। उन्होंने कहा है कि अगर देश की अर्थव्यवस्था एक तय दर से बढ़ेगी तो 30 साल बाद वो समय भी आएगा जब भारत $30 ट्रिलियन की इकोनॉमी होगी।

केंद्रीय मंत्री के बयान से उलट एनडीटीवी ने अपनी रिपोर्ट के शीर्षक में दिखाया है कि केंद्रीय मंत्री देश को 30 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनाने का दावा कर रहे हैं वो भी बहुत जल्द है। यही वजह है कि लोग भारत सरकार पर उंगली उठा रहे हैं कि 3 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी 30 ट्रिलियन डॉलर तक कैसे पहुँच सकती है।

बता दें कि सोशल मीडिया पर तमाम यूजर्स द्वारा एनडीटीवी की यह पोल खोले जाने के बावजूद अभी तक एनडीटीवी ने इस खबर के लिखे जाने तक अपनी खबर की भाषा में कोई बदलाव नहीं किया है। उनकी खबर से अब भी साफ नहीं है कि ये देश के 30 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी होने की बात 30 सालों को लेकर कही गई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केजरीवाल ने दिए 9 साल में सिर्फ 857 ऑनलाइन जॉब्स, चुनावी राज्यों में लाखों नौकरियों के वादे: RTI से खुलासा

केजरीवाल के रोजगार को लेकर बड़े-बड़े वादों और विज्ञापनों की पोल दिल्ली में नौकरियों पर डाले गए एक RTI ने खोल दी है।

जब सिंध में हिन्दुओं-सिखों का हो रहा था कत्लेआम, 10000 स्वयंसेवकों के साथ पहुँचे थे ‘गुरुजी’: भारत-Pak विभाजन के समय कहाँ थे कॉन्ग्रेस नेता?

विभाजन के दौरान पाकिस्तान में हिन्दुओं-सिखों की मदद के लिए न आई कोई राजनीतिक पार्टियाँ और ना ही आए वह नेता, जो उस समय इतिहास में खुद को दर्ज कराना चाहते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
212,538FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe