Friday, October 22, 2021
Homeरिपोर्टमीडियावीर सावरकर पर अपमानजनक लेख के लिए THE WEEK ने 5 साल बाद माँगी...

वीर सावरकर पर अपमानजनक लेख के लिए THE WEEK ने 5 साल बाद माँगी माफी: जानें क्या है मामला

“हम वीर सावरकर को अति सम्मानित श्रेणी में रखते हैं। यदि इस लेख से किसी व्यक्ति को कोई व्यक्तिगत चोट पहुँची है, तो पत्रिका प्रबंधन खेद व्यक्त करता है और इस तरह के प्रकाशन के लिए क्षमा चाहते हैं।"

‘द वीक’ पत्रिका ने शुक्रवार (मई 14, 2021) को स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर के बारे में पहले प्रकाशित एक अपमानजनक लेख के लिए माफी माँगी। विचाराधीन विवादास्पद लेख 24 जनवरी, 2016 को केरल स्थित पत्रिका द्वारा प्रकाशित किया गया था जिसे ‘पत्रकार’ निरंजन टाकले द्वारा लिखा गया था।

‘A lamb, lionised’ शीर्षक से, लेख ने पाठकों को यह गलत धारणा दी कि वीर सावरकर एक ‘दब्बू’ मेमना के बच्चे थे, जिनकी प्रतिष्ठा को केंद्र में भाजपा सरकार द्वारा शेर के कौशल से मेल खाने के लिए किसी तरह ऊपर उठाया गया था। उल्लेखनीय है कि वीर सावरकर को उनकी क्रांतिकारी गतिविधियों के लिए 25-25 साल की दो आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी। जब वह अंडमान और निकोबार द्वीप समूह की सेलुलर जेल में गए थे, तब उनकी उम्र सिर्फ 28 साल थी।

अंग्रेजों के खिलाफ स्वतंत्रता संग्राम के लिए इतनी कम उम्र में कैद होने के बावजूद, निरंजन टाकले ने एक इतिहासकार शमसुल इस्लाम के हवाले से कहा कि सेलुलर जेल में बिताए गए समय ने उनके ‘साम्राज्यवाद विरोधी झुकाव’ को समाप्त कर दिया। उन्होंने आगे दावा किया कि वीर सावरकर के अलावा किसी भी स्वतंत्रता सेनानी ने ‘अंग्रेजों के सामने आत्मसमर्पण या समर्पण नहीं किया।’ लेखक ने यह भी दावा किया था कि हिंदुत्व के पिता एक मामूली राजनीतिक व्यक्ति थे, जिन्हें 2003 में भाजपा ने मुख्यधारा में शामिल किया था। लेख में यह भी कहा गया है कि वीर सावरकर महात्मा गाँधी की हत्या में शामिल थे।

द वीक पत्रिका में लेख का स्क्रीनशॉट

भारतीय स्वतंत्रता सेनानी पर लगाया बेबुनियाद आरोप

स्वतंत्रता सेनानी को शुरू में 6 महीने के एकांत कारावास में डाला गया था। उन्हें बिना अनुमति के पत्र लिखने के लिए एक महीने के कारावास और दूसरे कैदी को पत्र लिखने के लिए 7 दिनों तक हथकड़ी लगाए रखा। उन्हें गर्दन की बेड़ियों, क्रॉस-बार लोहे की बेड़ियों से भी जकड़ा गया था और कड़ी मेहनत करने के लिए मजबूर किया गया था। लेख में वीर सावरकर द्वारा सहन की गई यातना के प्रति सहानुभूति रखने के बजाय, उनके संघर्ष को कम करने के लिए उनकी दया याचिकाओं का बार-बार उल्लेख किया गया।

लेखक ने आगे स्वतंत्रता सेनानी को धर्मांतरण, हिंदू राष्ट्रवाद के लिए जिम्मेदार ठहराने का प्रयास किया और उन पर हिंदू अलगाववाद को सही ठहराने का आरोप लगाया। उन्होंने वीर सावरकर को टू-नेशन थ्योरी के पहले प्रस्तावक होने के लिए भी दोषी ठहराया। जिसे मोहम्मद अली जिन्ना ने अपनाया था। इतिहासकार शमसुल इस्लाम का हवाला देते हुए, लेख ने आगे आरोप लगाया कि वीर सावरकर ने 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान भारत को धोखा दिया और अंग्रेजों का साथ दिया।

निरंजन टाकले ने द वीक में आरोप लगाया कि सुभाष चंद्र बोस के ‘अग्रिमों’ को विफल करने की ब्रिटिश योजना के तहत हिंदुओं के सैन्यीकरण के लिए सावरकर जिम्मेदार थे। उन्होंने यह भी दावा किया कि सावरकर ‘अखंड भारत (संयुक्त भारत)’ के पैरोकार नहीं थे, बल्कि ‘एक अलग सिखिस्तान की संभावना’ और रियासतों की स्वतंत्रता का स्वागत करते थे। आगे मणिशंकर अय्यर के हवाले से उन्होंने कहा, “सावरकर गाँधीजी की हत्या की साजिश के आरोपितों में से एक थे और उन्हें सबूतों के अभाव में बरी कर दिया गया था। लेकिन बाद में उन्हें मुख्य साजिशकर्ता के रूप में न्यायमूर्ति कपूर आयोग द्वारा दोषी ठहराया गया था।”

द वीक ने वीर सावरकर पर विवादित लेख के लिए पाठकों से माफी माँगी

स्वतंत्रता सेनानी के पोते रंजीत सावरकर द्वारा सोशल मीडिया प्रतिक्रिया और मुकदमे के बाद, पत्रिका को 14 मई को माफी माँगने के लिए मजबूर होना पड़ा। अपने माफी नोट में, द वीक पत्रिका ने कहा, “विनायक दामोदर सावरकर से संबंधित एक लेख, जिसे 24 जनवरी, 2016 को द वीक में प्रकाशित किया गया था, जिसका शीर्षक ‘Lamb, lionised’ था और कंटेंट पेज में ‘हीरो टू जीरो’ के रूप में उल्लेख किया गया था, उसे गलत समझा गया है और वीर सावरकर के उच्च कद की गलत व्याख्या को बयाँ कर रहा है।”

द वीक वेबसाइट का स्क्रीनशॉट

अंत में कहा गया, “हम वीर सावरकर को अति सम्मानित श्रेणी में रखते हैं। यदि इस लेख से किसी व्यक्ति को कोई व्यक्तिगत चोट पहुँची है, तो पत्रिका प्रबंधन खेद व्यक्त करता है और इस तरह के प्रकाशन के लिए क्षमा चाहते हैं।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कैप्टन अमरिंदर की पाकिस्तानी दोस्त अरूसा आलम के ISI लिंक की होगी जाँच: बीजेपी से जुड़ने की खबरों के बीच चन्नी सरकार का ऐलान

"चूँकि कैप्टन का दावा है कि पंजाब को आईएसआई से खतरा है, इसलिए हम उनकी दोस्त अरूसा आलम के आईएसआई के साथ संबंधों की जाँच करेंगे।"

कैथोलिक कॉलेज में सेक्स कॉम्पिटिशनः लड़कियों से सेक्स करने की लगती होड़, सेक्सुअल एक्ट भी होते थे असाइन

कैथोलिक कॉलेज सेंट जॉन यूनिवर्सिटी के लड़के अपने कॉलेज के सिस्टर कॉलेज सेंट बेनेडिक्ट की लड़कियों को फँसाकर उनके साथ सेक्स करते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
130,824FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe