Wednesday, July 17, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षामछली खरीदने निकला, पुलिस के हत्थे चढ़ गया... NIA-ATS को थी PFI आतंकी रियाज़...

मछली खरीदने निकला, पुलिस के हत्थे चढ़ गया… NIA-ATS को थी PFI आतंकी रियाज़ मारूफ की तलाश, फरारी में ही भाभी के लिए किया था चुनाव प्रचार

रियाज़ मारूफ PFI का बिहार राज्य सचिव है। प्रतिबंध लगने के बाद से वह फरार था। उसकी तलाश में ATS और NIA लगातार छापेमारी कर रहीं थीं।

बिहार पुलिस ने प्रतिबंधित चरमपंथी संगठन ‘पॉपुलर फ्रंट ऑफ़ इंडिया’ (PFI) के राज्य सचिव को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आतंकी का नाम रियाज़ मारूफ है। उसे पूर्वी चम्पारण के चकिया क्षेत्र से पकड़ा गया है। ATS और NIA लम्बे समय से रियाज़ की तलाश कर रहीं थीं। शनिवार (9 सितम्बर, 2023) को पकड़े गए आतंकी से किसी गुप्त स्थान पर पूछताछ चल रही है। पूछताछ में रियाज़ के बाकी साथियों के बारे में भी जानकारी मिल सकती है। NIA और ATS को रियाज़ की गिरफ्तारी की सूचना दे दी गई है।

रियाज़ मारूफ PFI का बिहार राज्य सचिव है। प्रतिबंध लगने के बाद से वह फरार था। उसकी तलाश में ATS और NIA लगातार छापेमारी कर रहीं थीं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शनिवार को पूर्वी चम्पारण जिले के चकिया क्षेत्र की पुलिस को PFI के भगोड़े रियाज़ मारूफ के होने की सूचना मिली। मुखबिर ने मारूफ के बाजार जा कर मछली खरीदने की जानकारी दी। सूचना मिलने पर पुलिस ने घेराबंदी की। थोड़े समय बाद आखिरकार सूचना सही पाई गई और मारूफ को बाजार से घर लौटने के दौरान दबोच लिया गया।

तस्दीक हो जाने के बाद पुलिस मारूफ को किसी अज्ञात जगह ले गई। वहाँ आरोपित से पूछताछ की जा रही है। माना जा रहा है कि मारूफ अपने बाकी साथियों की भी जानकारी पुलिस को दे सकता है। इस बीच कार्रवाई की जानकारी NIA और ATS को भी दे दी गई है। जल्द ही केंद्रीय एजेंसियाँ भी मारूफ से पूछताछ कर सकती हैं। पूर्व में NIA की तमाम दबिश के दौरान आरोपित भाग निकला था। हालाँकि, दावा किया जा रहा है कि मारूफ फरारी के बावजूद भी कई बार घर आया था। इसी दौरान उसने अपनी भाभी रजिया खातून को चकिया नगर परिषद का चुनाव भी लड़ाया था।

मारूफ पर आरोप है कि उसने चकिया और मेहसी के आस-पास के कुछ मुस्लिम युवाओं का ग्रुप बनाया। यहाँ वो उन युवाओं को मज़हबी कट्टरता का पाठ पढ़ाया करता था। वह युवाओं को देश विरोधी बातें बताया करता था। पूर्वी चम्पारण के पुलिस अधीक्षक कांतेश कुमार ने मीडिया से बातचीत में मारूफ की गिरफ्तारी की पुष्टि की है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -