Monday, July 22, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाCAA-NRC, किसान आंदोलन, हिजाब, पैगंबर... जैसे हिंसक विरोध-प्रदर्शन से देश को हुआ ₹5040469 करोड़...

CAA-NRC, किसान आंदोलन, हिजाब, पैगंबर… जैसे हिंसक विरोध-प्रदर्शन से देश को हुआ ₹5040469 करोड़ का नुकसान: GPI की रिपोर्ट में खुलासा

ग्लोबल पीस इंडेक्स के मुताबिक, करीब हिंसा के कारण देश को जो नुकसान झेलना पड़ा है वो भारत के कुल जीडीपी का 6% है। हालाँकि, ये कोई एक साल की रिपोर्ट नहीं है। जीपीआई ने अपनी रिपोर्ट में में दावा किया है कि बीते कुछ सालों में हुए आतंकी और नक्सली हमले भी इसके लिए जिम्मेदार हैं।

देश में लगातार होते प्रदर्शनों और हिंसा (Violence) की घटनाओं के कारण देश को आर्थिक तौर पर कड़ी चोट पहुँची है। इसका खुलासा ग्लोबल पीस इंडेक्स (GPI) की रिपोर्ट में किया है। संस्था ने खुलासा किया है कि हिंसा की घटनाओं के कारण भारत को पिछले साल करीब $646 अरब डॉलर (करीब 50 लाख करोड़ रुपए) का नुकसान हुआ है।

भारत 163 देशों की सूची में 135वें स्थान है, जबकि पाकिस्तान और चीन क्रमश: 54 और 138वें स्थान पर काबिज हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, देश में सीएए-एनआरसी समेत कई अन्य तरह की हिंसक घटनाओं में बड़े पैमाने पर आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा। इन पैसों से देश के लिए कई तरह की कल्याणकारी योजनाओं को संचालित किया जा सकता था।

ग्लोबल पीस इंडेक्स के मुताबिक, करीब हिंसा के कारण देश को जो नुकसान झेलना पड़ा है वो भारत के कुल जीडीपी का 6% है। हालाँकि, ये कोई एक साल की रिपोर्ट नहीं है। जीपीआई ने अपनी रिपोर्ट में में दावा किया है कि बीते कुछ सालों में हुए आतंकी और नक्सली हमले भी इसके लिए जिम्मेदार हैं।

वैश्विक शांति सूचकांक में भारत 72वें स्थान पर है। उल्लेखनीय है कि वैश्विक शांति सूचकांक-2022 की रिपोर्ट में आइसलैंड दुनिया का सबसे शांत देश रहा है। वहीं, शांति के मामले में दूसरे स्थान पर न्यूजीलैंड और तीसरे स्थान पर आयरलैंड हैं।

इन देशों की हालत सबसे बुरी

अगर दुनिया के सबसे अशांत देशों की बात की जाए तो जीपीआई के सूचकांक में अफगानिस्तान सबसे टॉप पर है। इसके बाद आतंकवाद ग्रस्त यमन और सीरिया हैं। खास बात है कि दुनिया के हिंसाग्रस्त देशों की संख्या भी अब बढ़कर 29 से 38 हो गई है।

रिपोर्ट के मुताबिक, अफ्रीका महाद्वीप के बाद एशिया दुनिया का सबसे अशांत क्षेत्र है। वहीं, अगर हिंसा के वैश्विक नुकसान को देखें तो इसके कारण दुनिया भर में 16.5 ट्रलियन डॉलर (1,300 लाख करोड़ रुपए) का नुकसान झेलना पड़ा है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बाइडेन बाहर, कमला हैरिस पर संकट: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में ओबामा ने चली चाल, समर्थन पर कहा – भविष्य में क्या होगा, कोई नहीं...

अमेरिका में होने वाले राष्ट्रपति चुनावों की दौड़ से बाइडेन ने अपना नाम पीछे लिया तो बराक ओबामा ने उनकी तारीफ की और कमला हैरिस का समर्थन करने से बचते दिखे।

आम सैनिकों जैसी ड्यूटी, सेम वर्दी, भारतीय सेना में शामिल हो चुके हैं 1 लाख अग्निवीर: आरक्षण और नौकरी भी

भारतीय सेना में शामिल अग्निवीरों की संख्या 1 लाख के पार हो गई है, 50 हजार अग्निवीरों की भर्ती की जा रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -