Monday, July 15, 2024
Homeराजनीति'अभी सब मारे जाएँगे' : कुलगाम में टीचर की निर्मम हत्या पर फारूक अब्दुल्ला...

‘अभी सब मारे जाएँगे’ : कुलगाम में टीचर की निर्मम हत्या पर फारूक अब्दुल्ला का संवेदनहीन बयान, कश्मीरी हिंदुओं ने किया विरोध प्रदर्शन

जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में आतंकियों ने रजनी बाला नाम की स्कूल टीचर को सिर में गोली मार कर मौत के घाट उतार दिया और जब इस संबंध में फारूक अब्दुल्ला से प्रतिक्रिया माँगी गई तो उन्होंने संवेदनहीन होते हुए कहा कि अभी सब मारे जाएँगे।

जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में स्कूल टीचर की दिन दहाड़े हत्या किए जाने के बाद प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला का इस मामले में विवादित बयान आया है। उन्होंने रजनी बाला नामक कश्मीरी हिंदू टीचर की हत्या पर कोई दुख प्रकट करने बजाय कहा है कि अभी सब मारे जाएँगे।

फारूक अब्दुल्ला के विवादित बयान की वीडियो सोशल मीडिया पर हर जगह पर वायरल है। वीडियो में वह मीडिया के बीच से गुजरते हुए आगे बढ़ रहे हैं। पत्रकार उनसे पूछते हैं कि कुलगाम में एक लेडी टीचर को गोली मारी गई है इस पर वह क्या कहेंगे। ये सुन कर फारूक अब्दुल्ला कहते हैं- ‘अभी मारे जाएँगे सब।’

इस वीडियो को देखने के बाद सामान्य जन में फारूक अब्दुल्ला के प्रति गुस्सा है। वहीं कश्मीरी हिंदू की हत्या से आहत लोगों ने श्रीनगर में प्रदर्शन शुरू कर दिया है। श्रीनगर की सड़के जाम करके इंसाफ की गुहार लगाई जा रही है। पिछले दिनों आतंकियों द्वारा शिकार बनाए गए राहुल भट के पिता ने इन हत्याओं को टार्गेट किलिंग बताया है। सड़क पर जोर-जोर से नारेबाजी करके हिंदू सुरक्षा सुनिश्चित करने की माँग कर रहे हैं।

जानकारी के लिए बता दें कि जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में इस्लामी आतंकियों ने हाई स्कूल गोपालपोरा की शिक्षिका रजनी को आज गोलियों से छलनी किया। वह कुलगाम जिल में 2010 से काम कर रही थीं और उनकी परिवार सांभा जिले में रहता था। घटना के बाद घायल रजनी बाला को अस्पताल ले जाया गया, जहाँ डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित किया। उनकी हत्या की खबर सुनने के बाद उनके परिजनों के आँसू नहीं रुक रहे और दूसरी ओर कश्मीरी हिंदुओं पर फारुक अब्दुल्ला का ऐसा बयान आया है। अब्दुल्ला ने इससे पहले भी द कश्मीर फाइल्स को लेकर कहा था कि ये फिल्म बैन होनी चाहिए वरना हत्याएँ होती रहेंगी।

राहुल भट की हत्या

उल्लेखनीय है कि इससे पहले कश्मीर के ही बडगाम में दो-तीन हफ्ते पहले 12 मई 2022 को लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकियों ने एक सरकारी कार्यालय में घुस कर 35 वर्षीय राहुल भट की गोली मारकर हत्या कर दी थी। राहुल भट प्रवासी कश्मीरी हिंदुओं के रोजगार के लिए दिए गए विशेष पैकेज के लिए काम कर रहे थे। जिस समय दोनों आतंकियों ने कार्यालय में घुसकर भट की हत्या की थी, उस समय शाम के लगभग साढ़े चार बज रहे थे और तहसील कार्यालय कर्मचारियों से भरा हुआ था। आतंकी दुस्साहस दिखाते हुए भरी ऑफिस में घुस गए और राहुल भट को सरेआम गोली मारकर हत्या कर दी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

IAS बेटी ऑडी पर बत्ती लगाकर बनाती थी भौकाल, माँ-बाप FIR के बाद फरार: पूजा खेडकर को जाँच के बाद डॉक्टरों ने नहीं माना...

पूजा खेडकर का मामला मीडिया में उठने के बाद उनके माता-पिता से जुड़ी कई वीडियो सामने आई है। ऐसे में पुलिस ने उनकी माँ के खिलाफ एफआईआर की है।

शूटिंग क्लब का सदस्य था डोनाल्ड ट्रम्प पर गोली चलाने वाला, शिकारी वाली वेशभूषा थी पसंद: रिपब्लिकन पार्टी ने बुलाया राष्ट्रीय सम्मेलन, पूर्व राष्ट्रपति...

वो लगभग 1 साल से पास में ही स्थित 'क्लेयरटन स्पोर्ट्समेन क्लब' का सदस्य भी था। इसमें कई शूटिंग रेंज हैं। पहले से कोई भी आपराधिक या ट्रैफिक चालान का मामला दर्ज नहीं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -