Thursday, September 29, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय150 मदरसे, 200 मस्जिदें... नेपाल सीमा से 15 km के दायरे का हाल, जानिए...

150 मदरसे, 200 मस्जिदें… नेपाल सीमा से 15 km के दायरे का हाल, जानिए बॉर्डर के उन गाँवों की स्थिति जो बन गए हैं मुस्लिम बहुल: UP-नेपाल बॉर्डर से OpIndia Ground Report

उतरौला बाजार में मुस्लिम आबादी हिन्दुओं से अधिक है। उतरौला से सटे गैंड़ास बुजुर्ग नाम के गाँव में भी हिन्दू आबादी मुस्लिमों से कम है। गैंड़ास बुजुर्ग के रहने वाले दलित परिवार के शिवराज ने ऑपइंडिया से बात करते हुए बताया कि...

हाल में कई रिपोर्टें आई हैं जो बताती हैं कि नेपाल भारत बॉर्डर पर तेजी से डेमोग्राफी में बदलाव हो रहा है। मस्जिद-मदरसों की संख्या लगातार बढ़ रही है। जमीनी हालात का जायजा लेने के लिए 20 से 27 अगस्त 2022 तक ऑपइंडिया की टीम ने सीमा से सटे इलाकों का दौरा किया। हमने जो कुछ देखा, वह सिलसिलेवार तरीके से आपको बता रहे हैं। इस कड़ी की 17वीं रिपोर्ट:

इस रिपोर्ट में हमने ये जानने का प्रयास किया कि क्या मुस्लिम आबादी सिर्फ सीमाओं पर मौजूद गाँवों में बढ़ रही है या इसका असर सीमा से कुछ दूरी पर स्थित गाँवों में भी है। इसकी तलाश में हम बलरामपुर जिले के सदुल्लाहनगर थाना क्षेत्र पहुँचें। सीधी दूरी निकाली जाए तो ये बाजार नेपाल बॉर्डर से लगभग 60 किलोमीटर दूरी पर पड़ेगा। इस बाजार में हमने देखा कि अधिकतर दुकानें मुस्लिम समुदाय की हैं। हालाँकि, हमने इस थाना क्षेत्र के गाँवों की आबादी खोजने का प्रयास किया।

यह रिपोर्ट एक सीरीज के तौर पर है। इस पूरी सीरीज को एक साथ पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

एक ही थाना क्षेत्र के कई गाँव मुस्लिम बहुल

ऑपइंडिया की टीम ने सदुल्लाहनगर थाना क्षेत्र के गाँवों में हिन्दू-मुस्लिम आबादी की जानकारी जुटाई। हमारी जानकारी के मुताबिक, सदुल्लाहनगर थाना क्षेत्र के एक गाँव नेवादा में 95% मुस्लिम आबादी थी। इसके अलावा देवरिया आदम और एदहा नाम के 2 गाँवों में मुस्लिमों की आबादी 80% से 90% के बीच थी। लालपुर भलुहिया, भोलिया मदनपुर, रेकी बदलपुर, देवरिया आदमपुर नामक गाँवों में मुस्लिमों की आबादी 70% से 80% के बीच मिली। खरिका, अलउद्दीनपुर, रानीपुर, भनुवागढ़ आदि गाँवों में मुस्लिमों की आबादी का प्रतिशत 60% से 70% के बीच देखा गया।

इसके अलावा अचलपुर, देवरिया इनायत, रामपुर भरना, भुण्डामाफ़ी, छितसुपुर के साथ लगभग 4 अन्य गाँवों में मुस्लिम आबादी 50% से 60% के बीच है। 40% से 50% के बीच की मुस्लिम आबादी के लौकिया, हसनपुर, किशुनपुर, परशुरामपुर व लगभग आधे दर्जन अन्य गाँव हैं। इसके अलावा मुबरकपुर, नयनपुर कुबेर जैसे दर्जनों गाँवों में मुस्लिम आबादी का प्रतिशत लगभग 30 से 40 का है। कुछ अन्य गाँव 20 से 30% मुस्लिम जनसंख्या की भी श्रेणी में हैं लेकिन उनकी संख्या काफी कम है।

उतरौला बाजार भी मुस्लिम बहुल

इसके अलावा उतरौला बाजार में मुस्लिम आबादी हिन्दुओं से अधिक है। उतरौला से सटे गैंड़ास बुजुर्ग नाम के गाँव में भी हिन्दू आबादी मुस्लिमों से कम है। गैंड़ास बुजुर्ग के रहने वाले दलित परिवार के शिवराज ने ऑपइंडिया से बात करते हुए बताया कि उनकी जमीन पर उनका पड़ोसी नईम आए दिन विवाद करता था। उन्होंने बताया, “योगी की सरकार आने के बाअद कोई के के नाम के दरोगा जी ने हमारी कई सालों से लटके झगड़े से हमें मुक्ति दिलवाई थी, जिसके बाद हम खुद को सुरक्षित महसूस कर रहे हैं।”

अगस्त 2020 में इसी उतरौला बाज़ार का रहने वाला आतंकी अबू युसूफ को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल द्वारा गिरफ्तार किया गया था। अबू युसूफ के कनेक्शन अफगानिस्तान से जुड़े पाए गए थे, जो ISIS की विचारधारा वाला बताया गया था।

नेपाल बॉर्डर से 15 KM में 100 से अधिक मस्जिद और मदरसे

ऑपइंडिया की टीम ने नेपाल की सीमा को केंद्र मान कर उसेसे भारतीय दिशा में 15 किलोमीटर के दायरे में मौजूद मस्जिद और मदरसों की संख्या का पता लगाने का प्रयास किया। कुछ हमारे खुद के गिने और कुछ स्थानीय लोगों से जुटाए आँकड़ों के मुताबिक, अकेले बलरामपुर जिले में बॉर्डर से 15 किलोमीटर के अंदर लगभग 150 मदरसे चल रहे हैं। इसके अलावा इसी क्षेत्र में नेपाल सीमा से 15 किलोमीटर क्षेत्र में मस्जिदों की संख्या 200 से अधिक है। इन दोनों के अतिरिक्त लगभग 10 स्थान ऐसे भी हैं, जहाँ मस्जिद के ही अंदर मदरसे चल रहे हैं।

इन मस्जिदों में 1 मीनार और 2 मीनारों वाली मस्जिदें शामिल हैं। इस पूरी संख्या में मज़ारों/कर्बला को नहीं गिना गया है, जिनकी अनुमानित संख्या 200 से अधिक है। हालाँकि ये आँकड़े ऑपइंडिया ने अपने व्यक्तिगत प्रयासों और सूत्रों से जमा किए हैं। इबादतगाहों और मदरसों की संख्या इस से कुछ भिन्न भी हो सकती है।

पढ़ें पहली रिपोर्ट : कभी था हिंदू बहुल गाँव, अब स्वस्तिक चिह्न वाले घर पर 786 का निशान: भारत के उस पार भी डेमोग्राफी चेंज, नेपाल में घुसते ही मस्जिद, मदरसा और इस्लाम – OpIndia Ground Report

पढ़ें दूसरी रिपोर्ट : घरों पर चाँद-तारे वाले हरे झंडे, मस्जिद-मदरसे, कारोबार में भी दखल: मुस्लिम आबादी बढ़ने के साथ ही नेपाल में कपिलवस्तु के ‘कृष्णा नगर’ पर गाढ़ा हुआ इस्लामी रंग – OpIndia Ground Report

पढ़ें तीसरी रिपोर्ट : नेपाल में लव जिहाद: बढ़ती मुस्लिम आबादी और नेपाली लड़कियों से निकाह के खेल में ‘दिल्ली कनेक्शन’, तस्कर-गिरोह भारतीय सीमा पर खतरा – OpIndia Ground Report

पढ़ें चौथी रिपोर्ट : बौद्ध आस्था के केंद्र हों या तालाब… हर जगह मजार: श्रावस्ती में घरों की छत पर लहरा रहे इस्लामी झंडे, OpIndia Ground Report

पढ़ें पाँचवीं रिपोर्ट : महाराणा प्रताप के साथ लड़ी थारू जनजाति बहुल गाँव में 3 मस्जिद, 1 मदरसा: भारत-नेपाल सीमा पर बढ़ती मुस्लिम आबादी का ये है ‘पैटर्न’ – OpIndia Ground Report

पढ़ें छठी रिपोर्ट : बौद्ध-जैन मंदिरों के बीच दरगाह बनाई, जिस मजार को पुलिस ने किया ध्वस्त… वो फिर चकमकाई: नेपाल सीमा पर बढ़ती मुस्लिम आबादी – OpIndia Ground Report

पढ़ें सातवीं रिपोर्ट : हनुमान गढ़ी की जमीन पर कब्जा, झारखंडी मंदिर सरोवर में ताजिया: नेपाल सीमा पर बढ़ती मुस्लिम आबादी, असर UP के बलरामपुर में – OpIndia Ground Report

पढ़ें आठवीं रिपोर्ट : पुरातत्व विभाग से संरक्षित जो जगह, वहाँ वक्फ की दरगाह-मजार: नेपाल सीमा पर बढ़ती मुस्लिम आबादी, मुसीबत में बौद्ध धर्मस्थल – OpIndia Ground Report

पढ़ें नौवीं रिपोर्ट : 2 मीनारों वाली मस्जिदें लोकल, 1 मीनार वाली अरबी पैसे से… लगभग हर गाँव में मदरसे: नेपाल बॉर्डर के मौलाना ने बताया इसमें कमीशन का खेल – OpIndia Ground Report

पढ़ें दसवीं रिपोर्ट : SSB बेस कैंप हो या सड़क, गाँव हो या खेत-सुनसान… हर जगह मस्जिद-मदरसे-मजार: UP के बलरामपुर से नेपाल के जरवा बॉर्डर तक OpIndia Ground Report

पढ़ें 11वीं रिपोर्ट : हिंदू बच्चों का खतना, मंदिर में शादी के बाद लव जिहाद और आबादी असंतुलन के साथ बढ़ते पॉक्सो मामले: नेपाल बॉर्डर पर बलरामपुर जिले में OpIndia Ground Report

पढ़ें 12वीं रिपोर्ट : गाँवों में अरबी-उर्दू लिखे हुए नल, UAE के नाम की मुहर: ज्यादा दाम देकर जमीनें खरीद रहे नेपाली मुस्लिम – OpIndia Ground Report

पढ़ें 13वीं रिपोर्ट : नए बने ओवरब्रिज के नीचे मज़ार-कर्बला, सड़क किनारे मस्जिद-मदरसे-दरगाह: नेपाल के बढ़नी बॉर्डर हाइवे पर ‘हरा रंग’ हावी – OpIndia Ground Report

पढ़ें 14वीं रिपोर्ट : 4 और 14 वाली नीति से एकतरफा बढ़ रही आबादी… उस गाँव में मस्जिद बनाने की कोशिश, जहाँ नहीं एक भी मुस्लिम’ : UP-नेपाल बॉर्डर से OpIndia Ground Report

पढ़ें 15वीं रिपोर्ट: फ़ारसी में ‘गरीब नवाज स्कूल’ का बोर्ड, उस पर बने चाँद-तारे… घरों-दुकानों में लहरा रहे इस्लामी झंडे, सड़क से सटी हुई मजारें: UP-नेपाल बॉर्डर से OpIndia Ground Report

पढ़ें 16वीं रिपोर्ट: ’10 km में 20 गाँव मुस्लिम बहुल, हिन्दू दब कर मनाते हैं अपने त्योहार’: नेपाल सीमा के ग्राम प्रधान ने बताया – गरीब दिखने वाले मुस्लिमों के पास भी बहुत पैसे: UP-नेपाल बॉर्डर से OpIndia Ground Report

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘क्या कंडोम भी देना पड़ेगा मुफ्त’: IAS अफसर की विवादित टिप्पणी पर महिला आयोग ने 7 दिन में जवाब माँगा, बिहार छात्राओं के ‘सैनिटरी...

IAS हरजोत कौर ने कहा था, “बेवकूफी की भी हद होती है। मत दो वोट। चली जाओ पाकिस्तान। वोट तुम पैसों के लिए देती हो क्या।”

‘सरकारी अधिकारी से लेकर PHD होल्डर, लाइब्रेरियन से लेकर तकनीशियन तक’: PFI में शामिल थे कई नामी लोग; ट्विटर ने अकॉउंट बंद किया, वेबसाइट...

प्रतिबंधित PFI के शीर्ष पदों को पूर्व सरकारी कर्मचारी, लाइब्रेरियन और पीएचडी होल्डर संभाल रहे थे। अब इसके सोशल मीडिया अकॉउंट बंद हो गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
225,049FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe