Thursday, September 29, 2022
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाOpIndia Impact - बॉर्डर पर मदरसों के 'मकसद' की जाँच, सीमाओं पर बढ़ी पुलिस-पैरामिलिट्री...

OpIndia Impact – बॉर्डर पर मदरसों के ‘मकसद’ की जाँच, सीमाओं पर बढ़ी पुलिस-पैरामिलिट्री की गश्त: भारत-नेपाल सीमा पर स्पेशल कवरेज का बड़ा असर

श्रावस्ती जिला प्रशासन ने मदरसों के 'मकसद' की जाँच करवाने का फैसला लिया। सिद्धार्थनगर-नेपाल सीमा पर 'ऑपरेशन कवच' चलाया जा रहा। बलरामपुर पुलिस और सशस्त्र सीमा बल विशेष मीटिंग कर रही। कई मीडिया संस्थान भी नेपाल बॉर्डर पर बढ़ती मुस्लिम आबादी को कवर करने उतर गए। हम खुद की पीठ नहीं थपथपा रहे... लेकिन यह प्रेरणा देने वाला है, कह तो सकते ही हैं - OpIndia Impact

नेपाल सीमा पर बढ़ती मुस्लिम आबादी और उसके कारण पनपते मुद्दों से जुड़ी 14 रिपोर्ट अब तक प्रकाशित की जा चुकी है। क्यों? क्योंकि यह राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा मसला है। क्योंकि यह आस-पास के जिलों में रहने वाले हिंदुओं से जुड़ा मुद्दा है। 16 सितम्बर 2022 तक इनमें से कई रिपोर्टों पर शासन और प्रशासन ने संज्ञान लेकर कार्रवाई के आदेश दिए हैं।

हम खुद की पीठ नहीं थपथपा रहे… लेकिन हमारे काम से अगर सकारात्मक बदलाव आता है, शासन-प्रशासन चौकन्ना होता है… तो निश्चित ही यह हमारी जीत है, हम सही दिशा में जा रहे हैं। हमारी खबरों के बाद शासन-प्रशासन का कार्रवाई करना हमारे लिए सुखद है, हमें लगातार ऐसे ही काम करने की प्रेरणा देने वाला है।

यह रिपोर्ट एक सीरीज के तौर पर है। इस पूरी सीरीज को एक साथ पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

श्रावस्ती में मदरसों के उद्देश्य की होगी जाँच

ऑपइंडिया ने 6 सितम्बर 2022 को श्रावस्ती जिले में बढ़ रही इस्लामी गतिविधियों की खबर प्रकाशित की। इस रिपोर्ट का टाइटल ‘बौद्ध आस्था के केंद्र हों या तालाब… हर जगह मजार: श्रावस्ती में घरों की छत पर लहरा रहे इस्लामी झंडे’ नाम से है। इस रिपोर्ट में हमने न सिर्फ बौद्धों और जैन मंदिरों के बगल बढ़ रही मज़ारों और दरगाहों को दिखाया था बल्कि श्रावस्ती जिले के अन्य हिस्सों में भी मज़ारों और मदरसों की जानकारी दी थी।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अब श्रावस्ती जिला प्रशासन ने जिले में बने मदरसों के ‘मकसद’ की जाँच करवाने का फैसला किया है। यह घोषणा जिला अल्पसंख्यक अधिकारी के हवाले से की गई है। इन मदरसों के सर्वे के लिए गठित टीम में SDM, BSA और जिला अल्पंसख्यक अधिकारी भी शामिल हैं।

श्रावस्ती जिले पर हमने 8 सितम्बर और 10 सितम्बर 2022 को भी अलग-अलग रिपोर्ट में जिले में बढ़ रही मजारों, दरगाहों और उससे हो रहे बदलाव को बताया था। इन रिपोर्टों को हमने क्रमशः ‘बौद्ध-जैन मंदिरों के बीच दरगाह बनाई, जिस मजार को पुलिस ने किया ध्वस्त… वो फिर चकमकाई: नेपाल सीमा पर बढ़ती मुस्लिम आबादी’ और ‘पुरातत्व विभाग से संरक्षित जो जगह, वहाँ वक्फ की दरगाह-मजार: नेपाल सीमा पर बढ़ती मुस्लिम आबादी, मुसीबत में बौद्ध धर्मस्थल’ हेडलाइन से प्रकाशित किया था।

इन रिपोर्टों के प्रकाशित होने के बाद 16 सितम्बर 2022 को श्रावस्ती पुलिस ने भारत-नेपाल से सटे गाँवों का दौरा किया। पुलिस ने इसे शाँति और सुरक्षा की नजर से की गई गश्त बताया है।

सोनौली सीमा पर मदरसों की जाँच के लिए पहुँची टीम

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मदरसों की जाँच करने वाली एक टीम भारत-नेपाल सीमा के महराजगंज जिले के सोनौली क्षेत्र के पास गाँव सुकरौली के मदरसा अरबिया अहले सुन्नत मिस्बाहुल उलूम पहुँची है। यहाँ उसने शिक्षा के गुणवत्ता की जाँच की, जिसमें कई विषयों की पढ़ाई और उन्हें पढ़ने वाले बच्चे औसत स्तर से भी खराब पाए गए।

जरवा बॉर्डर सहित पूरी नेपाल सीमा पर बढ़ी पुलिस गश्त

12 सितम्बर 2022 को ऑपइंडिया ने अपनी रिपोर्ट संख्या 10 में बलरामपुर जिले के नेपाल सीमा के जरवा बॉर्डर का जिक्र किया था। इस रिपोर्ट में हमने बलरामपुर से जरवा जाते हुए रास्ते में मिले अलग-अलग जगहों के मस्जिद, मजारों और मदरसों को दिखाया था। इस रिपोर्ट की हेडलाइन ‘SSB बेस कैंप हो या सड़क, गाँव हो या खेत-सुनसान… हर जगह मस्जिद-मदरसे-मजार: UP के बलरामपुर से नेपाल के जरवा बॉर्डर तक OpIndia Ground Report’ थी।

हमारी रिपोर्ट प्रकाशित होने के ठीक अगले दिन यानी 13 सितम्बर 2022 को बलरामपुर पुलिस ने जरवा बॉर्डर पर पैरामिलिट्री SSB के साथ साझा गश्त किया। बलरामपुर पुलिस ने इसकी जानकारी अपने आधिकारिक ट्विटर पर शेयर की है।

इसके अलावा ऑपइंडिया ने बलरामपुर जिले में इस्लामी गतिविधियों पर अलग-अलग दिनों में अलग-अलग रिपोर्ट प्रकाशित की। इसमें 14 सितम्बर 2022 को ‘गाँवों में अरबी-उर्दू लिखे हुए नल, UAE के नाम की मुहर: ज्यादा दाम देकर जमीनें खरीद रहे नेपाली मुस्लिम – OpIndia Ground Report’ हेडलाइन के साथ जबकि 13 सितम्बर 2022 को ‘हिंदू बच्चों का खतना, मंदिर में शादी के बाद लव जिहाद और आबादी असंतुलन के साथ बढ़ते पॉक्सो मामले: नेपाल बॉर्डर पर बलरामपुर जिले में OpIndia Ground Report’ हेडलाइन की रिपोर्ट शामिल है।

इन रिपोर्टों के प्रकाशित होने के बाद बलरामपुर पुलिस ने 14 सितम्बर 2022 को ही सशस्त्र सीमा बल (SSB) के साथ नेपाल सीमा पर चौकसी के मुद्दे पर विशेष मीटिंग की।

अवैध कब्जेदारों से जूझते महंत को सुरक्षा का वादा

ऑपइंडिया ने 9 सितम्बर 2022 को हनुमान गढ़ी की जमीन पर कब्जा, झारखंडी मंदिर सरोवर में ताजिया: नेपाल सीमा पर बढ़ती मुस्लिम आबादी, असर UP के बलरामपुर में – OpIndia Ground Report’ हेडलाइन से अपनी 7 वीं रिपोर्ट प्रकाशित की थी। इस रिपोर्ट में हिन्दू मंदिरों पर अवैध कब्जेदारी के जिक्र के साथ वहाँ हनुमान गढ़ी के महंत महेंद्र दास जी महराज की सुरक्षा का भी जिक्र किया था।

इस रिपोर्ट का संज्ञान लेते हुए बलरामपुर पुलिस ने बताया कि अदालत के द्वारा पास किए गए हर आदेश का जिले में पालन करवाया जाएगा। इसी के साथ पुलिस ने यह भी बताया कि किसी भी जरूरतमंद द्वारा सुरक्षा माँगे जाने पर उन्हें उपलब्ध करवाई जाएगी।

सिद्धार्थनगर बॉर्डर पर भी बढ़ी पुलिस चौकसी

5 सितम्बर 2022 को प्रकाशित रिपोर्ट में ऑपइंडिया ने बताया था कि सिद्धार्थनगर-नेपाल सीमा पर कई अपराधियों और तस्करों को समय-समय पर दबोचा गया है। इस रिपोर्ट में ये भी बताया गया था कि किस-किस प्रकार के तस्कर मौके का कैसे फायदा उठाने की फिराक में रहते हैं।

ताजा जानकारी के मुताबिक सिद्धार्थनगर पुलिस ने नेपाल सीमा पर SSB के साथ मिल कर चौकसी बढ़ा दी है। सिद्धार्थनगर पुलिस SSB के साथ मिल कर सीमाओं पर चौकसी ‘ऑपरेशन कवच’ के तहत कर रही है।

न सिर्फ इन्हीं जिलों बल्कि नेपाल सीमा से लगे पीलीभीत, लखीमपुर, महराजगंज जैसे जिलों में भी पुलिस ने सीमाओं पर गस्त और चौकसी को बढ़ा दिया है।

अन्य मीडिया संस्थान भी उतरे नेपाल बॉर्डर पर

3 सितम्बर 2022 को ऑपइंडिया द्वारा हैशटैग #NepalUPBorderIslamisation के साथ शुरू की गई सीरीज की पहली खबर ‘कभी था हिंदू बहुल गाँव, अब स्वस्तिक चिह्न वाले घर पर 786 का निशान: भारत के उस पार भी डेमोग्राफी चेंज, नेपाल में घुसते ही मस्जिद, मदरसा और इस्लाम’ हेडलाइन के साथ प्रकाशित हुई थी।

इस खबर के प्रकशित होने के बाद कई अन्य मीडिया संस्थानों ने भी नेपाल बॉर्डर से जुड़ी खबरों को प्रकाशित करना शुरू कर दिया। कुछ मीडिया संस्थानों ने तो अपने रिपोर्टर भी भेजे हैं और अब वहाँ से वो लोग भी ग्राउंड रिपोर्ट कर रहे हैं।

यह ऑपइंडिया की जीत है। रिपोर्ट चाहे कोई भी मीडिया संस्थान करे, उस रिपोर्ट से अगर देशहित-हिंदूहित का काम होता है, तो यह सबके लिए खुशी की बात है। जितने ज्यादा मीडिया हाउस इस मुद्दे (नेपाल सीमा पर बढ़ती मुस्लिम आबादी और पनपते मस्जिद-मदरसे) को उठाएँगे, जल्द से जल्द कट्टरपंथी इस्लामी मानसिकता का फन शासन-प्रशासन कुचलेगा।

पढ़ें पहली रिपोर्ट : कभी था हिंदू बहुल गाँव, अब स्वस्तिक चिह्न वाले घर पर 786 का निशान: भारत के उस पार भी डेमोग्राफी चेंज, नेपाल में घुसते ही मस्जिद, मदरसा और इस्लाम – OpIndia Ground Report

पढ़ें दूसरी रिपोर्ट : घरों पर चाँद-तारे वाले हरे झंडे, मस्जिद-मदरसे, कारोबार में भी दखल: मुस्लिम आबादी बढ़ने के साथ ही नेपाल में कपिलवस्तु के ‘कृष्णा नगर’ पर गाढ़ा हुआ इस्लामी रंग – OpIndia Ground Report

पढ़ें तीसरी रिपोर्ट : नेपाल में लव जिहाद: बढ़ती मुस्लिम आबादी और नेपाली लड़कियों से निकाह के खेल में ‘दिल्ली कनेक्शन’, तस्कर-गिरोह भारतीय सीमा पर खतरा – OpIndia Ground Report

पढ़ें चौथी रिपोर्ट : बौद्ध आस्था के केंद्र हों या तालाब… हर जगह मजार: श्रावस्ती में घरों की छत पर लहरा रहे इस्लामी झंडे, OpIndia Ground Report

पढ़ें पाँचवीं रिपोर्ट : महाराणा प्रताप के साथ लड़ी थारू जनजाति बहुल गाँव में 3 मस्जिद, 1 मदरसा: भारत-नेपाल सीमा पर बढ़ती मुस्लिम आबादी का ये है ‘पैटर्न’ – OpIndia Ground Report

पढ़ें छठी रिपोर्ट : बौद्ध-जैन मंदिरों के बीच दरगाह बनाई, जिस मजार को पुलिस ने किया ध्वस्त… वो फिर चकमकाई: नेपाल सीमा पर बढ़ती मुस्लिम आबादी – OpIndia Ground Report

पढ़ें सातवीं रिपोर्ट : हनुमान गढ़ी की जमीन पर कब्जा, झारखंडी मंदिर सरोवर में ताजिया: नेपाल सीमा पर बढ़ती मुस्लिम आबादी, असर UP के बलरामपुर में – OpIndia Ground Report

पढ़ें आठवीं रिपोर्ट : पुरातत्व विभाग से संरक्षित जो जगह, वहाँ वक्फ की दरगाह-मजार: नेपाल सीमा पर बढ़ती मुस्लिम आबादी, मुसीबत में बौद्ध धर्मस्थल – OpIndia Ground Report

पढ़ें नौवीं रिपोर्ट : 2 मीनारों वाली मस्जिदें लोकल, 1 मीनार वाली अरबी पैसे से… लगभग हर गाँव में मदरसे: नेपाल बॉर्डर के मौलाना ने बताया इसमें कमीशन का खेल – OpIndia Ground Report

पढ़ें दसवीं रिपोर्ट : SSB बेस कैंप हो या सड़क, गाँव हो या खेत-सुनसान… हर जगह मस्जिद-मदरसे-मजार: UP के बलरामपुर से नेपाल के जरवा बॉर्डर तक OpIndia Ground Report

पढ़ें 11वीं रिपोर्ट : हिंदू बच्चों का खतना, मंदिर में शादी के बाद लव जिहाद और आबादी असंतुलन के साथ बढ़ते पॉक्सो मामले: नेपाल बॉर्डर पर बलरामपुर जिले में OpIndia Ground Report

पढ़ें 12वीं रिपोर्ट : गाँवों में अरबी-उर्दू लिखे हुए नल, UAE के नाम की मुहर: ज्यादा दाम देकर जमीनें खरीद रहे नेपाली मुस्लिम – OpIndia Ground Report

पढ़ें 13वीं रिपोर्ट : नए बने ओवरब्रिज के नीचे मज़ार-कर्बला, सड़क किनारे मस्जिद-मदरसे-दरगाह: नेपाल के बढ़नी बॉर्डर हाइवे पर ‘हरा रंग’ हावी – OpIndia Ground Report

पढ़ें 14वीं रिपोर्ट : ‘4 और 14 वाली नीति से एकतरफा बढ़ रही आबादी… उस गाँव में मस्जिद बनाने की कोशिश, जहाँ नहीं एक भी मुस्लिम’ : UP-नेपाल बॉर्डर से OpIndia Ground Report

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsभारत नेपाल बॉर्डर, nepal border, up balrampur border, nepal up border, Nepal india Border, नेपाल सीमा, Ground Report, ग्राउंड रिपोर्ट, उत्तर प्रदेश, Uttar Pradesh nepal, nepal Madarasa, नेपाल मदरसा, नेपाल बलरामपुर, nepal Balrampur, नेपाल बलरामपुर मस्जिद मदरसा, नेपाल बलरामपुर मुस्लिम आबादी, बलरामपुर मुस्लिम आबादी, बलरामपुर झारखंडी मंदिर कर्बला, बलरामपुर झारखंडी मंदिर तजिया, भारत नेपाल सीमा मुस्लिम, बलरामपुर मुस्लिम कर्बला, बलरामपुर मुस्लिम ताजिया, नेपाल सीमा बलरामपुर जिला, बलरामपुर मुस्लिम, बलरामपुर मस्जिद, बलरामपुर मजार, बलरामपुर मदरसा, भारत नेपाल सीमा मुस्लिम, डेमोग्राफी चेंज, भारत नेपाल बॉर्डर डेमोग्राफी चेंज, नेपाल मुस्लिम, नेपाल मुसलमान, नेपाल बॉर्डर मुस्लिम, नेपाल बॉर्डर मस्जिद, नेपाल बॉर्डर मदरसा, नेपाल के मुस्लिम, डेमोग्राफी चेंज, नेपाल बॉर्डर डेमोग्राफी चेंज, नेपाल मुस्लिम डेमोग्राफी, nepal balrampur muslim population, balrampur UP muslim population, Nepal love jihad, Nepal muslim, Nepal India border, Nepal border muslim crime, Nepal border muslim, nepal border masjid mosque, nepal border madarsa, Nepal ke masjid, demography change, Nepal border demography change, balrampur masjid, balrampur majar, balrampur karbala,
राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘क्या कंडोम भी देना पड़ेगा मुफ्त’: IAS अफसर की विवादित टिप्पणी पर महिला आयोग ने 7 दिन में जवाब माँगा, बिहार छात्राओं के ‘सैनिटरी...

IAS हरजोत कौर ने कहा था, “बेवकूफी की भी हद होती है। मत दो वोट। चली जाओ पाकिस्तान। वोट तुम पैसों के लिए देती हो क्या।”

‘सरकारी अधिकारी से लेकर PHD होल्डर, लाइब्रेरियन से लेकर तकनीशियन तक’: PFI में शामिल थे कई नामी लोग; ट्विटर ने अकॉउंट बंद किया, वेबसाइट...

प्रतिबंधित PFI के शीर्ष पदों को पूर्व सरकारी कर्मचारी, लाइब्रेरियन और पीएचडी होल्डर संभाल रहे थे। अब इसके सोशल मीडिया अकॉउंट बंद हो गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
225,049FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe