Monday, July 15, 2024
Homeसोशल ट्रेंडभगवान शिव के लिए अपशब्द, हवन का अपमान, सज्जाद बन गया 'रामायण का राम':...

भगवान शिव के लिए अपशब्द, हवन का अपमान, सज्जाद बन गया ‘रामायण का राम’: ‘अतरंगी रे’ में ‘लव जिहाद’ को बढ़ावा? इसीलिए नाराज़ हैं हिन्दू

फिल्म के एक अन्य दृश्य में अक्षय कुमार का किरदार, जिसका नाम 'सज्जाद' है, वो मुहर्रम में अपने शरीर पर चाबुक से वार करते हुए दिखता है। इसके बाद सारा अली खान भी अपने घर में आकर अपने शरीर पर चाबुक मारने लगती है। वो उस जगह पर जाती है, जहाँ उसकी नानी हवन कर रही होती है।

आनंद एल राय की फिल्म ‘अतरंगी रे’ (Atrangi Re) में अक्षय कुमार (Akshay Kumar), सारा अली खान (Sara Ali Khan) और दक्षिण के स्टार धनुष (Dhanush) मुख्य किरदार में हैं। इस फिल्म के कई दृश्यों में हिन्दू देवी-देवताओं और धर्मग्रंथों का अपमान किया गया है, जिससे लोग आक्रोशित हैं। भगवान शिव और हनुमान जी को लेकर अपशब्दों का प्रयोग किया गया है, तो रामायण की भी आपत्तिजनक व्याख्या की गई है। फिल्म में हिन्दू लड़की और मुस्लिम लड़के वाले एंगल डाल कर ‘लव जिहाद’ को भी बढ़ावा दिया गया है।

सोशल मीडिया पर ट्रेंड हुआ ‘Boycott Atrangi Re’

आइए, हम आपको बताते हैं कि फिल्म के किन दृश्यों से लोगों को आपत्ति है और क्यों हिन्दू इस फिल्म से नाराज़ हैं। फिल्म के एक दृश्य में सारा अली खान कहती हैं, “हनुमान जी का प्रसाद समझे हैं, जो कोई भी हाथ फैलाएगा और हम मिल जाएँगे? शिव जी जा धतूरा हैं हम, मुँह से जाएँगे तो पिछवाड़े से निकलेंगे।” इस दृश्य में जिस तरह से हनुमान जी और भगवान शिव के साथ ‘पिछवाड़ा’ शब्द का प्रयोग किया गया है, उससे लोग नाराज़ नजर आ रहे हैं।

एक अन्य दृश्य में सारा अली खान धनुष से कहती हैं, “हिन्दू ठाकुर लड़की, और वो कटाई मियाँभाई लौंडा, इसे कहते हैं लव स्टोरी।” इस डायलॉग से साफ़ है कि हिंदू लड़की और मुस्लिम लड़के वाले एंगल को बढ़ावा दिया गया है, जिस कारण ‘लव जिहाद’ की अधिकतर घटनाएँ होती हैं और हिन्दू लड़कियों को इस कारण प्रताड़ना का सामना करना पड़ता है। कई मामलों में उनकी लाश तक मिलती है। क्या इसकी जगह कोई मुस्लिम लड़की “मैं मुस्लिम लड़की और वो विराट हिन्दू” किसी फिल्म में बोल सकती हैं?

वहीं फिल्म के एक अन्य दृश्य में अक्षय कुमार का किरदार, जिसका नाम ‘सज्जाद’ है, वो मुहर्रम में अपने शरीर पर चाबुक से वार करते हुए दिखता है। इसके बाद सारा अली खान भी अपने घर में आकर अपने शरीर पर चाबुक मारने लगती है। वो उस जगह पर जाती है, जहाँ उसकी नानी हवन कर रही होती है और अपने शरीर पर ताबड़तोड़ चाबुक दे मारती है। ये भी जान लीजिए कि हिन्दू धर्म में आस्था रखने वाली बुजुर्ग महिला को ही फिल्म का विलेन दिखाया गया है।

फिल्म के एक अन्य दृश्य में सज्जाद खुद को ‘श्रीराम’ बताता है और दक्षिण भारत के हिन्दू का किरदार निभा रहे धनुष को ‘रावण’। इसके बाद वो इस कहानी की तुलना ‘रामायण के शुरू होने’ से करता है। फिल्म में लड़की का मरा हुआ अब्बू ही उसे उसके ‘काल्पनिक बॉयफ्रेंड’ के रूप में दीखता है, जिससे लोगों को आपत्ति है। साथ ही बिहार का भी मजाक बनाया गया है। वहाँ की भाषा को आपत्तिजनक तरीके से पेश किया गया है। दक्षिण भारत की तमिल भाषा को कॉमेडी के रूप में पेश किया या है।

फिल्म ‘अतरंगी रे’ की समीक्षा: जानिए फिल्म में क्या दिखाया गया है

‘अतरंगी रे’ में अक्षय कुमार, धनुष और सारा अली खान जैसे बड़े अभिनेता हैं। अक्षय कुमार ने ‘सज्जाद’ का किरदार निभाया है इसमें। जबकि सारा अली खान हिन्दू लड़की ‘रिंकू’ होती हैं। जैसा कि आरा अली खान खुद इस फिल्म में कहती हैं, वो ‘सूर्यवंशी ठाकुर’ होती हैं, जिनका भगवान राम के वंश से सीधा ताल्लुक है। अब एक हिन्दू ठाकुर परिवार को दिखाया गया तो उसे क्रूर बताना ज़रूरी हो जाता है। उस घर की महिलाएँ हो या पुरुष, सबका क्रूर और ‘प्यार से घृणा करने वाला’ होना ज़रूरी है।

बिहार का परिवार होता है, इसीलिए यहाँ थोड़ी बदनामी बिहार की भी हो जाए तो फिल्म में और मसाला लग जाता है। इसीलिए, ‘जबरिया शादी’ का कॉन्सेप्ट लाया गया है। रिंकू के परिवार वाले जबरन उसकी शादी एक तमिल लड़के से कर देते हैं, जिसे बाँध कर लाया जाता है। अब शुरू होता है तमिल भाषा का मजाक बनाना। तमिल बोलते विशु (जिसका असली नाम तमिल में कुछ लंबा सा है और रिंकू बोलती है कि ये भगवान वाला नाम है, इसीलिए धरती वाला नाम बताओ) को एक कॉमिक कैरेक्टर की तरह पेश किया गया है।

फिल्म का सबसे बड़ा सस्पेंस ये होता है कि रिंकू जिस काल्पनिक लड़के से पूरी फिल्म प्यार कर रही होती है और अपनी बॉयफ्रेंड समझ रही होती है, वो उसके अब्बा होते हैं। फ्लैशबैक में पता चलता है कि इस शादी से रिंकू की माँ (जिसके किरदार में वो खुद हैं) के परिवार वाले इस शादी से खुश नहीं थे और जादूगर सज्जाद को ज़िंदा जला कर मारने के लिए उन्होंने साजिश रची। फिर जादू दिखाते हुए बच्ची रिंकू के सामने ही सज्जाद आग से जल कर मर जाता है।

स्पष्ट है, जलाने वाले वही ‘भगवान श्रीराम के वंशज सूर्यवंशी ठाकुर’ हैं और मरने वाला एक मुस्लिम जिसने एक हिन्दू लड़की से शादी कर ली। नैरेटिव ये है कि मुस्लिम पीड़ित है और हिन्दू अपराधी। गुंडे भगवान की पूजा न करें, चंदन न लगाएँ और भगवान का नाम न लें तो भला वो बॉलीवुड के विलेन कैसे हुए? इसीलिए रिंकू के परिवार वालों को भी हवन वगैरह करते हुए दिखाया गया है। रिंकू बार-बार घर से भागती है, लेकिन उसकी नानी जबरन उसकी शादी करवा देती है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कॉन्ग्रेस के चुनावी चोचले ने KSRTC का भट्टा बिठाया, ₹295 करोड़ का घाटा: पहले महिलाओं के लिए बस सेवा फ्री, अब 15-20% किराया बढ़ाने...

कर्नाटक में फ्री बस सेवा देने का वादा करना कॉन्ग्रेस के लिए आसान था लेकिन इसे लागू करना कठिन। यही वजह है कि KSRTC करोड़ों के नुकसान में है।

‘बैकफुट पर आने की जरूरत नहीं, 2027 भी जीतेंगे’: लोकसभा चुनावों के बाद हुई पार्टी की पहली बैठक में CM योगी ने भरा जोश,...

लोकसभा चुनावों के बाद पहली बार भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की लखनऊ में आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कार्यकर्ताओं में जोश भरा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -