Tuesday, September 28, 2021
Homeसोशल ट्रेंडशशि थरूर ने आला लगा किया इलाज, इंग्लिश सुन मरीज को आया होश -...

शशि थरूर ने आला लगा किया इलाज, इंग्लिश सुन मरीज को आया होश – केरल में कॉन्ग्रेस का सड़क पर चल रहा ड्रामा

एक यूजर ने कॉन्ग्रेस सांसद शशि थरूर की आलोचना करते हुए कहा कि जब केरल पहले से ही महामारी की स्थिति का सामना कर रहा है, तो इस तरह के ड्रामे की क्या आवश्यकता? डॉक्टर होने का झूठा ढोंग करने वाले नेता के लॉजिक पर...

ऐसे में जब देश के नए कोविड-19 मामलों में 60% से अधिक मामले केरल से हैं, तिरुवनंतपुरम के सांसद और कॉन्ग्रेस नेता शशि थरूर ने सोचा कि ‘सड़क के किनारे’ विरोध प्रदर्शन करने का इसी समय सही आइडिया है। 

केरल में बुधवार (अगस्त 25, 2021) को एक दिन में 31,445 कोविड-19 मामले आने के बाद बिना किसी सोशल डिस्टेंसिंग के कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने तिरुवनंतपुरम में सचिवालय के सामने विरोध प्रदर्शन किया।

थरूर ने राज्य सरकार द्वारा कोविड-19 स्थिति से निपटने के खिलाफ विरोध प्रदर्शन की शुरुआत की। थरूर ने एक वीडियो शेयर करते हुए ट्वीट किया। इसमें वह एक ‘डॉक्टर’ थे और स्ट्रेचर पर लेटे हुए ‘मरीज’ की जाँच कर रहे थे। इस ट्वीट में उन्होंने लिखा, “@IYC विरोध में, सड़क किनारे ICU में केरल के मरीज के स्वास्थ्य की जाँच!”

शेयर किए गए वीडियो में, थरूर को स्टेथोस्कोप के साथ डॉक्टर की भूमिका निभाते हुए देखा जा सकता है, जो स्ट्रेचर पर पड़े एक फर्जी मरीज का इलाज करते हुए दिखाई देते हैं। कोविड-19 प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने वाले ‘एक्टर्स’ के आसपास करोड़ों कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता और मीडिया देखे जा सकते हैं।

डॉ थरूर को मिली ऐसी प्रतिक्रियाएँ

कॉन्ग्रेस नेता द्वारा वीडियो शेयर करने के बाद नेटिजन्स तरह-तरह की प्रतिक्रियाएँ देने लगे। ‘मेरा यशु यशु’ मीम का उपयोग करने का अवसर न चूकते हुए, एक यूजर ने इसे साझा करते हुए बताया कि ‘डॉ थरूर’ द्वारा इलाज कराने के बाद मरीज की प्रतिक्रिया किस तरह की होगी।

एक अन्य यूजर ने कॉन्ग्रेस सांसद की आलोचना करते हुए कहा कि जब राज्य पहले से ही महामारी की स्थिति का सामना कर रहा है, तो अभी इस तरह के ड्रामे की क्या आवश्यकता है? कई लोगों ने डॉक्टर होने का झूठा ढोंग करने वाले राजनेता के लॉजिक पर सवाल उठाया।

कई लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग के न होने की ओर इशारा किया और जब राज्य में 30,000 से अधिक नए कोविड-19 मामले सामने आए हैं, तो भीड़ इकट्ठा करना कहाँ तक सही था। एक नेटिज़न ने ट्वीट किया, “वयस्क साक्षरता वर्गों में सोशल डिस्टेंसिंग की व्याख्या नहीं की गई थी।”

एक अन्य यूजर ने यह कहते हुए मजाक उड़ाया कि थरूर अपने ट्रेडमार्क ‘थरूरियन’ अंग्रेजी में बोलकर मरीज का इलाज करेंगे। उसने लिखा, “शशि सर इंग्लिश बोल कर होश में ला देंगे मरीज को।”

शशि थरूर द्वारा कोविड नियमों का मज़ाक उड़ाते हुए नकली डॉक्टर होने का नाटक करने को लेकर कई सोशल मीडिया यूजर्स ने इसे ढोंग बताया। बता दें कि थरूर जैसे मौजूदा सांसद, जो ‘शिक्षित’ हैं और जिन्हें अक्सर ज्ञान की कमी के लिए दूसरों का मज़ाक उड़ाते हुए देखा जाता है, उनका इस तरह से व्यवहार करने पर नेटिजन्स निशाने पर ले रहे हैं।

जहाँ कई लोगों ने विज्ञान और कॉमन सेंस का मजाक उड़ाने के लिए कॉन्ग्रेस नेता की निंदा की, वहीं कुछ ने उनकी तुलना फिल्म के कैरेक्टर अर्जुन रेड्डी से भी की। कोविड-19 डैशबोर्ड के अनुसार, केरल राज्य में आज तक 1,81,000 से अधिक एक्टिव कोविड-19 मामले हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,823FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe