विषय: गोहत्या

बुलंदशहर हिंसा

बुलंदशहर हिंसा मामले में 44 अभियुक्तों पर चलेगा राजद्रोह का मुकदमा

मामले की जाँच कर रहे अधिकारी राघवेंद्र मिश्रा के अनुसार, उन्हे स्याना हिंसा के 44 आरोपितों के ख़िलाफ़ भारतीय दंड संहिता की धारा 124-ए के तहत राजद्रोह लगाने की मंज़ूरी मिल गई है।
100 हाईटेक गोशाला

कमलनाथ का नया क़ानून: गोरक्षा के नाम पर हिंसा करने वालों को 10 साल तक की जेल, ₹50000 तक जुर्माना

अगर गोरक्षा के नाम पर भीड़ द्वारा हत्या की जाती है तो इस तरह के मामलों में 1 वर्ष से लेकर 5 वर्ष तक की सजा दी जा सकती है। अगर कोई एक बार से ज्यादा बार ऐसे अपराधों में शामिल होता है तो उसे दोगुनी सज़ा दी जाएगी।

गौ तस्करों ने गौशाला पर किया हमला, महंत की पिटाई के बाद 3 गाय लेकर हुए फ़रार

इससे पहले की एक घटना में, अलवर ज़िले के तिजारा क्षेत्र में, जो मेवात के अंतर्गत आता है, पुलिस ने अरंडका गाँव में निषाद नाम के एक व्यक्ति के घर पर छापा मारा था और गायों का माँस और खाल बरामद की थी। पुलिस ने पास के खेत में 4-5 संदिग्धों को हिरासत में लिया था।
गोहत्या

पशुओं के अवशेष, गोहत्या का आरोप: UP के बागपत से शाहरुख़, इनाम, कल्लू गिरफ़्तार

पुलिस ने इन आरोपितों के ऊपर गोहत्या और पशुओं के साथ क्रूरता से संबंधित धाराओं में केस दर्ज किया है। बागपत के चीफ वेटनरी ऑफिसर डॉक्टर रवींद्र कुमार का कहना है कि बरामद की गई खालों में 7 खालें...
'मॉब-लिंचिंग' के मनगढ़ंत शिगूफे के पीछे छिपी है किसानों की गरीबी, सरकार का तुष्टिकरण और पुलिस की नपुंसकता

वीर सिंह ही नहीं, इसहाक और शफ़ी खान भी त्रस्त हैं मवेशी-डकैतों से, कॉन्ग्रेस सरकार में अलवर के किसान बेहाल

समाज इस भरोसे से अहिंसक होता है कि उसे अन्याय से लड़ने के लिए हथियार उठाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। राजस्थान सरकार अलवर के किसानों को यह भरोसा दे सकती है?
गोवंश

गौ तस्करी में आरिफ़, क़ासिम और यासीन गिरफ़्तार, लंबे समय से थे फ़रार

इससे पहले भी गौ तस्करी के कई मामले सामने आ चुके हैं। कई जगहों पर ये गौ तस्कर इतने हिंसक हो जाते हैं कि पुलिस तक पर वार करने से नहीं चूकते, उन पर गोलीबारी की भी घटनाएँ सामने आ चुकी हैं।
इरफ़ान, औरअसरफ़ गिरफ़्तार

गौ तस्करी मामले में इरफ़ान, असरफ़ गिरफ़्तार, रियासत अली और अरशद फ़रार, पुलिस पर चढ़ा दी गाड़ी

महिन्द्रा पिकअप और उसमें लदे छह बछड़ों को पुलिस ने अपने क़ब्जे में ले लिया है। बता दें कि पिकअप में लदे छह बछड़ों को नशीली दवा पिलाई गई थी जिससे वो शोर न मचा सकें। फ़िलहाल पुलिस ने मामले की जाँच शुरू कर दी है।

गोहत्या मामले में MP में कॉन्ग्रेस सरकार आने के बाद नदीम, शकील और आजम पर रासुका

खंडवा के एसपी ने कहा कि खंडवा साम्प्रदायिक रूप से संवेदनशील इलाका है, इसलिए आरोपितों पर रासुका लगाना जरूरी था।

बुलंदशहर हिंसा : तीन गायों को बन्दूक से गोली मारी, फिर चाकू से टुकड़ों में काटकर आपस में बांटा

आज पुलिस ने नदीम, रईस और काला नाम के तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार इन्ही तीनो ने हिंसा की वारदात से पहले वाली रात को गोकशी की थी और खेत में गोमांस के टुडे फेंके थे।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,382फैंसलाइक करें
22,948फॉलोवर्सफॉलो करें
120,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements