Sunday, July 25, 2021
Homeव्हाट दी फ*₹80 करोड़ का बिजली बिल मिलते ही बुजुर्ग का BP हाई, अस्पताल में भर्ती:...

₹80 करोड़ का बिजली बिल मिलते ही बुजुर्ग का BP हाई, अस्पताल में भर्ती: महाराष्ट्र के इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड का कारनामा

नाइक के पोते नीरज ने कहा कि वो लोग काम कर रहे थे, जब ये बिल आया और वो सभी बिल को देखकर शॉक्ड थे। उन्होंने कहा कि उन्हें पहले तो ऐसा लगा कि कहीं पूरे जिले का बिल उनके ही घर में तो नहीं भेज दिया गया है। वो लोग इसीलिए डर गए थे, क्योंकि....

उद्धव ठाकरे के महाराष्ट्र में छोटी सी मिल चलाने वाले एक बुजुर्ग की तबीयत तब अचानक से बिगड़ गई, जब उनके पास 80 करोड़ रुपए का बिजली बिल आया। ये घटना नालासोपारा की है, जहाँ गणपत नाइक नामक 80 वर्षीय बुजुर्ग को ‘महाराष्ट्र स्टेट इलेक्ट्रिसिटी डिट्रिब्यूशन कंपनी लिमिटेड (MSEDCL)’ की तरफ से 80 करोड़ का बिजली बिल मिला। इसके बाद उनका रक्तचाप (ब्लड प्रेशर) अचानक से बढ़ गया। उन्हें इलाज के लिए तुरंत अस्पताल ले जाना पड़ा।

हालाँकि, बाद में पता चला कि बिल के अमाउंट में गड़बड़ी हुई है और प्रिंट करने के समय ही ऐसा हुआ। निर्मल गाँव के बुजुर्ग के साथ ये घटना सोमवार (फरवरी 22, 2021) को हुई। गणपत नाइक पहले से ही दिल के मरीज हैं, ऐसे में बिजली बिल को देखते हुए उनका BP हाई हो गया। उन्हें मेडिकल चेकअप के लिए अस्पताल लेकर जाना पड़ा। MSEDCL ने कहा कि बिल में हुई गड़बड़ी में सुधार कर लिया गया है। अब बुजुर्ग की तबीयत भी ठीक है।

असल में जिस एजेंसी को मीटर रीडिंग का ठेका दिया गया है, उसने ही ये गलती की थी। एजेंसी को 6 अंकों का बिल बनाना था, लेकिन गलती से ये 9 अंकों का हो गया और इस तरह से 8 लाख रुपए का बिल 80 करोड़ रुपए का हो गया। एजेंसी ने बिल में सुधार कर के उसे फिर से नाइक के पास भेजा। बिजली अधिकारी सुरेंद्र मोनेरे ने कहा कि ताज़ा बिल से गणपत नाइक संतुष्ट हैं और वो सही बिल है।

इसी बिजली बिल से बुजुर्ग को लगा सदमा

नाइक के पोते नीरज ने कहा कि वो लोग काम कर रहे थे, जब ये बिल आया और वो सभी बिल को देखकर शॉक्ड थे। उन्होंने कहा कि उन्हें पहले तो ऐसा लगा कि कहीं पूरे जिले का बिल उनके ही घर में तो नहीं भेज दिया गया है। वो लोग इसीलिए डर गए थे, क्योंकि कोरोना वायरस लॉकडाउन के बाद बिजली विभाग ने बकाए बिल की वसूली शुरू कर दी है। हालाँकि, खबर आते ही अधिकारी हरकत में आए और सुधार किया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,200FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe