Friday, July 19, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकमीडिया फ़ैक्ट चेक'डरा हुआ मुसलमान' बताने के लिए The Wire की फेक रिपोर्टिंग, हकीकत में जहांगीरपुरी...

‘डरा हुआ मुसलमान’ बताने के लिए The Wire की फेक रिपोर्टिंग, हकीकत में जहांगीरपुरी की सड़कों पर फिर से कब्जा

The Wire की रिपोर्ट में जिस जगह बुलडोजर चलने के बाद लोगों के भविष्य को लेकर भय बताया गया, वहाँ बिना किसी डर के कबाड़ की लोडिंग-अनलोडिंग चल रही। जिस सड़क पर हनुमान यात्रा पर पथराव हुआ, वहाँ अतिक्रमण कर फिर से लग गई हैं मुस्लिम समुदाय की दुकानें।

वामपंथी पोर्टल द वायर पर दिल्ली के जहांगीरपुरी हिंसा को लेकर एक खबर प्रकाशित हुई 2 जून 2022 (गुरुवार) को। इस खबर में स्थानीय लोगों के हवाले से बताने का दावा किया गया कि जहाँगीरपुरी से मुस्लिम समुदाय के लोगों का पलायन हो रहा है।

द वायर की रिपोर्ट में पलायन का आधार पुलिस की एकतरफा कार्रवाई को बताने की कोशिश की गई। सारांश में यह समझाने की कोशिश हुई कि पुलिस की वजह से जहाँगीरपुरी में डर का माहौल बना है और पुलिस बेगुनाह मुस्लिमों को पैसे वसूलने के कारण परेशान कर रही है।

ऑपइंडिया ने इन दावों की जमीनी पड़ताल की। द वायर की रिपोर्ट प्रकाशित होने के ठीक अगले दिन 3 जून 2022 (शुक्रवार) को ऑपइंडिया की टीम जहाँगीरपुरी पहुँची। वहाँ स्थानीय लोगों से रिपोर्ट में प्रकाशित दावों की जानकारी ली गई। स्थानीय लोगों से हुई बातचीत के बाद अधिकतर लोगों ने रिपोर्ट में किए गए दावों को सिरे से ख़ारिज किया। इसी के साथ मौके पर जमीनी हालात भी द वायर में कही गई बातों से मेल खाते नहीं दिख रहे थे।

ऑपइंडिया की टीम जहाँगीरपुरी के उस हिस्से में पहुँची, जहाँ से हिंसा शुरू हुई और जिस तरफ हिंसक भीड़ ने सबसे ज्यादा नुकसान पहुँचाया। समय करीब शाम से 4 बज रहे होंगे। बाजार में चहल पहल थी। दुकानें सामान्य रूप से खुल गईं थीं। पुलिस बल की तैनाती न के बराबर थी। रास्तों से बैरिकेड हटा लिए गए थे। घटना में चर्चा में रही मस्जिद के सामने वाली सड़क पर केवल पुलिस के बैरिकेड मंदिर से जूस की दुकान तक लगे थे। इसके अलावे लोग रोजमर्रा के कामों में व्यस्त दिखे।

जहाँ चला था बुलडोजर, वहाँ फिर से सड़कों पर कब्ज़ा

द वायर की रिपोर्ट में बुलडोजर द्वारा अतिक्रमण हटाने के बाद के माहौल का जिक्र किया गया है। उसमें बताया गया है कि तब से स्थानीय लोग विशेषकर मुस्लिम समुदाय के लोग डरे हुए हैं। लेकिन मौके पर हालात एकदम अलग दिखे। सड़कों पर फिर से अतिक्रमण कर लिया गया है। C ब्लॉक की सड़कों के किनारे पहले की तरह कबाड़ जमा दिखा।

सड़कों पर फिर से जमा हुआ कबाड़

शोहराब की दुकान सड़क पर

सड़क पर कबाड़ के अलावा बिना टैक्स या GST वाली तमाम इलेक्ट्रॉनिक्स आइटम और कपड़े आदि बेचती दुकानें दिखीं। ये वही सड़क है, जहाँ हनुमान यात्रा पर पथराव की शुरुआत हुई थी। स्थानीय लोगों ने उन सभी को मुस्लिम समुदाय से ताल्लुक रखने वाले दुकानदार बताया। हालात ये थे कि उस राह से कोई चार पहिया वाहन आराम से नहीं निकल सकता था। यदि बात कथित ‘डर’ की हो तो सड़कों पर लोगों में वो कहीं नहीं दिखी।

सड़क पर लगी दुकानें

मस्जिद के आगे सामान्य चहल-पहल

हिन्दू संगठनों ने जिस मस्जिद से पहला पत्थर फेंके जाने की शुरुआत होना बताया था, उस मस्जिद के आस-पास चहल-पहल थी। एक लाइन से आस-पास की तमाम दुकानें खुली थीं। मौके पर बाइकें और कुछ इलेक्ट्रॉनिक रिक्शे भी खड़े थे, जो लोगों को ला और ले जा रहे थे।

मस्जिद के सामने सामान्य चहल-पहल

कबाड़ की चल रही लोडिंग-अनलोडिंग

द वायर की रिपोर्ट में जिस जगह बुलडोजर चलने के बाद लोगों के भविष्य को लेकर भय बताया गया है, वहाँ पर बिना किसी अधिकारी या प्रशासन के डर के कबाड़ की लोडिंग-अनलोडिंग चल रही थी। अतिक्रमण विरोधी अभियान के दौरान जो सारा कबाड़ G ब्लॉक धोबीघाट में शिफ्ट किया गया था, उसे फिर वापस ले आया गया है।

मौके पर कबाड़ से लदे ट्रक खड़े दिखाई दिए। इसके अलावा बहुत कम उम्र के लड़कों को कबाड़ की दुकान पर बिना किसी रोक-टोक के काम करते देखा गया। ट्रक से उतरे सामान को आस-पास पहुँचाने व अन्य कामों को करने के लिए सड़कों पर ही कई ठेले की पार्किंग बना दी गई थी।

कबाड़ से लोड ट्रक, काम करते बच्चे और सड़क पर खड़े ठेले

फ़िलहाल अतिक्रमण मामले में सुनवाई अभी अदालत में लंबित है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ सब हैं भोले के भक्त, बोल बम की सेवा जहाँ सबका धर्म… वहाँ अस्पृश्यता की राजनीति मत ठूँसिए नकवी साब!

मुख्तार अब्बास नकवी ने लिखा कि आस्था का सम्मान होना ही चाहिए,पर अस्पृश्यता का संरक्षण नहीं होना चाहिए।

अजमेर दरगाह के सामने ‘सर तन से जुदा’ मामले की जाँच में लापरवाही! कई खामियाँ आईं सामने: कॉन्ग्रेस सरकार ने कराई थी जाँच, खादिम...

सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में अजमेर दरगाह के खादिम गौहर चिश्ती की जाँच में लापरवाही को लेकर कोर्ट ने इंगित किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -