Monday, July 15, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेकअसम में सरकारी डॉक्टरों की नियुक्ति, 64% मुस्लिम: जानिए वायरल दावे का क्या है...

असम में सरकारी डॉक्टरों की नियुक्ति, 64% मुस्लिम: जानिए वायरल दावे का क्या है सच

राष्ट्रीय हिस्सेदारी के हिसाब से डॉक्टरों की नियुक्ति में मुस्लिमों की हिस्सेदारी असम में अधिक लगती है। लेकिन असम में 34 प्रतिशत मुस्लिम हैं। इस आधार पर देखें तो मुस्लिमों की नियुक्ति जनसंख्या के अनुसार सामान्य प्रतीत होती है।

असम को लेकर सोशल मीडिया और मैसेजिंग प्लेटफॉर्मों पर एक संदेश वायरल हो रहा है। इसमें दावा किया जा रहा है कि असम में हाल ही में नियुक्त किए गए डॉक्टरों में से अधिकांश अल्पसंख्यक हैं। दावे के साथ डॉक्टरों की तीन पन्नों की डॉक्टरों की नियुक्ति की एक सूची भी शेयर की जा रही है। इसमें कहा गया है कि असम लोक सेवा आयोग ने हाल में 55 डॉक्टर नियुक्त किए हैं। इनमें से 34 अल्पसंख्यक (मुस्लिम) से हैं। यानी नियुक्त किए गए डॉक्टरों में 64% प्रतिशत संख्या मुस्लिम डॉक्टरों की है।

वायरल लिस्ट के नामों को देखने से भी ऐसा प्रतीत होता है कि अधिकांश मुस्लिम नाम वाले डॉक्टर हैं। लेकिन यह दावा भ्रामक है। दरअसल जो लिस्ट वायरल की जा रही है, वह असम में नवनियुक्त डॉक्टरों की चयन सूची नहीं है। यह स्थानांतरण सूची है। असम सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की ओर से जारी आदेश में पहले के एक आदेश को संशोधित किया गया है। इसके अनुसार 19 जनवरी, 2023 को जारी नोटिफिकेशन संख्या 1/2023/94 में आंशिक संशोधन करते हुए नव नियुक्त चिकित्सकों को तत्काल प्रभाव से अगले आदेश तक उनके नाम के साथ अंकित स्थान पर नियुक्त किया जाता है। सूची का मूल पीडीएफ यहाँ देख सकते हैं।

वायरल लिस्ट का स्क्रीन शॉट

नए आदेश के अनुसार 55 चिकित्सकों को पहले नियुक्त किए गए स्थान से ट्रांसफर किया गया है। इसलिए इस सूची में केवल उन्हीं डॉक्टरों को शामिल किया गया है, जिनकी नियुक्ति दूसरे स्थानों पर की जा रही है। इस सूची में 64% मुस्लिम नाम हैं। नए आदेश में 19 जनवरी, 2023 के पूर्व के एक नियुक्ति संबंधी आदेश का जिक्र है। 19 जनवरी को जारी आदेश के अनुसार असम में नए 541 चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों (Medical and Health Officers) की नियुक्ति की गई थी। उस आदेश का पीडीएफ यहाँ देख सकते हैं।

19 जनवरी को जारी 541 डॉक्टरों की नियुक्ति सूची में उनके धर्म का उल्लेख नहीं है। ऑपइंडिया ने बहाल डॉक्टरों के नाम और उपनाम के आधार पर उनके धर्म का पता लगाने की कोशिश की। लिस्ट के नामों की विवेचना के अनुसार हमें नवनियुक्त 541 चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों-1 में 183 मुस्लिम नाम वाले डॉक्टर मिले। इसका अर्थ है कि राज्य में नियुक्त डॉक्टरों में लगभग 34% मुस्लिम हैं, न कि 64 प्रतिशत।

बता दें लिस्ट में शामिल नाम के आधार पर धर्म का पता लगाने में कुछ त्रुटियाँ हो सकती हैं। हालाँकि असम में मुस्लिमों के नाम और उपनाम देश के दूसरे राज्यों की तुलना में आसानी से समझे जा सकते हैं, इसलिए त्रुटि होने की संभावना कम से कम है। लेकिन राष्ट्रीय हिस्सेदारी के हिसाब से डॉक्टरों की नियुक्ति में मुस्लिमों की 34 प्रतिशत हिस्सेदारी भी अधिक लगती है। राज्य के हिसाब से देखें तो असम में 34 प्रतिशत मुस्लिम हैं, इस अनुसार मुस्लिमों की नियुक्ति जनसंख्या के अनुसार सामान्य प्रतीत होती है।

यह दावा कि असम में नियुक्त नए सरकारी डॉक्टरों में से 64% अल्पसंख्यक हैं, गलत और भ्रामक है। इसी तरह यह दावा कि डॉक्टरों की नियुक्ति असम लोक सेवा आयोग द्वारा की गई है, यह भी गलत है। दोनों आदेशों में देखा जा सकता है कि यह नियुक्ति चिकित्सा एवं स्वास्थ्य भर्ती बोर्ड की सिफारिश पर असम सरकार के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग द्वारा की गई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

IAS बेटी ऑडी पर बत्ती लगाकर बनाती थी भौकाल, माँ-बाप FIR के बाद फरार: पूजा खेडकर को जाँच के बाद डॉक्टरों ने नहीं माना...

पूजा खेडकर का मामला मीडिया में उठने के बाद उनके माता-पिता से जुड़ी कई वीडियो सामने आई है। ऐसे में पुलिस ने उनकी माँ के खिलाफ एफआईआर की है।

शूटिंग क्लब का सदस्य था डोनाल्ड ट्रम्प पर गोली चलाने वाला, शिकारी वाली वेशभूषा थी पसंद: रिपब्लिकन पार्टी ने बुलाया राष्ट्रीय सम्मेलन, पूर्व राष्ट्रपति...

वो लगभग 1 साल से पास में ही स्थित 'क्लेयरटन स्पोर्ट्समेन क्लब' का सदस्य भी था। इसमें कई शूटिंग रेंज हैं। पहले से कोई भी आपराधिक या ट्रैफिक चालान का मामला दर्ज नहीं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -