30 साल में यह पहला ऐसा चुनाव है, जब PM के अलावा कोई और PM का उम्मीदवार नहीं

लालू, मुलायम, हरकिशन सिंह सुरजीत, अमर सिंह, ज्योति बसु, चंद्रशेखर, विश्वनाथ प्रताप सिंह जैसे नेता नेताओं को ताश के पत्तों की तरह फेंटकर उसमें से पीएम निकाल लेते थे। एच डी देवेगोड़ा, इंद्र कुमार गुजराल जैसे भूले-भटके पीएम, इसी ताश पद्धति से पीएम बन गए थे।

1991 का चुनाव, पहला ऐसा चुनाव था, जहाँ नेहरू-गाँधी परिवार की सत्ता पर दावेदारी नहीं थी। राजीव गाँधी कॉन्ग्रेस को लीड कर रहे थे, स्वाभाविक तौर पर पीएम पद के दावेदार थे परन्तु बीच चुनाव में उनकी हत्या हो जाने से उपजी सहानुभूति लहर से सत्ता तो कॉन्ग्रेस के पास आ गई, लेकिन गाँधी परिवार सत्ता से बाहर हो गया। बाद में चाहे जो भी हश्र हुआ हो लेकिन नरसिंह राव ने पाँच साल का कार्यकाल गाँधी परिवार और उनके पिट्ठुओं को छकाते हुए पूरा किया और निश्चित रूप से छाप छोड़ी।

उसके बाद जितने भी चुनाव हुए, उन सबकी एक खासियत यह रही कि भाजपा की तरफ से जहाँ अटल बिहारी वाजपेयी पीएम पद के दावेदार होते थे, वहीं विपक्ष की ओर से यह सपना देखने का हक़ सबको मिल गया था। और ऐसा करना कतई अस्वाभाविक और बेतुका नहीं था। क्योंकि यह वही दौर था, जब तीसरे मोर्चे की राजनीति अपने पूरे शबाब पर थी।

लालू, मुलायम, हरकिशन सिंह सुरजीत, अमर सिंह, ज्योति बसु, चंद्रशेखर, विश्वनाथ प्रताप सिंह जैसे नेता नेताओं को ताश के पत्तों की तरह फेंटकर उसमें से पीएम निकाल लेते थे। एच डी देवेगोड़ा, इंद्र कुमार गुजराल जैसे भूले-भटके पीएम, इसी ताश पद्धति से पीएम बन गए थे। बताते हैं कि जब तीसरे मोर्चे के नेताओं ने इंद्र कुमार गुजराल को पीएम बनाने का निर्णय लिया तब वे दिल्ली के आंध्र प्रदेश भवन के एक कमरे में सो रहे थे। उन्हें नींद से जगाया गया और कहा कि आप देश के अगले प्रधानमंत्री हैं। खुशी में उछलते हुए जब यही बात उन्होंने अपने घर पर बताई तो उनकी पत्नी ने कहा कि यह क्या बकवास है, तब उन्होंने डपटते हुए कहा कि तुम भारत के होने वाले पीएम से इस प्रकार बात नहीं कर सकतीं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इसके अलावा जो बन नहीं सके, वह इन बन चुके प्रधानमंत्रियों से भी बड़े, इस पद के लिए दावेदार थे। जिनमें ज्योति बसु, शामिल हैं, जो पीएम बनने के लिए तैयार थे, लेकिन उनकी पार्टी ने फच्चर लगा दिया, जिसके बारे में उन्होंने बाद में अफ़सोस प्रकट किया कि यह उनकी ऐतिहासिक भूल थी। इसके अलावा मुलायम सिंह यादव, जिनकी दावेदारी पर दूसरे यादव नेता लालू प्रसाद ने वीटो लगा दिया, विश्वनाथ प्रताप सिंह को भी उस कालखंड में फिर से एक बार पीएम बनाने की तैयारी कर ली गई थी, लेकिन वे अपने पहले कार्यकाल में हुए अनुभवों से इतने खौफज़दा थे, कि जब तीसरे मोर्चे के नेता उनके घर पर यह प्रस्ताव लेकर गए तो वे पीछे के दरवाजे से निकल चुके थे और कहीं पहुँचने की बजाय, घंटों अपनी गाड़ी में दिल्ली की सड़कों पर खाली घूमते रहे।

यही हाल उस दौर में भी था, जब अटल जी 13 महीने और फिर 5 साल के लिए पीएम बने… भाजपा की ओर से इस पद के लिए कोई कन्फ्यूजन नहीं रहता था, लेकिन विपक्षी दलों में दस सासंदों वाली पार्टी का मुखिया भी इस पद को अपने सपने में देखने के लिए अधिकृत था।

2004 में जब डॉ मनमोहन सिंह को सोनिया गाँधी ने पीएम बनाया तब उसकी तह में भी वही तीसरे मोर्चे की राजनीति थी, कि नेताओं को ताश की तरह फेंट दो, और जो नेता काबू में आ जाए उसे पीएम बना दो, बेशक वह जोकर ही क्यों न हो।

2009 में हालाँकि सोनिया गाँधी ने यह गलती कर दी कि या तो उन्हें अपनी ही पार्टी के किसी फुल टाइम राजनीतिज्ञ को पीएम बनाना था, या फिर मनमोहन सिंह को बनाया भी था, तो दो साल बाद उन्हें घर बिठाकर राहुल गाँधी को पीएम बना देतीं। तब उनकी पार्टी की वह दुर्गति न होती जो आज हुई है, और न ही राहुल गाँधी को आज इस पद के लिए संघर्ष करना पड़ता।

बाहरहाल, पीएम पद के अरमान सजाने वाले नेताओं की बात करें तो 2014 में भी फेहरिस्त खूब लम्बी थी। लालू, मुलायम, शरद पवार, मायावती, जय ललिता, चन्द्र बाबू नायडू सरीखे नेता इस पद के लिए स्वयंभू दावेदार थे, दावेदार तो राहुल गाँधी भी थे लेकिन नरेन्द्र मोदी ने अपनी छप्पर फाड़ जीत से इन सभी के अरमानों पर पानी फेर दिया।

पर यह सब लिखने और बताने के पीछे मेरा उद्देश्य उन नेताओं का बखान करना नहीं है, जिनके भाग्य से पीएम का पद छिंटक गया या जिनके भाग्य में दरिद्रता लिखी हुई थी, मैं यह सब इस लिए लिखने को विवश हूँ कि बीते लगभग तीस साल में यह पहला ऐसा चुनाव है, जब पीएम के अलावा कोई और पीएम का उम्मीदवार नहीं है।

लालू जी जेल में अपनी राजनीति ही नहीं बल्कि जीवन का भी भयावह समय गुजार रहे हैं। उनके पुत्र तेजस्वी कितनी ही चतुराई दिखा लें, लेकिन वे अपने पिता की राजनीति को आगे नहीं बढ़ा सकते, और उसका दौर भी अब बीत चुका है। मुलायम सिंह यादव तो टीवी पर सीधे प्रसारण में, करोड़ों लोगों के सामने मोदी जी को फिर से पीएम बनने का आशीर्वाद दे चुके हैं, जयललिता और करुणानिधि जैसे क्षत्रप अब इस दुनिया में नहीं हैं, ममता बनर्जी अधिक से अधिक 20 सीटें ला सकेंगी और इतनी सीटों पर उन्हें कौन पीएम बनाएगा और सहयोग कौन देगा? नवीन पटनायक और चंद्रबाबू नायडू जैसे नेता अपनी पूरी पारी खेल चुके हैं, और यह उनका आख़िरी चुनाव है।

अब अगर इस सीन में सबसे महत्वपूर्ण नेताओं की बात करें तो मायावती का नाम आता है, जिन्हें बीते कई वर्षों से पीएम पद का सशक्त दावेदार बताया जाता है, हमें कहना चाहिए कि वे इस बार फिर सशक्त दावेदार हो सकती थीं बशर्ते वे उत्तर प्रदेश की सभी सीटों पर लड़तीं, या पीएम पद पर कॉन्ग्रेस से समर्थन का आश्वासन लेने के बाद वे, देश भर में कॉन्ग्रेस से साथ गठबंधन करके लड़तीं, लेकिन वे ख़ुद अपने राजनीतिक जीवन के सबसे मुश्किल समय से जूझ रही हैं, जहाँ वे अपने गढ़ उत्तर प्रदेश में 80 में से मात्र 36 सीटों पर चुनाव लड़ रही हैं, कॉन्ग्रेस से उन्होंने खुली जंग का ऐलान कर दिया है और कॉन्ग्रेस ने भी इस जंग में चार कदम आगे बढ़कर, भविष्य में मायावती की राजनीति के सबसे बड़े संकट बनने वाले भीम आर्मी के नेता चंद्रशेखर के ऊपर अपनी सरपरस्ती का ‘हाथ’ रख दिया है।

वहीं इस पद के लिए 1991 से चूक रहे दिग्गज मराठा नेता, अपने ही राज्य नहीं बल्कि अपने ही परिवार में उलझ गए हैं, जहाँ उन्हें अपनी सीट अपने भतीजे अजीत पवार के बेटे पार्थ के लिए छोड़नी पड़ी है, वरना उनका समय तो बाद में खराब होता लेकिन ‘घड़ी’ पहले ही खंड-खंड हो जाती।

अंत में ‘बबुआ’ जितना जिक्र अखिलेश यादव का भी, जो कितनी भी डींगे हाँक लें, लेकिन उनके साथ सबसे बड़ी समस्या यह है कि जाति की राजनीति करने वाले अपने पिता जी की पार्टी के मुखिया सिर्फ ‘विरासत’ की वजह से हैं। और जाति की राजनीति में यह अयोग्यता ही मानी जाती है, जिसका सबसे बड़ा उदाहरण चौधरी अजीत सिंह है, जिनके पिताजी चौधरी चरण सिंह देश के प्रधानमंत्री भी रहे थे, लेकिन आज अजीत सिंह और उनके पुत्र एक-एक… दो-दो सीटों के लिए न केवल अपनी राजनीतिक निष्ठा बल्कि अपने समाज की निष्ठा को भी जहाँ-तहाँ नीलाम करते फिर रहे हैं। इसलिए बबुआ को अभी से ‘पैदल’ चलने का अभ्यास शुरू कर देना चाहिए क्योंकि चुनाव के बाद हाथी तो उनको उतार कर फेंक ही देगा, साइकिल के पहिए भी पंचर हो जाएँगे।

ऐसे में सिर्फ एक व्यक्ति बचता है जो अभी प्रधानमंत्री है, और आगे भी हर हाल में प्रधानमंत्री बनना चाहता है। जिसके पास न अब सत्ता और षड्यंत्रों के अनुभवों की कमी है, न संसाधनों की, न समर्थकों की, न ऊर्जा की, न मुद्दों की और न ही दिलेरी की। तब इन हालात में कोई मुझे यह बताए कि आखिर क्यों यह व्यक्ति फिर से पीएम नहीं बनेगा और 300 सीटों के साथ नहीं बनेगा ?

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

ED की ओर से पेश अतिरिक्त सॉलिसीटर जनरल के.एम. नटराज ने अदालत से कहा कि पूछताछ अब तक पूरी नहीं हो सकी क्योंकि उनके स्वास्थ्य की स्थिति के चलते कारगर पूछताछ नहीं हो पाई। नटराज ने अदालत से यह भी कहा कि धन शोधन शिवकुमार और उनके परिवार के सदस्यों के बैंक खातों के जरिए ही हुआ।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

शरद पवार

पाकिस्तान जैसा प्यार कहीं नहीं मिला, 370 हटाने से बढ़ेगा आतंकवाद: शरद पवार

"मैं पाकिस्तान गया हूँ। वहाँ के लोगों में मेहमाननवाजी कूट-कूट कर भरी है।पाकिस्तान के बारे में गलत चित्र पेश किया जा रहा है कि वहाँ लोग खुश नहीं हैं। यहाँ (भारत) सरकार राजनीतिक लाभ लेने के लिए पाकिस्तान के बारे में झूठी खबरें फैला रही है।”
सिंध, पाकिस्तान

मियाँ मिट्ठू के नेतृत्व में भीड़ ने हिन्दू शिक्षक को पीटा, स्कूल और मंदिर में मचाई तोड़फोड़

इस हमले में कट्टरपंथी नेता मियाँ मिट्ठू का हाथ सामने आया है। उसने न सिर्फ़ मंदिर बल्कि स्कूल को भी नुक़सान पहुँचाया। मियाँ मिट्ठू के नेतृत्व में भीड़ ने पुलिस के सामने शिक्षक की पिटाई की, मंदिर में तोड़फोड़ किया और स्कूल को नुक़सान पहुँचाया।
हिना सिद्धू, मलाला युसुफ़ज़ई

J&K पाकिस्तान को देना चाहती हैं मलाला, पहले खुद घर लौटकर तो दिखाएँ: पूर्व No.1 शूटर हिना

2013 और 2017 विश्वकप में पहले स्थान पर रह कर गोल्ड मेडल जीत चुकीं पिस्टल शूटर हिना सिद्धू ने मलाला को याद दिलाया है कि ये वही पाकिस्तान है, जहाँ कभी उनकी जान जाते-जाते बची थी। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में लड़कियों की शिक्षा के लिए कितने मौके हैं, इसे मलाला बेहतर जानती हैं।
तजिंदर बग्गा, एंड्रिया डिसूजा

‘₹500 में बिक गईं कॉन्ग्रेस नेता’: तजिंदर बग्गा ने खोली रिया (असली नाम एंड्रिया डिसूजा) की पोल

बग्गा ने रिया को व्हाट्सएप मैसेज किया और कहा कि वो उनसे एक प्रमोशनल ट्वीट करवाना चाहते हैं। रिया ने इसके लिए हामी भर दी और इसकी कीमत पूछी। बग्गा ने रिया को प्रत्येक ट्वीट के लिए 500 रुपए देने की बात कही। रिया इसके लिए भी तैयार हो गई और एक फेक ट्वीट को...
सीजेआई रंजन गोगोई

CJI रंजन गोगोई: कश्मीर, काटजू, कन्हैया…CM पिता जानते थे बेटा बनेगा मुख्य न्यायाधीश

विनम्र स्वभाव के गोगोई सख्त जज माने जाते हैं। एक बार उन्होंने अवमानना नोटिस जारी कर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मार्कंडेय काटजू को अदालत में तलब कर लिया था। काटजू ने सौम्या मर्डर केस में ब्लॉग लिखकर उनके फैसले पर सवाल उठाए थे।
सुप्रीम कोर्ट, राम मंदिर

अगर राम जन्मस्थान को लेकर आस्था है तो इस पर सवाल नहीं उठा सकते: सुप्रीम कोर्ट

मुस्लिम पक्षकार राजीव धवन ने अदालत में दावा किया कि पहले हिंदू बाहर के अहाते में पूजा करते थे, लेकिन दिसंबर 22-23, 1949 की रात रामलला की मूर्ति को अवैध तरीके से मस्जिद के अंदर शिफ्ट कर दिया गया।

शेख अब्दुल्ला ने लकड़ी तस्करों के लिए बनाया कानून, फॅंस गए बेटे फारूक अब्दुल्ला

फारूक अब्दुल्ला को जिस पीएसए एक्ट तहत हिरासत में लिया गया है उसमें किसी व्यक्ति को बिना मुक़दमा चलाए 2 वर्षों तक हिरासत में रखा जा सकता है। अप्रैल 8, 1978 को जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल से इसे मंजूरी मिली थी। यह क़ानून लकड़ी की तस्करी रोकने के लिए लाया गया था।
एन राम

‘The Hindu’ के चेयरमैन बने जज: चिदंबरम को कॉन्ग्रेस के कार्यक्रम में दी क्लीन चिट, कहा- कोई सबूत नहीं

एन राम चिदंबरम को जेल भेजने के लिए देश की अदालतों की आलोचना करने से भी नहीं चूके। उन्होंने कहा कि इस गिरफ्तारी की साजिश करने वालों का मकसद सिर्फ और सिर्फ चिदंबरम की आजादी पर बंदिश लगाना था और दुर्भाग्यवश देश की सबसे बड़ी अदालतें भी इसकी चपेट में आ गईं।
हिन्दू लड़की की हत्या

…बस एक एग्जाम और डेंटल डॉक्टर बन जातीं नमृता लेकिन पाकिस्तान में रस्सी से बंधा मिला शव

बहन के मृत शरीर को देख नमृता के भाई डॉ विशाल सुंदर ने कहा, "उसके शरीर के अन्य हिस्सों पर भी निशान हैं, जैसे कोई व्यक्ति उन्हें पकड़ रखा था। हम अल्पसंख्यक हैं, कृपया हमारे लिए खड़े हों।"
सुब्रमण्यम स्वामी: राजनीति के लिए free market/हिंदुत्व, या free market/हिंदुत्व के लिए राजनीति?

सियासत का स्वामी: जिसके कारण गॉंधी कठघरे में आए, वाजपेयी गए और रामसेतु बचा

स्वामी की ‘legacy’ के आकलन में पार्टी, विचारधारा और निष्ठा को एक ही चीज़ मानकर देखने पर वे शायद ‘मौकापरस्त’, नज़र आएँगे। लेकिन किसी नेता को आंकने के पैमाने के तौर पर उसके कर्म उसके शब्दों से अधिक सटीक होते हैं और स्वामी को इसी कसौटी पर परखा जाना चाहिए।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

91,088फैंसलाइक करें
15,071फॉलोवर्सफॉलो करें
97,481सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: