Advertisements
Saturday, May 30, 2020
होम हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष 'तेरे प्यार में क्या-क्या न बना मीना..' राहुल गाँधी का नया नारा

‘तेरे प्यार में क्या-क्या न बना मीना..’ राहुल गाँधी का नया नारा

ये वो गाँधी है, जो नफ़रत को मोहब्बत से जीतने का सन्देश देता नज़र आ रहा है। ये राहुल गाँधी जनेऊ पहनता है, धोती पहनने लगा है, मंदिर में पूजा-पाठ करने लगा है, चाहे स्वप्न में ही सही, लेकिन अमरनाथ यात्रा भी करने लगा है, इससे पता चलता है कि राहुल गाँधी की नई PR टीम उन्हें सही दिशा में ट्रेनिंग दे रही है।

ये भी पढ़ें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

राहुल गाँधी की हार न मानने की क़ाबिलियत का मैं व्यक्तिगत रूप से फ़ैन होता जा रहा हूँ। आप ख़ुद देखिए कि मोदी सरकार को घेरने के लिए वो दिन-रात एक कर के सबूत जुटाने के प्रयास कर रहे हैं। उनका जब हर किस्सा झूठा साबित होता है तब भी राहुल गाँधी राफ़ेल डील पर अड़े रहते हैं। लेकिन लगातार अपने भगीरथ प्रयासों के बावजूद भी राफ़ेल डील को घोटाला साबित न कर पाने की निराशा राहुल गाँधी के चेहरे से कहीं भी नहीं झलकती है।

अब राहुल गाँधी को आख़िरकार आठ महीने बाद ये पता चल गया है कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को संसद में गले आख़िर क्यों लगाया था। दुनिया के सामने यह खुलासा करने के लिए उन्होंने जो देश, काल और वातावरण चुना, वो है JNU!

राहुल गाँधी ने कल ही JNU में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गले लगाने वाले क़िस्से का ज़िक्र करते हुए कहा, “जब मैंने संसद में पीएम मोदी को गले लगाया, तो मैं महसूस कर सकता था कि वह हैरान हैं, वह समझ नहीं पाए कि क्या हुआ। मुझे लगा कि उनके जीवन में प्यार की कमी है।”

इसके साथ ही राहुल गाँधी ने लगे हाथ एक बार फिर याद दिलाते हुए कहा कि उन्होंने परिवार के 2 लोगों को खोया है, जिस वजह से वो प्यार का महत्त्व समझते हैं। चुनाव जीतने के लिए फोटोशॉप से लेकर कॉन्ग्रेसी आई टी सेल के कुकर्मों पर निर्भर हो चुके राहुल गाँधी ने अब परिवार के दिवंगत सदस्यों को भी मैदान में उतार लिया है।

‘विक्टिम कार्ड’ खेलकर चुनाव जीतना और मुद्दों को भुनाना कॉन्ग्रेस पार्टी का बहुत पुराना शौक रहा है। अब प्रियंका गाँधी के बयान आते हैं कि वो अपने पति रॉबर्ट वाड्रा के साथ हर समय खड़ी रहेंगी।

वोटर से ज़्यादा ‘डेली सोप’ अब कॉन्ग्रेस के नेता देखने और समझने लगे हैं। लेकिन वर्तमान में हालात बदल चुके हैं। अब जनता के हाथों में वो कम्प्यूटर नहीं है जो राजीव गाँधी उनको सौंप कर गए थे, ना ही अब भावनाओं को बेचकर वोट कमा लेने का समय है। फिर भी राष्ट्रवाद और मानवीय भावनाओं में वोट बैंक तलाशने वाली कॉन्ग्रेस पार्टी अब ऐसे तथ्य मीडिया के सामने लाती है जिनसे वोटर की भावनाओं से खिलवाड़ किया जा सके।

गाय की पूजा करने वाले लोगों की भावनाओं को आहत करने के लिए सड़कों पर खुले आम गाय काटकर जश्न मनाने वाली पार्टी के अध्यक्ष कल ही लटकती धोती सँभालते-सँभालते तिरुमला में भगवान वेंकटेश्वर के मंदिर भी पहुँच गए।

राफ़ेल डील पर सस्ते और घटिया सबूत जुटाकर रोजाना मीडिया को इकठ्ठा कर लेने वाले राहुल गाँधी अब पहले से ज़्यादा आत्मविश्वास में नज़र आ रहे हैं। ये राहुल गाँधी आस्तीन चढ़ाकर एक ‘महान अर्थशास्त्री’ के सुझाए अध्यादेश को गुस्से में जनता के सामने फाड़कर फेंकने वाले से अलग है।

ये वो गाँधी है, जो नफ़रत को मोहब्बत से जीतने का सन्देश देता नज़र आ रहा है। ये राहुल गाँधी जनेऊ पहनता है, धोती पहनने लगा है, मंदिर में पूजा-पाठ करने लगा है, चाहे स्वप्न में ही सही, लेकिन अमरनाथ यात्रा भी करने लगा है, इससे पता चलता है कि राहुल गाँधी की नई PR टीम उन्हें सही दिशा में ट्रेनिंग दे रही है। लेकिन धोती पहनना और उसे पहनकर चलना सीखना अभी भी बाक़ी है। धोती पहनना सीखना और फिर पहनकर चलना, ये सब इतना कठिन कार्य होता है कि इतने में कम से कम 2 पंचवर्षीय योजनाएँ निकल जाएँगी।  

अब जब राहुल गाँधी और कॉन्ग्रेस गौमाता, हिंदुत्व और भगवान की शरण में पहुँचकर वोट बैंक तलाश रही है, तो वो ख़ुद अपने कट्टर वोट बैंक के लिए पहेली बनते जा रहे हैं। ख़ैर जो भी है, ये राहुल गाँधी का प्यार बाँटने और धोती में लिपटने का क़िस्सा श्री सत्यनारायण कथा के उस हिस्से की ही तरह है, जिसमें तमाम ज़िन्दगी भगवान का नाम ना लेने वाले व्यक्ति के मरते समय सिर्फ़ एक बार ‘नारायण’ जप लेने मात्र से उसे नरक के बदले बैकुंठ लोक प्राप्त हो जाता है।  

मैं तो यही सलाह दूँगा कि राहुल गाँधी अभी धोती और त्रिपुण्ड पर ध्यान न देकर प्यार मोहब्बत वाले भाषण देकर जनता का दिल जीतने पर फोकस करें। वरना अभी धोती सँभालते रह गए तो बाद में EVM से छेड़छाड़ वाले बयानों का ही सहारा बाक़ी रह जाएगा।

Advertisements

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

पिंजड़ा तोड़ की नताशा नरवाल पर UAPA के तहत मामला दर्ज: देवांगना के साथ मिल मुसलमानों को दंगों के लिए उकसाया था

नताशा नरवाल जेएनयू की छात्रा है। दंगों में उसकी भूमिका को देखते हुए UAPA के तहत मामला दर्ज किया गया है।

J&K: कुलगाम में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया, भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद

कुलगाम जिले के वानपोरा में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में दो आतंकवादियों को मार गिराया। आतंकियों के छुपे होने की खुफ़िया जानकारी मिली थी।

‘मरीज मर जाएँ तो हमें दोष मत दीजिएगा’: उद्धव राज में बाल ठाकरे ट्रॉमा सेंटर की उखड़ी साँसें, ऑक्सीजन की कमी से 12 मरे

जोगेश्वरी के HBT ट्रॉमा सेंटर में तैनात डॉक्टरों ने कहा है कि हाँफते हुए मरीजों को दम तोड़ते देख उनका मानसिक स्वास्थ्य प्रभावित हो रहा है।

चीन के पर कतरे, WHO से रिश्ते तोड़े, हांगकांग का विशेष दर्जा छीना जाएगा: ट्रंप के ताबड़तोड़ फैसले

ट्रंप ने WHO से सारे संबंध खत्म करने का ऐलान किया है। चीन पर कई पाबंदियॉं लगाई है। हांगकांग का विशेष दर्जा भी वापस लिया जाएगा।

राजस्थान: अब दौसा में हेड कॉन्स्टेबल ने लगाई फाँसी, 7 दिन में तीसरे पुलिसकर्मी ने की आत्महत्या

दौसा के सैंथल में हेड कॉन्स्टेबल गिरिराज सिंह ने आत्महत्या कर ली। राज्य में सात दिनों के भीतर सुसाइड करने वाले वे तीसरे पुलिसकर्मी हैं।

जायरा वसीम का ट्विटर और इंस्टाग्राम से तौबा, टिड्डियों के हमले को बताया था अल्लाह का कहर

इस्लाम का हवाला देकर फिल्मों को अलविदा कहने वाली जायरा वसीम ने ट्विटर और इंस्टाग्राम अकाउंट डिलीट कर लिया है।

प्रचलित ख़बरें

असलम ने किया रेप, अखबार ने उसे ‘तांत्रिक’ लिखा, भगवा कपड़ों वाला चित्र लगाया

बिलासपुर में जादू-टोना के नाम पर असलम ने एक महिला से रेप किया। लेकिन, मीडिया ने उसे इस तरह परोसा जैसे आरोपित हिंदू हो।

ISKCON ने किया ‘शेमारू’ की माफ़ी को अस्वीकार, कहा- सुरलीन, स्याल पर कार्रवाई कर उदाहारण पेश करेंगे

इस्कॉन के प्रवक्ता राधारमण दास ने शेमारू के इस माफ़ीनामे से संतुष्ट नहीं लगते और उन्होने घोषणा की कि वे बलराज स्याल और सुरलीन कौर के इस वीडियो को प्रसारित करने वाले शेमारू के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगे।

जैकलीन कैनेडी की फोटो पास में रख कर सोते थे नेहरू: CIA के पूर्व अधिकारी ने बताए किस्से

सीआईए के पूर्व अधिकारी ब्रूस रिडेल का एक क्लिप वायरल हो रहा है। इसमें उन्होंने नेहरू और जैकलीन कैनेडी के संबंधों के बारे में बात की है।

टिड्डियों के हमले को जायरा वसीम ने बताया अल्लाह का कहर, सोशल मीडिया पर यूजर्स ने ली क्लास

इस्लाम का हवाला देकर एक्टिंग को अलविदा कहने वाली जायरा वसीम ने देश में टिड्डियों के हमले को घमंडी लोगों पर अल्लाह का कहर बताया है।

दिल्ली में अस्पताल और श्मशान में शव रखने की जगह नहीं, हाइकोर्ट ने भेजा केजरीवाल सरकार, तीनों निगमों को नोटिस

पाँच दिन पहले जिनकी मौत हुई थी उनका अंतिम संस्कार नहीं हो पाया है। जिसकी वजह से मॉर्चरी में हर दिन संख्या बढ़ती चली जा रही है। पिछले हफ्ते जमीन पर 28 की जगह 34 शव रखें हुए थे।

हमसे जुड़ें

209,526FansLike
60,747FollowersFollow
244,000SubscribersSubscribe
Advertisements