Friday, February 26, 2021
Home हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष बकैत कुमार का प्राइम टाइम लीक: समुदाय विशेष से जबरन दीपावली मनवाने की साजिश...

बकैत कुमार का प्राइम टाइम लीक: समुदाय विशेष से जबरन दीपावली मनवाने की साजिश की जा रही है

क्या मोदी जी अल्पसंख्यकों को विश्वास में लेने के लिए नौ मिनट तक नौ आयतें पढ़ने नहीं बोल सकते थे? इससे अच्छी बात क्या होती कि हिन्दू लोग कुछ जान जाते शांतिप्रिय मजहब इस्लाम के बारे में। क्यों नहीं बोला उन्होंने कि देश के हर मस्जिद से एक साथ अजान दी जाए?

नमस्कार, मैं बकैत कुमार

नौ बजे, एक आदमी आता है, कहता है फलाने दिन नौ बजे बत्ती जलाओ, टॉर्च जलाओ, फ्लैश लाइट जलाओ, प्रकाश करो… ठीक है, जिसने चुना है वो जलाएँ, उससे दिक्कत नहीं है। जिसने वोट दिया अपना टॉर्च जलाए, माँग कर जलाए लेकिन हमारे लिबरल और सेकुलर लोगों का क्या? हमारी तो अभी से ही सुलगने लगी है, और पाँच तारीख तक तो हवा का बहाव सही रहा तो आग भी जल जाएगी।

क्या ये हमारे जैसे लोगों पर हमला नहीं है? हमारा जब मन नहीं है तो भी हमें दूसरे तरीके से मजबूर क्यों किया जा रहा है? दूसरी बात, हम तो टॉर्च नहीं जलाएँगे, हमारा तो शरीर का स्थान विशेष जल जाएगा, उसके लिए बरनॉल कहाँ से लाएँगे? ये सही है कि दो दिन पहले ही बता दिया ताकि हम लिबरलों और कामपंथियों, सॉरी वामपंथियों की सुलगनी शुरु हो जाए और नियत समय पर भक्क से आग लग जाए!

बाकी समय ये प्रधानमंत्री विज्ञान का प्रयोग नहीं करेगा, लेकिन विरोधियों की सुलगाने की पूरी प्लानिंग की जा रही है। यहाँ पूरा अग्निविज्ञान की सहायता ली गई है और लॉकडाउन में बरनॉल तो छोड़िए कच्चे आलू पीस कर लगाने के लिए भी घर में बीवी कूच देगी, ये आखिर हो क्या रहा है? क्या विरोधियों को ऐसे घाव देना चाहती है मोदी सरकार? आम आदमी को चुनना पड़ रहा है कि आलू को सब्जी में डाले या जली हुई जगह पर लगा कर राहत पाए।

दूसरी बात यह भी है कि क्या यह अल्पसंख्यकों का उपहास नहीं है? पिछली बार गरीब की थाली बजवा कर पिचका दी थी और कलावती अब टेढ़ी थाली में खाना खाती है, ग्लास फूट गया है, सेलो टेप मार कर पानी पीती है… इस बार कलावती से मन नहीं भरा तो नाजरा बानो पर निशाना साधा गया है कि बेचारी अनभिज्ञता में दिया जला लेगी और शौहर पूछेगा कि जबरन दीवाली क्यों मनाई जा रही है!

हमने ज़ोया से इस संदर्भ में बात की तो उन्होंने कहा, “कितना तेल बर्बाद होगा ये भी तो सोचिए। इतने तेल में तो बकरीद पर लाखों बकरे पक जाते। यही है मोदी जी का सबका साथ सबका विकास? मनमोहन सिंह जी आज होते तो कहते तेल पर पहला हक अल्पसंख्यकों का है। सऊदी वाला क्रूड ऑयल नहीं, उस पर तो है ही पहला हक काफिरों।”

ताकि कोई ये न कहे कि हमने फर्जी बयान छापा है!

क्या जवाब देगी ज़ोया बेगम? सलमा क्या कहेगी पति से? क्या अब इस निजाम में समुदाय विशेष जबरन हिन्दुओं के पर्व मनाएगा? और अगर नहीं मनाएगा तो बगल का हिन्दू उसे देशद्रोही घोषित कर देगा! आप सोचिए कि समाज को कहाँ ले जाया जा रहा है! एकजुट होनी की यह मुहिम भले ही मोदी और उनके आईटी सेल वाले, अजीत भारती टाइप के भक्त जीत लें, लेकिन एक समाज के तौर पर हम हार रहे हैं।

हमने बेजान मुस्तफा से इस बारे में बात की तो उन्होंने कहा कि उनकी समस्या ये है कि रात में गलती से भी टॉर्च का फोकस पड़ोसन पर गया तो घर में तीसरी बार महाभारत चालू हो जानी है। आप चाहें तो हँस सकते हैं इस बात पर, लेकिन दिल में पूछिए कि पत्नी बगल में हो, और हड़बड़ी में टॉर्च की रोशनी पड़ोसन पर पड़े और उसी वक्त वो मुस्कुरा दे…

चिंटुआ के पापा की ऐसी धुलाई होगी कि मोदी जी के अगले सामूहिक कार्यक्रम के लिए वो खड़े नहीं हो पाएँगे। खैर, मैं तो लदीदा और लंकेश जैसे बच्चों के बारे में सोच रहा हूँ कि इसी कार्यक्रम के दौरान वो अपनी प्रेमिकाओं और इश्कबाज लौंडों पर बार-बार लाइट मार कर मात-पिता को एक इशारा तो कर ही दें कि देखो पापा, मेला बाबू थोली देल में उधल वाले मतान में थाना थाएगा… अरे हम भी प्रेम किए थे भाई… हें हें हें…

साथ ही, संभव हो तो लड़की से ‘कौन जात हो’ पूछ कर टॉर्च जलाएँ, एक विजातीय प्रेम क्रांति है। ऐसे समय में अगर जलानी ही है तो क्रांति की लौ जलाएँ। घर में क्रांति कर दीजिए। घरवालों का भी टाइम पास हो जाएगा। पिटाई भी हो सकती है, लेकिन क्रांतिकारी तो गोली भी खाते हैं। चलिए इसी बहाने दो-चार प्रेम की बातें भी निकल आएँगी, वरना आपातकाल में क्या प्रेम कर पाएँगे हम!

दिया जला लीजिए, उसी से सब सुधर जाएगा। भक्त और आईटी सेल वाले फैलाएँगे कि दिया जलाने से हवा में वायरस मर जाते हैं। वो व्हाट्सएप्प पर फैला रहे हैं कि चंद्रमा रोहिणी नक्षत्र में जा रहा है, और उस दिन अंधेरा कर देने से शरीर पर और घरों में चाँद की रोशनी जाएगी जिससे शरीर में कोरोना के लिए एंटीबॉडी बनने लगेंगे। जबकि किसी को ये पता नहीं है कि ये मैसेज मैंने साढ़े नौ बजे लिखा और रजदिप्पा को फॉरवर्ड कर दिया।

रजदिप्पा भेजलस सगरिकिया के, सगरिकिया क फोन से ई चलल आ घुस गइल कौनो भक्तन के फोन में, ओकर बाद से जे होइल, से त सबके पता होइए गईल बा… आईटी सेल वालों को उल्लू बनाना इतना आसान है। ऐसा मैंने कई बार किया है, और जब वो वायरल हो जाता है तो शाम में प्राइम टाइम में बताता हूँ कि ये आईटी सेल वालों की करतूत है।

तीसरी बात, जिस पर सघन चर्चा आवश्यक है वो यह है कि नौ बजे, नौ मिनट ही क्यों? इस पर शशि थरूर ने भी लिखा है कि सब कुछ नौ-नौ हो रहा है। क्या हमने वाकई सब-कुछ राम भरोसे छोड़ दिया है? नहीं, आप सोचिए कि शशि थरूर पढ़े-लिखे आदमी हैं, पुलिस आज तक पकड़ नहीं पाई है उन्हें। काफी किताबें उन्होंने पढ़ी हैं। उन्होंने लिखा है कि नौ की संख्या पर सब छोड़ दिया गया है। लेकिन एक चीज जो मोदी जी नौ पर नहीं ला पा रहे वो है भारत का ग्रोथ रेट। जीडीपी का पता कर लीजिए।

शशि थरूर के वैज्ञानिक अभिकलन का एक नमूना

क्या मोदी जी अल्पसंख्यकों को विश्वास में लेने के लिए नौ मिनट तक नौ आयतें पढ़ने नहीं बोल सकते थे? इससे अच्छी बात क्या होती कि हिन्दू लोग कुछ जान जाते शांतिप्रिय मजहब इस्लाम के बारे में। क्यों नहीं बोला उन्होंने कि देश के हर मस्जिद से एक साथ अजान दी जाए? ठीक है कि देश के सारे मस्जिद वैसे भी दिन में पाँच बार एक साथ ही अजान देते हैं, लेकिन तबलीगी जमात के कारण अल्पसंख्यकों को जिस तरह से निशाना बनाया जा रहा है, उस समय उनका ये कह देना काफी असर कर सकता था।

लेकिन हिन्दी, हिन्दू, हिन्दुस्तान का नायक भला अल्पसंख्यकों का क्यों सोचेगा। वो तो सुप्रीम कोर्ट पर ही हमला कर देगा। आपको क्या लगता है कि थाली बजवाना और अब प्रकाश की बात करना, दिया-मोमबत्ती जलाना, ऐसे ही है? जी नहीं, ये बदला है सुप्रीम कोर्ट द्वारा दीवाली पर रोक लगवाने के कारण। दीवाली में रोशनी होती है, और आवाज होती है पटाखों से। यही दो काम मोदी दीवाली के दिन नहीं, किसी और दिन करवा रहे हैं।

आपको ये सब नहीं दिखेगा लेकिन एक सूअर को टट्टी खोजने में मशक्कत नहीं करनी होती। मुझे आसानी से दिख जाती है। हें हें हें…

आप कहेंगे देश को एकता के सूत्र में पिरोने का काम है, वो मैं जानता हूँ लेकिन मैं एक पत्रकार हूँ। मेरे लिए पत्रकार की परिभाषा है कि हमेशा सत्ता के विरोध में रहना। खास कर तब जब सत्ता मेरे वोट वाले की नहीं है तो उसकी हर अच्छाई को शब्दों के प्रयोग से राष्ट्र के लिए विनाशकारी बता देना।

सिलिंडर दे, तो बोलो कि उससे विस्फोट हो सकता है और तीन-चार खबरें ले आओ… बिजली दे तो बोलो कि करंट लग सकता है, हर साल बिजली के झटके से इतने लोग मरते हैं… सड़क बनवाए तो बोलो कि आदमी जल्दी पहुँच कर बचे समय में शैतानी योजनाएँ बनाएगा दिमाग में… पुल बनवाए तो बोलो कि नाव चलाने वालों का रोजगार चला गया… स्कूल खोले तो बोलो कि सबको संघ की बातें सिखाने की योजना है…

असली पत्रकार का कार्य यही है। हम क्यों सरकार की बड़ाई करें? वो तो सरकार कर ही रही है। हमें तो समाज में नकारात्मकता भरनी है कि पाँच साल में लोग उब जाएँ। लेकिन उसमें बात यह आड़े आ रही है कि मेरा चैनल कुछ लोग बंद करवाते हैं, लोगों के घर तक पहुँच नहीं रहा और मोदी दोबारा जीत गया। लेकिन मैंने क्या बकैती करनी छोड़ी? जी नहीं, अब तो भोजपुरी में भी कर रहा हूँ।

नोट: न्यूजलौंडी के अभिनंदन को यह बताया जाता है कि ऑपइंडिया ने इस स्क्रिप्ट को ले कर किसी भी बकैत कुमार से बातचीत नहीं की है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

10 साल पहले अग्रेसिव लेंडिंग के नाम पर किया गया बैंकिंग सेंक्टर को कमजोर: PM मोदी ने पारदर्शिता को बताया प्राथमिकता

सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास इसका मंत्र फाइनेंशल सेक्टर पर स्पष्ट दिख रहा है। आज गरीब हो, किसान हो, पशुपालक हो, मछुआरे हो, छोटे दुकानदार हो सबके लिए क्रेडिट एक्सेस हो पाया है।

हिन्दुओं के आराध्यों का अपमान बन गया है कमाई का जरिया: तांडव मामले में अपर्णा पुरोहित की अग्रिम जमानत याचिका खारिज

तांडव वेब सीरीज के विवाद के मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अमजॉन प्राइम वीडियो की हेड अपर्णा पुरोहित की अग्रिम जमानत याचिका को खारिज कर दिया है।

मिशनरी स्कूल प्रिंसिपल ने लाइब्रेरियन पर डाला धर्मांतरण का दबाव: लालच देकर सैलरी रोकी फिर गालियाँ देकर नौकरी से निकाला

जब लाइब्रेरियन रूबी सिंह ने स्कूल प्रिंसिपल सिस्टर भाग्या से वेतन की माँग की तो उन्होंने कहा कि धर्म परिवर्तन कर लो, हम तुम्हारा वेतन दे देंगे और उसमें बढ़ोतरी भी कर देंगे।

सतीश बनकर हिंदू युवती से शादी कर रहा था 2 बच्चों का बाप टीपू: मंडप पर नहीं बता सका गोत्र, ट्रू कॉलर ने पकड़ाया

ग्रामीणों ने जब सतीश राय बने हुए टीपू सुल्तान से उसके गोत्र के बारे में पूछा तो वह इसका जवाब नहीं दे पाया, चुप रह गया। ट्रू कॉलर ऐप में भी उसका नाम टीपू ही था।

कुरान की आयतें करती हैं सीमित परिवार की पैरवी: पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त कुरैशी ने बताया इस्लाम को परिवार नियोजन का समर्थक

“1,400 साल पहले, जब दुनिया में कहीं भी जनसंख्या का दबाव नहीं था, कुरान में नियोजित परिवारों के बारे में बात हो रही थी"

‘अंकित शर्मा ने किया हिंसक भीड़ का नेतृत्व, ताहिर हुसैन कर रहा था खुद का बचाव’: ‘द लल्लनटॉप’ ने जमकर परोसा प्रोपेगेंडा

हमारे पास अंकित के परिवार के कुछ शब्द हैं, जिन्हें पढ़कर आज लगता है कि उन्हें पहले से पता था कि आखिर में न्याय तो मिलेगा नहीं लेकिन उसके बदले अंकित को दंगाई घोषित जरूर कर दिया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

‘अंकित शर्मा ने किया हिंसक भीड़ का नेतृत्व, ताहिर हुसैन कर रहा था खुद का बचाव’: ‘द लल्लनटॉप’ ने जमकर परोसा प्रोपेगेंडा

हमारे पास अंकित के परिवार के कुछ शब्द हैं, जिन्हें पढ़कर आज लगता है कि उन्हें पहले से पता था कि आखिर में न्याय तो मिलेगा नहीं लेकिन उसके बदले अंकित को दंगाई घोषित जरूर कर दिया जाएगा।

UP पुलिस की गाड़ी में बैठने से साफ मुकर गया हाथरस में दंगे भड़काने की साजिश रचने वाला PFI सदस्य रऊफ शरीफ

PFI मेंबर रऊफ शरीफ ने मेडिकल जाँच कराने के लिए ले जा रही UP STF टीम से उनकी गाड़ी में बैठने से साफ मना कर दिया।

सतीश बनकर हिंदू युवती से शादी कर रहा था 2 बच्चों का बाप टीपू: मंडप पर नहीं बता सका गोत्र, ट्रू कॉलर ने पकड़ाया

ग्रामीणों ने जब सतीश राय बने हुए टीपू सुल्तान से उसके गोत्र के बारे में पूछा तो वह इसका जवाब नहीं दे पाया, चुप रह गया। ट्रू कॉलर ऐप में भी उसका नाम टीपू ही था।

कला में दक्ष, युद्ध में महान, वीर और वीरांगनाएँ भी: कौन थे सिनौली के वो लोग, वेदों पर आधारित था जिनका साम्राज्य

वो कौन से योद्धा थे तो आज से 5000 वर्ष पूर्व भी उन्नत किस्म के रथों से चलते थे। कला में दक्ष, युद्ध में महान। वीरांगनाएँ पुरुषों से कम नहीं। रीति-रिवाज वैदिक। आइए, रहस्य में गोते लगाएँ।

शैतान की आजादी के लिए पड़ोसी के दिल को आलू के साथ पकाया, खिलाने के बाद अंकल-ऑन्टी को भी बेरहमी से मारा

मृत पड़ोसी के दिल को लेकर एंडरसन अपने अंकल के घर गया जहाँ उसने इस दिल को पकाया। फिर अपने अंकल और उनकी पत्नी को इसे सर्व किया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,062FansLike
81,853FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe