Sunday, September 27, 2020
Home हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष बकैत कुमार का प्राइम टाइम लीक: समुदाय विशेष से जबरन दीपावली मनवाने की साजिश...

बकैत कुमार का प्राइम टाइम लीक: समुदाय विशेष से जबरन दीपावली मनवाने की साजिश की जा रही है

क्या मोदी जी अल्पसंख्यकों को विश्वास में लेने के लिए नौ मिनट तक नौ आयतें पढ़ने नहीं बोल सकते थे? इससे अच्छी बात क्या होती कि हिन्दू लोग कुछ जान जाते शांतिप्रिय मजहब इस्लाम के बारे में। क्यों नहीं बोला उन्होंने कि देश के हर मस्जिद से एक साथ अजान दी जाए?

नमस्कार, मैं बकैत कुमार

नौ बजे, एक आदमी आता है, कहता है फलाने दिन नौ बजे बत्ती जलाओ, टॉर्च जलाओ, फ्लैश लाइट जलाओ, प्रकाश करो… ठीक है, जिसने चुना है वो जलाएँ, उससे दिक्कत नहीं है। जिसने वोट दिया अपना टॉर्च जलाए, माँग कर जलाए लेकिन हमारे लिबरल और सेकुलर लोगों का क्या? हमारी तो अभी से ही सुलगने लगी है, और पाँच तारीख तक तो हवा का बहाव सही रहा तो आग भी जल जाएगी।

क्या ये हमारे जैसे लोगों पर हमला नहीं है? हमारा जब मन नहीं है तो भी हमें दूसरे तरीके से मजबूर क्यों किया जा रहा है? दूसरी बात, हम तो टॉर्च नहीं जलाएँगे, हमारा तो शरीर का स्थान विशेष जल जाएगा, उसके लिए बरनॉल कहाँ से लाएँगे? ये सही है कि दो दिन पहले ही बता दिया ताकि हम लिबरलों और कामपंथियों, सॉरी वामपंथियों की सुलगनी शुरु हो जाए और नियत समय पर भक्क से आग लग जाए!

बाकी समय ये प्रधानमंत्री विज्ञान का प्रयोग नहीं करेगा, लेकिन विरोधियों की सुलगाने की पूरी प्लानिंग की जा रही है। यहाँ पूरा अग्निविज्ञान की सहायता ली गई है और लॉकडाउन में बरनॉल तो छोड़िए कच्चे आलू पीस कर लगाने के लिए भी घर में बीवी कूच देगी, ये आखिर हो क्या रहा है? क्या विरोधियों को ऐसे घाव देना चाहती है मोदी सरकार? आम आदमी को चुनना पड़ रहा है कि आलू को सब्जी में डाले या जली हुई जगह पर लगा कर राहत पाए।

- विज्ञापन -

दूसरी बात यह भी है कि क्या यह अल्पसंख्यकों का उपहास नहीं है? पिछली बार गरीब की थाली बजवा कर पिचका दी थी और कलावती अब टेढ़ी थाली में खाना खाती है, ग्लास फूट गया है, सेलो टेप मार कर पानी पीती है… इस बार कलावती से मन नहीं भरा तो नाजरा बानो पर निशाना साधा गया है कि बेचारी अनभिज्ञता में दिया जला लेगी और शौहर पूछेगा कि जबरन दीवाली क्यों मनाई जा रही है!

हमने ज़ोया से इस संदर्भ में बात की तो उन्होंने कहा, “कितना तेल बर्बाद होगा ये भी तो सोचिए। इतने तेल में तो बकरीद पर लाखों बकरे पक जाते। यही है मोदी जी का सबका साथ सबका विकास? मनमोहन सिंह जी आज होते तो कहते तेल पर पहला हक अल्पसंख्यकों का है। सऊदी वाला क्रूड ऑयल नहीं, उस पर तो है ही पहला हक काफिरों।”

ताकि कोई ये न कहे कि हमने फर्जी बयान छापा है!

क्या जवाब देगी ज़ोया बेगम? सलमा क्या कहेगी पति से? क्या अब इस निजाम में समुदाय विशेष जबरन हिन्दुओं के पर्व मनाएगा? और अगर नहीं मनाएगा तो बगल का हिन्दू उसे देशद्रोही घोषित कर देगा! आप सोचिए कि समाज को कहाँ ले जाया जा रहा है! एकजुट होनी की यह मुहिम भले ही मोदी और उनके आईटी सेल वाले, अजीत भारती टाइप के भक्त जीत लें, लेकिन एक समाज के तौर पर हम हार रहे हैं।

हमने बेजान मुस्तफा से इस बारे में बात की तो उन्होंने कहा कि उनकी समस्या ये है कि रात में गलती से भी टॉर्च का फोकस पड़ोसन पर गया तो घर में तीसरी बार महाभारत चालू हो जानी है। आप चाहें तो हँस सकते हैं इस बात पर, लेकिन दिल में पूछिए कि पत्नी बगल में हो, और हड़बड़ी में टॉर्च की रोशनी पड़ोसन पर पड़े और उसी वक्त वो मुस्कुरा दे…

चिंटुआ के पापा की ऐसी धुलाई होगी कि मोदी जी के अगले सामूहिक कार्यक्रम के लिए वो खड़े नहीं हो पाएँगे। खैर, मैं तो लदीदा और लंकेश जैसे बच्चों के बारे में सोच रहा हूँ कि इसी कार्यक्रम के दौरान वो अपनी प्रेमिकाओं और इश्कबाज लौंडों पर बार-बार लाइट मार कर मात-पिता को एक इशारा तो कर ही दें कि देखो पापा, मेला बाबू थोली देल में उधल वाले मतान में थाना थाएगा… अरे हम भी प्रेम किए थे भाई… हें हें हें…

साथ ही, संभव हो तो लड़की से ‘कौन जात हो’ पूछ कर टॉर्च जलाएँ, एक विजातीय प्रेम क्रांति है। ऐसे समय में अगर जलानी ही है तो क्रांति की लौ जलाएँ। घर में क्रांति कर दीजिए। घरवालों का भी टाइम पास हो जाएगा। पिटाई भी हो सकती है, लेकिन क्रांतिकारी तो गोली भी खाते हैं। चलिए इसी बहाने दो-चार प्रेम की बातें भी निकल आएँगी, वरना आपातकाल में क्या प्रेम कर पाएँगे हम!

दिया जला लीजिए, उसी से सब सुधर जाएगा। भक्त और आईटी सेल वाले फैलाएँगे कि दिया जलाने से हवा में वायरस मर जाते हैं। वो व्हाट्सएप्प पर फैला रहे हैं कि चंद्रमा रोहिणी नक्षत्र में जा रहा है, और उस दिन अंधेरा कर देने से शरीर पर और घरों में चाँद की रोशनी जाएगी जिससे शरीर में कोरोना के लिए एंटीबॉडी बनने लगेंगे। जबकि किसी को ये पता नहीं है कि ये मैसेज मैंने साढ़े नौ बजे लिखा और रजदिप्पा को फॉरवर्ड कर दिया।

रजदिप्पा भेजलस सगरिकिया के, सगरिकिया क फोन से ई चलल आ घुस गइल कौनो भक्तन के फोन में, ओकर बाद से जे होइल, से त सबके पता होइए गईल बा… आईटी सेल वालों को उल्लू बनाना इतना आसान है। ऐसा मैंने कई बार किया है, और जब वो वायरल हो जाता है तो शाम में प्राइम टाइम में बताता हूँ कि ये आईटी सेल वालों की करतूत है।

तीसरी बात, जिस पर सघन चर्चा आवश्यक है वो यह है कि नौ बजे, नौ मिनट ही क्यों? इस पर शशि थरूर ने भी लिखा है कि सब कुछ नौ-नौ हो रहा है। क्या हमने वाकई सब-कुछ राम भरोसे छोड़ दिया है? नहीं, आप सोचिए कि शशि थरूर पढ़े-लिखे आदमी हैं, पुलिस आज तक पकड़ नहीं पाई है उन्हें। काफी किताबें उन्होंने पढ़ी हैं। उन्होंने लिखा है कि नौ की संख्या पर सब छोड़ दिया गया है। लेकिन एक चीज जो मोदी जी नौ पर नहीं ला पा रहे वो है भारत का ग्रोथ रेट। जीडीपी का पता कर लीजिए।

शशि थरूर के वैज्ञानिक अभिकलन का एक नमूना

क्या मोदी जी अल्पसंख्यकों को विश्वास में लेने के लिए नौ मिनट तक नौ आयतें पढ़ने नहीं बोल सकते थे? इससे अच्छी बात क्या होती कि हिन्दू लोग कुछ जान जाते शांतिप्रिय मजहब इस्लाम के बारे में। क्यों नहीं बोला उन्होंने कि देश के हर मस्जिद से एक साथ अजान दी जाए? ठीक है कि देश के सारे मस्जिद वैसे भी दिन में पाँच बार एक साथ ही अजान देते हैं, लेकिन तबलीगी जमात के कारण अल्पसंख्यकों को जिस तरह से निशाना बनाया जा रहा है, उस समय उनका ये कह देना काफी असर कर सकता था।

लेकिन हिन्दी, हिन्दू, हिन्दुस्तान का नायक भला अल्पसंख्यकों का क्यों सोचेगा। वो तो सुप्रीम कोर्ट पर ही हमला कर देगा। आपको क्या लगता है कि थाली बजवाना और अब प्रकाश की बात करना, दिया-मोमबत्ती जलाना, ऐसे ही है? जी नहीं, ये बदला है सुप्रीम कोर्ट द्वारा दीवाली पर रोक लगवाने के कारण। दीवाली में रोशनी होती है, और आवाज होती है पटाखों से। यही दो काम मोदी दीवाली के दिन नहीं, किसी और दिन करवा रहे हैं।

आपको ये सब नहीं दिखेगा लेकिन एक सूअर को टट्टी खोजने में मशक्कत नहीं करनी होती। मुझे आसानी से दिख जाती है। हें हें हें…

आप कहेंगे देश को एकता के सूत्र में पिरोने का काम है, वो मैं जानता हूँ लेकिन मैं एक पत्रकार हूँ। मेरे लिए पत्रकार की परिभाषा है कि हमेशा सत्ता के विरोध में रहना। खास कर तब जब सत्ता मेरे वोट वाले की नहीं है तो उसकी हर अच्छाई को शब्दों के प्रयोग से राष्ट्र के लिए विनाशकारी बता देना।

सिलिंडर दे, तो बोलो कि उससे विस्फोट हो सकता है और तीन-चार खबरें ले आओ… बिजली दे तो बोलो कि करंट लग सकता है, हर साल बिजली के झटके से इतने लोग मरते हैं… सड़क बनवाए तो बोलो कि आदमी जल्दी पहुँच कर बचे समय में शैतानी योजनाएँ बनाएगा दिमाग में… पुल बनवाए तो बोलो कि नाव चलाने वालों का रोजगार चला गया… स्कूल खोले तो बोलो कि सबको संघ की बातें सिखाने की योजना है…

असली पत्रकार का कार्य यही है। हम क्यों सरकार की बड़ाई करें? वो तो सरकार कर ही रही है। हमें तो समाज में नकारात्मकता भरनी है कि पाँच साल में लोग उब जाएँ। लेकिन उसमें बात यह आड़े आ रही है कि मेरा चैनल कुछ लोग बंद करवाते हैं, लोगों के घर तक पहुँच नहीं रहा और मोदी दोबारा जीत गया। लेकिन मैंने क्या बकैती करनी छोड़ी? जी नहीं, अब तो भोजपुरी में भी कर रहा हूँ।

नोट: न्यूजलौंडी के अभिनंदन को यह बताया जाता है कि ऑपइंडिया ने इस स्क्रिप्ट को ले कर किसी भी बकैत कुमार से बातचीत नहीं की है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

छत्तीसगढ़ में कॉन्ग्रेसी सरकार: भ्रष्टाचार पर लिखेंगे तो सड़क पर भी मार खाएँगे और थाने में भी, देखती रहेगी पुलिस

"वह अपने गुंडे पार्षदों के साथ हमारे पत्रकार साथी को थाने तक पीटते हुए ले आए, इसकी वजह थी कि वह नगरपालिका के विरुद्ध RTI लगा कर..."

राजद ने नकारा, नीतीश ने दुत्कारा: कुशवाहा के चावल, यादवों के दूध से जो बनाते थे ‘खीर’ और करते थे खून बहाने की बात

किसी से भी भाव न मिलने के कारण बिहार में रालोसपा और उपेंद्र कुशवाहा की हालत 'धोबी के कुत्ते' की तरह हो गई है, जो न घर का रहता है और न घाट का।

बॉलीवुड ‘सुपरस्टार’ के सामने ‘अपराधी’ शब्द बौना, ड्रग्स से लेकर हत्या/आत्महत्या और दंगों तक… कहाँ खड़ा होता है बॉलीवुड?

ड्रग्स मामला हो या सुपरस्टार्स के गलत कामों पर पर्दा डालने की कोशिश... बॉलीवुड ‘बॉलीवुड’ का बचाव करने से पीछे नहीं हटता है। ऐसा करने...

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का निधन, PM मोदी ने कहा- उन्होंने एक सैन्य अधिकारी और नेता के रूप में देशसेवा की

भारत के पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वयोवृद्ध नेता रहे जसवंत सिंह का रविवार (सितम्बर 27, 2020) की सुबह निधन हो गया।

‘रोओ मत, इमोशनल कार्ड मत खेलो’ – दीपिका पादुकोण 3 बार रोने लगीं, NCB अधिकारियों ने मोबाइल भी कर लिया जब्त

ड्रग्स मामले की जाँच कर रही NCB ने दीपिका पादुकोण, सारा अली खान और श्रद्धा कपूर के मोबाइल फोन्स को भी आगे की जाँच के लिए जब्त कर लिया।

द वायर ने एडिटेड वीडियो से कृषि बिल विरोधी प्रदर्शनकारियों पर बीजेपी कार्यकर्ताओं के हमले के बारे में फैलाई फर्जी खबरें, यहाँ जाने सच

वायर के सिद्धार्थ वरदराजन और आरफा शेरवानी जैसे तथाकथित 'निष्पक्ष' पत्रकारों ने जानबूझकर भाजपा कार्यकर्ताओं पर प्रारंभिक हमले को नजरअंदाज कर दिया और इस घटना के बारे में आधे सच को आगे फैलाया कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने कृषि बिल विरोधी प्रदर्शनकारियों पर हमला किया था।

प्रचलित ख़बरें

‘मुझे सोफे पर धकेला, पैंट खोली और… ‘: पुलिस को बताई अनुराग कश्यप की सारी करतूत

अनुराग कश्यप ने कब, क्या और कैसे किया, यह सब कुछ पायल घोष ने पुलिस को दी शिकायत में विस्तार से बताया है।

पूना पैक्ट: समझौते के बावजूद अंबेडकर ने गाँधी जी के लिए कहा था- मैं उन्हें महात्मा कहने से इंकार करता हूँ

अंबेडकर ने गाँधी जी से कहा, “मैं अपने समुदाय के लिए राजनीतिक शक्ति चाहता हूँ। हमारे जीवित रहने के लिए यह बेहद आवश्यक है।"

‘दीपिका के भीतर घुसे रणवीर’: गालियों पर हँसने वाले, यौन अपराध का मजाक बनाने वाले आज ऑफेंड क्यों हो रहे?

दीपिका पादुकोण महिलाओं को पड़ रही गालियों पर ठहाके लगा रही थीं। अनुष्का शर्मा के लिए यह 'गुड ह्यूमर' था। करण जौहर खुलेआम गालियाँ बक रहे थे। तब ऑफेंड नहीं हुए, तो अब क्यों?

बेच चुका हूँ सारे गहने, पत्नी और बेटे चला रहे हैं खर्चा-पानी: अनिल अंबानी ने लंदन हाईकोर्ट को बताया

मामला 2012 में रिलायंस कम्युनिकेशन को दिए गए 90 करोड़ डॉलर के ऋण से जुड़ा हुआ है, जिसके लिए अनिल अंबानी ने व्यक्तिगत गारंटी दी थी।

‘मारो, काटो’: हिंदू परिवार पर हमला, 3 घंटे इस्लामी भीड़ ने चौथी के बच्चे के पोस्ट पर काटा बवाल

कानपुर के मकनपुर गाँव में मुस्लिम भीड़ ने एक हिंदू घर को निशाना बनाया। बुजुर्गों और महिलाओं को भी नहीं छोड़ा।

नूर हसन ने कत्ल के बाद बीवी, साली और सास के शव से किया रेप, चेहरा जला अलग-अलग जगह फेंका

पानीपत के ट्रिपल मर्डर का पर्दाफाश करते हुए पुलिस ने नूर हसन को गिरफ्तार कर लिया है। उसने बीवी, साली और सास की हत्या का जुर्म कबूल कर लिया है।

छत्तीसगढ़ में कॉन्ग्रेसी सरकार: भ्रष्टाचार पर लिखेंगे तो सड़क पर भी मार खाएँगे और थाने में भी, देखती रहेगी पुलिस

"वह अपने गुंडे पार्षदों के साथ हमारे पत्रकार साथी को थाने तक पीटते हुए ले आए, इसकी वजह थी कि वह नगरपालिका के विरुद्ध RTI लगा कर..."

राजद ने नकारा, नीतीश ने दुत्कारा: कुशवाहा के चावल, यादवों के दूध से जो बनाते थे ‘खीर’ और करते थे खून बहाने की बात

किसी से भी भाव न मिलने के कारण बिहार में रालोसपा और उपेंद्र कुशवाहा की हालत 'धोबी के कुत्ते' की तरह हो गई है, जो न घर का रहता है और न घाट का।

बॉलीवुड ‘सुपरस्टार’ के सामने ‘अपराधी’ शब्द बौना, ड्रग्स से लेकर हत्या/आत्महत्या और दंगों तक… कहाँ खड़ा होता है बॉलीवुड?

ड्रग्स मामला हो या सुपरस्टार्स के गलत कामों पर पर्दा डालने की कोशिश... बॉलीवुड ‘बॉलीवुड’ का बचाव करने से पीछे नहीं हटता है। ऐसा करने...

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का निधन, PM मोदी ने कहा- उन्होंने एक सैन्य अधिकारी और नेता के रूप में देशसेवा की

भारत के पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वयोवृद्ध नेता रहे जसवंत सिंह का रविवार (सितम्बर 27, 2020) की सुबह निधन हो गया।

‘रोओ मत, इमोशनल कार्ड मत खेलो’ – दीपिका पादुकोण 3 बार रोने लगीं, NCB अधिकारियों ने मोबाइल भी कर लिया जब्त

ड्रग्स मामले की जाँच कर रही NCB ने दीपिका पादुकोण, सारा अली खान और श्रद्धा कपूर के मोबाइल फोन्स को भी आगे की जाँच के लिए जब्त कर लिया।

MP रवि किशन को ड्रग्स पर बोलने के कारण मिल रही धमकियाँ, कहा- बच्चों के भविष्य के लिए 2-5 गोली भी मार दी...

रवि किशन को ड्रग्स का मामला उठाने की वजह से कथित तौर पर धमकी मिल रही है। धमकियों पर उन्होंने कहा कि देश के भविष्य के लिए 2-5 गोली खा लेंगे तो कोई चिंता नहीं है।

छत्तीसगढ़: वन भूमि अतिक्रमण को लेकर आदिवासी और ईसाई समुदायों में झड़प, मामले को जबरन दिया गया साम्प्रदयिक रंग

इस मामले को लेकर जिला पुलिस ने कहा कि मुद्दा काकडाबेड़ा, सिंगनपुर और सिलाती गाँवों के दो समूहों के बीच वन भूमि अतिक्रमण का है, न कि समुदायों के बीच झगड़े का।

द वायर ने एडिटेड वीडियो से कृषि बिल विरोधी प्रदर्शनकारियों पर बीजेपी कार्यकर्ताओं के हमले के बारे में फैलाई फर्जी खबरें, यहाँ जाने सच

वायर के सिद्धार्थ वरदराजन और आरफा शेरवानी जैसे तथाकथित 'निष्पक्ष' पत्रकारों ने जानबूझकर भाजपा कार्यकर्ताओं पर प्रारंभिक हमले को नजरअंदाज कर दिया और इस घटना के बारे में आधे सच को आगे फैलाया कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने कृषि बिल विरोधी प्रदर्शनकारियों पर हमला किया था।

ड्रग्स में संलिप्त कलाकारों को निर्माता नहीं दें काम, सुशांत के मामले को भी जल्द सुलझाए CBI: रामदास अठावले

"ड्रग्स में संलिप्त कलाकारों को निर्माता काम नहीं दें। ड्रग्स में संलिप्त कलाकारों को फिल्में देना बंद नहीं हुआ तो आरपीआई कार्यकर्ता विरोध दर्ज कराते हुए शूटिंग बंद करने भी पहुँचेंगे।"

मुख्तार अहमद से राहुल बनने की साजिश में वकील फातिमा ने की मदद: SIT को मिली लव जिहाद से जुड़े मास्टरमाइंड की कड़ी

SIT ने कानपुर लव जिहाद मामले के आरोपित का कथित रूप से फर्जी दस्तावेज तैयार करने के आरोप में एक महिला वकील फातिमा का पता लगाया है।

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
78,058FollowersFollow
325,000SubscribersSubscribe
Advertisements