Article 370: BBC के लिए कश्मीर पर अब सिर्फ यूगांडा-लोसोटो से ही बयान लेना बाकी

हालात ये हैं कि ख़ुदा-न-ख़ास्ता आज की डेट पर अगर यूगांडा में कहीं जोर से 2 लोग खाँस भी दें तो BBC की खबर यही होगी- "अनुच्छेद-370 पर यूगांडा में भी उठी भारत सरकार की दमनकारी अमानवीय नीतियों के खिलाफ आवाज, जनता पर मोदी सरकार कर रही है आँसू गैस का इस्तेमाल।"

देश त्यौहार मना रहा हो और बीबीसी जैसे ‘प्रगतिशील’ मीडिया को इस से समस्या न हो, यह संभव नहीं है। शायद कम लोग यह बात जानते होंगे कि औपनिवेशिक ब्रिटिश साम्राज्य भारत से जाते-जाते यहाँ पर जो विष्ठा छोड़ गए थे, BBC उसी से अंकुरित बीजों का एक उदाहरण मात्र है। जो कसर बाकी थी, वो नेहरुघाटी सभ्यता के विचारकों ने इसे अपने कुत्सित विचारों और कुतर्कों से खूब सींचा।

वास्तव में होना तो यह चाहिए था कि सरकार के अनुच्छेद-370 को इतनी सावधानी और सुरक्षित तरीके से, बिना किसी रक्तपात, हिंसा और विरोध के ही निष्क्रीय करने के फैसले पर मोदी सरकार की इच्छाशक्ति पर उनकी पीठ थपथपाई जाए और कॉन्ग्रेस से पूछा जाए कि जब यही कार्य इतनी आसानी से किया जा सकता था, तो फिर उसने आखिर इतने वर्षों तक इस विषय पर मूक रहकर इतनी सारी लाशें आखिर क्यों बिछने दीं?

लेकिन सिर्फ अपने नमक का कर्ज अदा कर रहे बीबीसी (BBC) का सबसे ताजा मर्म तो यही है, यानी बिना शोर-शराबे के मोदी सरकार द्वारा अनुच्छेद-370 के प्रावधानों को निष्क्रीय कर दिया गया। देखा जाए तो सिर्फ बीबीसी ही नहीं बल्कि देश में एक ऐसा पूरा ‘प्रगतिशील’ वर्ग है जिसे बीबीसी ने आवाज देने का काम किया है। इस वर्ग की ख़ास बात सरकार विरोधी और सदैव असंतुष्ट रहने की प्रवृत्ति है।

BBC की जिंदगी का फिलहाल सिर्फ एक ही मकसद है और वो है ‘पत्थरकारिता’
- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

मसलन, यदि आप कहें कि सूर्य पूरब से उगता है, तो यह वर्ग अपनी फेसबुक प्रोफ़ाइल पिक्चर को यह कहकर काला कर देगा कि आखिर सदियों से चली आ रही पूरब दिशा की पितृसत्ता और मोनोपोली नहीं चल सकती, सूर्योदय पर मात्र पूर्व का एकाधिकार नहीं हो सकता है। आप इसके पीछे तर्क पूछेंगे तो जवाब मिलेगा कि हमें बने बनाए नियमों के विरोध में खड़े होने के लिए कुछ मुद्दा तो पकड़ना ही होगा न साथी? आखिर विचारधारा के अस्तित्व का सवाल है। अपने विरोध के अजेंडे के लिए यह प्रगतिशील विचारक वर्ग सूर्योदय जैसी काल्पनिक घटनाओं में यकीन करता है यही जानकर संतुष्टि कर लेनी चाहिए।

बीबीसी ने अनुच्छेद-370 पर प्रलाप करके इस बार अपने अस्तित्व को बहुत ही सावधानीपूर्वक बचा लिया है। रही बात राष्ट्रीय सुरक्षा और कानून व्यवस्था की तो उस पर तो बाद में भी बात की जा सकती है। बीबीसी ने अल जज़ीरा का सहारा लेकर सौरा-श्रीनगर से एक ऐसे वीडियो को ‘विरोध प्रदर्शन’ बताया, जिसका ओरिजिनल वीडियो गृह मंत्रालय उनसे माँग रहा है लेकिन न ही बीबीसी और न ही अल जज़ीरा ने इस वीडियो का रॉ (Raw/Unedited) वर्जन अभी तक सरकार को सौंपा है।

यह भी पढ़ें: नेहरुघाटी सभ्यता का आखिरी प्रतीक है BBC

वीडियो पर स्पष्टीकरण के उलट, बीबीसी ने अपनी क्लिकबेट पत्रकारिता की करामात से अपनी भ्रामक रिपोर्टिंग को सबूत के तौर पर जरूर पेश किया है, जिसकी हेडलाइन भी उन्हें बाद में बदलनी पड़ी। कठुआ रेप पीड़ितों के नाम पर कथित तौर पर चंदा अकेले डकार जाने वाली जेएनयू की फ्रीलांस प्रोटेस्टर का कहना है कि उन्हें सरकार से ज्यादा बीबीसी पर विश्वास है।

ये वही शेहला रशीद हैं जिन्होंने पुलवामा आतंकी हमले के वक़्त ट्विटर पर अपने फर्जी आरोपों से अफवाह फैलाने का काम किया। हालाँकि, मैं उस दिन देहरादून में ही था और इस वजह से यह बात भी अच्छी तरह से जानता हूँ कि सच्चाई शेहला रशीद के आरोपों से एकदम अलग थी। पुलिस को लगातार स्पष्टीकरण देना पड़ा कि देहरादून में ऐसा कुछ भी नहीं हो रहा है जैसा कि शेहला रशीद और उनका पसंदीदा मीडिया दावा करता रहा। कम से कम यह स्पष्ट था कि शेहला रशीद किस प्रकार की खबर देखना और आगे बढ़ाना पसंद करती हैं।

अब बीबीसी के जीवन का ‘एक्के मकसद’ सिर्फ जनमानस को यह सन्देश देना हो चुका है कि अनुच्छेद-370 के फैसले का श्रीनगर की जनता तो सरकार का विरोध कर ही रही है, लेकिन उनके साथ-साथ पाकिस्तान, तुर्कमेनिस्तान, उज्बेकिस्तान, किर्गिस्तान, ‘लोसोटो’, यूगांडा, बुर्किना फासो यहाँ तक कि निकारागुआ तक की जनता भी परेशान है और भयानक प्रदर्शन कर रही है।

हालात ये हैं कि ख़ुदा-न-ख़ास्ता आज की डेट पर अगर यूगांडा में कहीं जोर से 2 लोग खाँस भी दें तो Big BC की खबर यही होगी- “अनुच्छेद-370 पर यूगांडा में भी उठी भारत सरकार की दमनकारी अमानवीय नीतियों के खिलाफ आवाज, जनता पर मोदी सरकार कर रही है आँसू गैस का इस्तेमाल।”

यह भी पढ़ें: BBC यानी, मीडिया का हाशमी दवाखाना

हमारे देश के प्रगतीशील बुद्धिपीड़ित वर्ग का भी अपना ही अलग दर्द और दुनिया है। मीडिया के इस ख़ास वर्ग का दर्द यह है कि इतना बड़ा ऐतिहासिक फैसला बिना किसी हिंसा और संघर्ष के इतने शानदार होम वर्क के साथ आखिर कैसे सम्भव हो गया? बुद्धिपीड़ितों को तो अभी भी यह उम्मीद है कि काश कहीं तो कुछ खूनखराबा हो, ताकि सरकार के निर्णय पर प्रश्नचिन्ह लगाया जा सके।

एक और ख़ास बात यह कि श्रीनगर के लोगों की आवाज को उठाने की बात वह मीडिया कर रहा है जिसके मालिकों की मानसिक विकृति से हुए मानवाधिकारों के हनन ने युगों तक विश्व के मानचित्र पर अपनी ऐसी छाप छोड़ी है। यह उत्पीड़न इतना भीषण था कि इसका नतीजा लोग आज तक भुगत रहे हैं। ये वही देश है जिसकी नस्लीय और औपनिवेशिक नीतियों की वजह से कई महाद्वीप आज भी प्रभावित हैं।

मीडिया और विपक्षी दलों की ताजातरीन हरकतों पर व्यंग्यकार नीरज बधवार जी लिखते हैं- “कश्मीर में 2 दिन हिंसा और न हुई, तो कॉन्ग्रेसी हवन कराने भी बैठ सकते हैं।” यह व्यंग्य इस वक़्त अनुच्छेद 370 के विरोध में कमर कस कर बैठे हर दूसरे व्यक्ति की मानसिक स्थिति को सटीक रूप से बयाँ करता है। उम्मीद बस इतनी की जा सकती है कि घाटी में शांति और कानून व्यवस्था इसी तरह बनी रहे और यह देखकर उन परम-प्रलापी मीडिया चैनल्स की मानसिक शांति के लिए दुआएँ करते रहिए, जिनके अनुच्छेद-370 जैसे बड़े फैसले को इतना आसानी से लागू होते देखकर डिप्रेशन में जाने के समीकरण बनते जा रहे हैं।

पाकिस्तान पूरे विश्व में इस समय अलग पड़ चुका है। ऐसा लग रहा है मानो अनुच्छेद-370 के फैसले ने पाकिस्तान की विश्व स्तर पर उसकी हैसियत की पोल खोल दी हो। खैर, इस समय पाकिस्तान को मानसिक दिलासा देने की सबसे ज्यादा जरूरत है। ऐसे में बीबीसी और तमाम ऐसे ही संस्थान उसके साथ अगर खड़े हैं भी, तो हमें मानवीय आधार पर कम से कम उनकी तारीफ़ करनी चाहिए। क्योंकि, हारे का सहारा, बीबीसी नेटवर्क हमारा

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

सांप्रदायिकता की लकीर खींचने के लिए अंग्रेज मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड एप्लिकेशन एक्ट लेकर आए। आजादी के बाद कॉन्ग्रेस की तुष्टिकरण नीति की वजह से बाल विवाह के कानून बदले, लेकिन मुस्लिम पर्सनल लॉ को छुआ भी नहीं गया।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

कॉन्ग्रेस नेता भ्रष्टाचार

हमाम में अकेले नंगे नहीं हैं चिदंबरम, सोनिया और राहुल गॉंधी सहित कई नेताओं पर लटक रही तलवार

कॉन्ग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गाँधी और उनके बेटे राहुल गाँधी नेशनल हेराल्ड केस में आरोपित हैं और फिलहाल जमानत पर बाहर हैं। दिसंबर 2015 में दिल्ली की एक अदालत ने दोनों को 50-50 हज़ार रुपए के पर्सनल बॉन्ड पर ज़मानत दी थी।
1984 सिख विरोधी दंगा जाँच

फिर से खुलेंगी 1984 सिख नरसंहार से जुड़ी फाइल्स, कई नेताओं की परेशानी बढ़ी: गृह मंत्रालय का अहम फैसला

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन कमिटी के प्रतिनिधियों की बातें सुनने के बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय ने जाँच का दायरा बढ़ा दिया। गृह मंत्रालय ने कहा कि 1984 सिख विरोधी दंगे के वीभत्स रूप को देखते हुए इससे जुड़े सभी ऐसे गंभीर मामलों में जाँच फिर से शुरू की जाएगी, जिसे बंद कर दिया गया था या फिर जाँच पूरी कर ली गई थी।
रेप

जहाँगीर ने 45 लड़कियों से किया रेप, पत्नी किरण वीडियो बनाकर बेचती थी एडल्ट वेबसाइट्स को

जब कासिम जहाँगीर बन्दूक दिखाकर बलात्कार करता था, उसी वक़्त जहाँगीर की पत्नी किरण वीडियो बनाती रहती थी। इसके बाद पीड़िता को वीडियो और तस्वीरों के नाम पर ब्लैकमेल किया जाता था।
पी चिदंबरम, अमित शाह

चिदंबरम और अमित शाह का फर्क: एक 9 साल पहले डटा था, दूसरा आज भागा-भागा फिर रहा

सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले में जुलाई 22, 2010 को अमित शाह को सीबीआई ने 1 बजे पेश होने को कहा। समन सिर्फ़ 2 घंटे पहले यानी 11 बजे दिया गया था। फिर 23 जुलाई को पेश होने को कहा गया और उसी दिन शाम 4 बजे चार्जशीट दाखिल कर दी गई।
शेहला रशीद शोरा

डियर शेहला सबूत तो जरूरी है, वरना चर्चे तो आपके बैग में कंडोम मिलने के भी थे

हम आपकी आजादी का सम्मान करते हैं। लेकिन, नहीं चाहते कि य​ह आजादी उन टुच्चों को भी मिले जो आपके कंडोम प्रेम की अफवाहें फैलाते रहते हैं। बस यही हमारे और आपके बीच का फर्क है। और यही भक्त और लिबरल होने का भी फर्क है।
वीर सावरकर

वीर सावरकर की प्रतिमा पर पोती कालिख, पहनाया जूतों का हार: DU में कॉन्ग्रेसी छात्र संगठन की करतूत

सावरकर की प्रतिमा को एनएसयूआई दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष अक्षय ने जूते की माला पहनाई। उसने समर्थकों संग मिल कर प्रतिमा के चेहरे पर कालिख पोत दिया। इस दौरान एनएसयूआई के छात्रों की सुरक्षाकर्मियों से झड़प भी हुई।
2018 से अभी तक 20 लोगों को गौ तस्करों ने मार डाला है

गौतस्करों ने 19 हिन्दुओं की हत्या की, लेकिन गोपाल की हत्या उसे तबरेज़ या अखलाक नहीं बना पाती

सौ करोड़ की आबादी, NDA के 45% वोट शेयर में आखिर किसके वोटर कार्ड हैं? फिर सवाल कौन पूछेगा इन हुक्मरानों से? आलम यह है कि तीन चौथाई बहुमत वाले योगी जी के राज्य में, हिन्दुओं को अपने घरों पर लिखना पड़ रहा है कि यह मकान बिकाऊ है!
चापेकर बंधु

जिसके पिता ने लिखी सत्यनारायण कथा, उसके 3 बेटों ने ‘इज्जत लूटने वाले’ अंग्रेज को मारा और चढ़ गए फाँसी पर

अंग्रेज सिपाही प्लेग नियंत्रण के नाम पर औरतों-मर्दों को नंगा करके जाँचते थे। चापेकर बंधुओं ने इसका आदेश देने वाले अफसर वॉल्टर चार्ल्स रैंड का वध करने की ठानी। प्लान के मुताबिक जैसे ही वो आया, दामोदर ने चिल्लाकर अपने भाइयों से कहा "गुंडया आला रे" और...

मिस्टर चिदंबरम को, पूर्व गृह मंत्री, वित्त मंत्री को ऐसे उठाया CBI ने… तो? चावल के लोटे में पैर लगवाते?

अगर एनडीटीवी को सीबीआई के दीवार फाँदने पर मर्यादा और 'तेलगी को भी सम्मान से लाया गया था' याद आ रहा है तो उसे यह बात भी तो याद रखनी चाहिए पूर्व गृह मंत्री को कानून का सम्मान करते हुए, संविधान पर, कोर्ट पर, सरकारी संस्थाओं पर विश्वास दिखाते हुए, एक उदाहरण पेश करना चाहिए था।
शेहला रशीद

‘शेहला बिन बुलाए चली आई, अब उसे खदेड़ तो नहीं सकते… लेकिन हमने उसे बोलने नहीं दिया’

दिल्ली के जंतर-मंतर पर विपक्षी नेताओं का जमावड़ा लगा। मौक़ा था डीएमके द्वारा आयोजित विरोध प्रदर्शन का। शेहला रशीद के बारे में बात करते हुए डीएमके नेता ने कहा कि कुछ लोग बिना बुलाए आ गए हैं तो अब भगाया तो नहीं जा सकता न।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

84,333फैंसलाइक करें
11,888फॉलोवर्सफॉलो करें
90,819सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: