Monday, January 25, 2021
Home विविध विषय भारत की बात महात्मा गाँधी किसी मस्जिद में गीता पाठ कर सकते हैं क्या? आखिर क्यों नाथूराम...

महात्मा गाँधी किसी मस्जिद में गीता पाठ कर सकते हैं क्या? आखिर क्यों नाथूराम गोडसे ने पूछा था यह सवाल

दिल्ली की बंगाली कॉलोनी में एक मंदिर में महात्मा गाँधी ने कुरान का पाठ किया था, जिससे गोडसे विचलित हो गए थे। गोडसे ने इसके विरोध में मार्च भी निकाला था। गोडसे का ये पूछना था कि महात्मा गाँधी किसी मस्जिद में गीता पाठ कर सकते हैं क्या?

जैसा कि हम सबको पता है, राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की हत्या नाथूराम गोडसे ने 30 जनवरी 1948 को कर दी थी। मई 19, 1910 को गोडसे का जन्म हुआ था। इस हिसाब से गोडसे के जन्म के अब तक 110 वर्ष हो गए।

मोहनदास करमचंद गाँधी की हत्या के बाद चले अभियोजन में गोडसे को दोषी पाया गया और उन्हें फाँसी की सज़ा सुनाई गई। नाथूराम गोडसे सहित कई लोगों पर उस मामले में मुकदमा चला था।

कहते हैं, महात्मा गाँधी की हत्या के बाद सिर्फ़ संदेह के आधार पर ही हज़ारों लोगों को गिरफ़्तार कर लिया गया था। इनमें से एक व्यक्ति ऐसे भी थे, जिनसे जवाहलाल नेहरू की पुरानी अदावत थी और उन्होंने उनसे बदला निकालने की भरसक कोशिश की।

जी हाँ, विनायक दामोदर सावरकर को भी महात्मा गाँधी की हत्या में जबरन घसीटा गया। मुंबई पुलिस ने सावरकर सदन पर छापा मारा और उनके घर से 143 फाइलें जब्त कर की गईं, जिनमें 10 हज़ार से भी अधिक पत्र इत्यादि थे।

जाहिर है, गोडसे के बहाने सावरकर को फँसाने की पूरी कोशिश की गई। सावरकर को ऑर्थर रोड जेल में बंद कर दिया गया। ये सब बावजूद इसके हुआ, कि सावरकर ने विज्ञप्ति जारी कर गाँधी की हत्या पर दुःख जताया था।

सावरकर ने महात्मा गाँधी की हत्या के 1 दिन बाद ही इसे वैश्विक महा-त्रासदी का क्षण करार देते हुए कहा था कि उन्हें इस ख़बर की सूचना से गहरा धक्का लगा है। उन्होंने जनता से सामाजिक सद्भाव बना कर रखते हुए केंद्र सरकार के सहयोग की अपील की थी।

वीर सावरकर ने महात्मा गाँधी को महान हस्ती बताया था और लोगों को तोड़फोड़ न मचाने की सलाह देते हुए ख़ुद को शोकग्रस्त बताया था। फ़रवरी के पहले हफ्ते में ही पुलिस की दबिश पड़ी और सावरकर को जेल में डाल दिया गया।

इस मामले में नाथूराम गोडसे का बयान भी जानने लायक है। उन्होंने साफ़ कहा था कि गाँधी की हत्या में सावरकर का कोई हाथ नहीं है। गोडसे ने अदालत में कहा था कि गाँधी की हत्या से सावरकर उतने ही अनभिज्ञ हैं, जितनी आकाश से पृथ्वी अलग है।

जहाँ एक तरफ हम गाँधी जी के बयानों की चर्चा करते हैं, उन्हें पढ़ते हैं, वहीं गोडसे की मानसिकता जानने के लिए उनके द्वारा अदालत में दिए गए बयान काफी उपयोगी सिद्ध होते हैं।

हरिंद्र श्रीवास्तव ने अपनी पुस्तक ‘सावरकर पर थोपे हुए चार अभियोग‘ में गोडसे के उस बयान का जिक्र किया है। गोडसे ने कहा था कि उन्होंने गाँधी जी को स्वर्ग पहुँचा कर यमदूत का धर्म निभाया है। अदालत में गोडसे ने कहा था:

“गाँधीजी के साथ जो भी किया गया, वो मैंने ही किया है। ये मेरी ही योजना थी। इसमें सावरकर को घसीटना भ्रामक, मिथ्यापूर्ण और शरारती होगा। गाँधीजी की आत्मा को परमात्मा तक मैंने पहुँचाया है, ऐसे में किसी और के सिर पर इसका सेहरा बाँधना मेरे यमदूतत्व की तौहीन होगी। गाँधीजी प्रभु श्रीराम के चरणदास थे, मैंने उन्हें श्रीराम के पास ही पहुँचा दिया। गाँधीजी जीवन भर ‘सत्य के प्रयोग’ करते रहे, मैंने उन्हें सत्य के देवता का दर्शन करा दिया। बेचारे जिंदगी भर अवसादग्रस्त रहे, मैंने उन्हें उनके अवसाद से मुक्ति दिला दी। मैंने गाँधीजी को ठिकाने पहुँचा कर राष्ट्र का कार्य किया है।”

सावरकर एक ऐसे व्यक्ति थे, जिनसे तमाम आलोचनाओं के बावजूद महात्मा गाँधी भी प्रभावित रहते थे। नाथूराम गोडसे ने भी स्वीकार किया था कि वो सावरकर के विचारों से प्रभावित रहे हैं। गाँधीजी सावरकर द्वारा दलित-उद्धार के लिए किए जा रहे कार्यों के मुरीद थे लेकिन उनके हिंदुत्व की आलोचना करते थे।

सरकारी वकील का कोर्ट में कहना था कि गाँधी की हत्या से पहले सावरकर के घर में जाकर गोडसे ने आशीर्वाद लिया था।

गोडसे का मानना था कि महात्मा गाँधी की कार्यप्रणाली हिन्दू विरोधी और हिन्दू इतिहास के विपरीत है। गोडसे लगातार मजहबी घुसपैठियों द्वारा हिन्दुओं पर किए गए अत्याचार के कारण दुःखी रहते थे और इस बात को वो गाँधी जी को भी समझाना चाहते थे।

गोडसे का कहना था कि इस्लामी घुसपैठिए भारत को ‘दारुल हरब’ बनाना चाहते हैं। उनका मानना था कि लोग मर-कट रहे हैं लेकिन गाँधीजी ‘निर्लज्जता’ से हिन्दू विरोधी कार्यों में समुदाय विशेष का साथ दे रहे हैं।

गाँधीजी की हत्या का नाट्य रूपांतरण फ़िल्म ‘हे राम’ में

नाथूराम गोडसे के भाई और गाँधीजी की हत्या में उम्रकैद की सज़ा भुगत चुके गोपाल गोडसे ने अपनी पुस्तक ‘गाँधी वध क्यों‘ में लिखा है कि नाथूराम ने कहा था कि उन्होंने देश की भलाई के लिए ये काम किया है और इंसानों के न्यायालय से ऊपर कोई और अदालत है तो वहाँ उनके इस कृत्य को पाप नहीं समझा जाएगा।

नाथूराम ने कहा था कि उन्होंने ऐसे व्यक्ति पर गोली चलाई है, जिसकी नीतियों से हिन्दुओं पर घोर संकट आए, हिन्दू नष्ट हुए।

गोपाल गोडसे को भी अपने अंतिम दिनों तक गाँधीजी की हत्या पर कोई अफ़सोस नहीं था और वो भारत के विभाजन के लिए उन्हें ही दोषी मानते रहे।

गोपाल गोडसे पुणे में रहते थे और बुढ़ापे तक दिए गए हर इंटरव्यू में उन्होंने गाँधीजी की हत्या के लिए ‘गाँधी वध’ शब्द का प्रयोग किया और साथ ही इसी नाम से एक पुस्तक भी लिखी। इस पुस्तक की शुरुआत में उन्होंने जस्टिस खोसला के एक बयान का जिक्र किया है।

जस्टिस खोसला महात्मा गाँधी की हत्या के बाद हो रही सुनवाई में शामिल थे। उनका कहना था कि अगर अगर जनता को जूरी बना दिया जाता और उन्हें फ़ैसला सुनाने का जिम्मा सौंप दिया जाता तो वो निश्चित ही नाथूराम गोडसे को निर्दोष करार देती और वो भी काफ़ी बड़े बहुमत से। ये बयान बताता है कि गोडसे के विचारों और उनके तर्कों से जनता का एक बड़ा भाग सहमत था। इसीलिए, आज उनके बयानों पर चर्चा तो होनी ही चाहिए।

नाथूराम गोडसे ने अदालत में स्पष्ट कहा था कि वो किसी भी प्रकार की दया नहीं चाहते हैं और न ही वो ये चाहते हैं कि कोई उनके लिए दया की अपील करे। उनका कहना था कि देश के लिए भले ही गाँधीजी ने अनगिनत कष्ट सहे हों लेकिन उन्हें राष्ट्र के विभाजन का अधिकार नहीं था।

उन्होंने अपने अंतिम पत्र में अनुजों को अपने बीमा के रुपयों के मिलने की बात लिखी थी। उनकी अंतिम इच्छा थी कि जब सिंधु नदी पूर्णरूपेण भारत में फिर से बहे, तो उनकी अस्थियाँ उसमें प्रवाहित की जाएँ।

नाथूराम गोडसे को अपने अंतिम दिनों में भी भारत और हिंदुत्व की चिंता खाए जा रही थी। तभी तो उन्हें जैसे ही पता चला कि सोमनाथ मंदिर के पुनरुद्धार का कार्य होने जा रहा है, उन्होंने 101 रुपए अपने बंधुओं को भिजवाए और उनसे कहा कि इस धनराशि को मंदिर के कलश के लिए भिजवाया जाए।

नाथूराम गोडसे इस बात के लिए भी दुःखी थे कि महात्मा गाँधी के अनशन के कारण भारत सरकार ने पाकिस्तान को 55 करोड़ रुपए न देने के फ़ैसला बदल लिया। कुछ और भी ऐसी बातें थीं, जिसके कारण नाथूराम गोडसे गाँधीजी से नाराज़ थे।

दिल्ली की बंगाली कॉलोनी में एक मंदिर में महात्मा गाँधी ने कुरान का पाठ किया था, जिससे गोडसे विचलित हो गए थे। गोडसे ने इसके विरोध में मार्च भी निकाला था। गोडसे का ये पूछना था कि क्या महात्मा गाँधी किसी मस्जिद में गीता पाठ कर सकते हैं क्या? नाथूराम गोडसे इन्हीं कारणों से गाँधी से खफा थे, जिसके बाद उन्होंने हत्या जैसा कदम उठाया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘लता मंगेशकर ने 1947 में नेहरू के लिए गाया था ऐ मेरे वतन के लोगों’: विशाल डडलानी ने बताया इतिहास – Fact Check

विशाल डडलानी ने दावा किया है कि लता मंगेशकर ने भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के लिए 'ऐ मेरे वतन के लोगों' गाना गाया था।

ThePrint को रूसी विदेश मंत्रालय से पड़ी लताड़, भारत-रूस का नाम ले फैला रहा था फेक न्यूज

रूसी विदेश मंत्रालय ने शेखर गुप्ता की 'द प्रिंट' को जम कर लताड़ लगाई। उसने भारत-रूस के बीच होने वाली वार्षिक बैठक को लेकर फेक न्यूज़ फैलाई थी।

रामतीर्थम पहुँची भगवान राम, सीता और लक्ष्मण की नई प्रतिमा, धड़ से अलग कर दिया गया था 400 साल पुरानी मूर्ति का सिर

आंध्र प्रदेश में दिसंबर में उपद्रवियों ने भगवान की मूर्ति को क्षतिग्रस्त कर दिया था। नई मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा 28 जनवरी को होगी।

नेपाल में चीन पैंतरे नाकाम, कम्युनिस्ट पार्टी ने कार्यकारी PM ओली को पार्टी से निकाला

नेपाल की कम्युनिस्ट पार्टी ने कार्यकारी प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को पार्टी से निकाल कर उनकी सदस्यता रद्द कर दी है।

राहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती… अनुवादक मोहम्मद इमरान बेहोश हो गए

इरोड में राहुल गाँधी के अंग्रेजी भाषण का तमिल में अनुवाद करने वाले प्रोफेसर मोहम्मद इमरान मंच पर ही बेहोश होकर गिर पड़े।

26 जनवरी पर ट्रैक्टर रैली को दिल्ली पुलिस की हरी झंडी, SFJ ने कहा-भिंडरावाले के पोस्टर लहराना

नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान संगठनों को 26 जनवरी पर ट्रैक्टर रैली निकालने की अनुमति मिल गई है।

प्रचलित ख़बरें

12 साल की लड़की का स्तन दबाया, महिला जज ने कहा – ‘नहीं है यौन शोषण’: बॉम्बे HC का मामला

बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच ने शारीरिक संपर्क या ‘यौन शोषण के इरादे से किया गया शरीर से शरीर का स्पर्श’ (स्किन टू स्किन) के आधार पर...

मदरसा सील करने पहुँची महिला तहसीलदार, काजी ने कहा- शहर का माहौल बिगड़ने में देर नहीं लगेगी, देखें वीडियो

महिला तहसीलदार बार-बार वहाँ मौजूद मुस्लिम लोगों को मामले में कलेक्टर से बात करने के लिए कह रही है। इसके बावजूद लोग उसकी बात को दरकिनार करते हुए उसे धमकाते हुए नजर आ रहे हैं।

राहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती… अनुवादक मोहम्मद इमरान बेहोश हो गए

इरोड में राहुल गाँधी के अंग्रेजी भाषण का तमिल में अनुवाद करने वाले प्रोफेसर मोहम्मद इमरान मंच पर ही बेहोश होकर गिर पड़े।

निकिता तोमर को गोली मारते कैमरे में कैद हुआ था तौसीफ, HC से कहा- मैं निर्दोष, यह ऑनर किलिंग

निकिता तोमर हत्याकांड के मुख्य आरोपित तौसीफ ने हाई कोर्ट से घटना की दोबारा जाँच की माँग की है। उसने कहा कि यह मामला ऑनर किलिंग का है।

‘जिस लिफ्ट में ऑस्ट्रेलियन, उसमें हमें घुसने भी नहीं देते थे’ – IND Vs AUS सीरीज की सबसे ‘गंदी’ कहानी, वीडियो वायरल

भारतीय क्रिकेटरों को सिडनी में लिफ्ट में प्रवेश करने की अनुमति सिर्फ तब थी, अगर उसके अंदर पहले से कोई ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी न हो। एक भी...

बहन को फुफेरे भाई कासिम से था इश्क, निक़ाह के एक दिन पहले बड़े भाई फिरोज ने की हत्या: अश्लील फोटो बनी वजह

इस्लामुद्दीन की 19 वर्षीय बेटी फिरदौस के निक़ाह की तैयारियों में पूरा परिवार जुटा हुआ था। तभी शनिवार की सुबह घर में टूथपेस्ट कर रही फिरदौस को अचानक उसके बड़े भाई फिरोज ने तमंचे से गोली मार दी।
- विज्ञापन -

 

‘लता मंगेशकर ने 1947 में नेहरू के लिए गाया था ऐ मेरे वतन के लोगों’: विशाल डडलानी ने बताया इतिहास – Fact Check

विशाल डडलानी ने दावा किया है कि लता मंगेशकर ने भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के लिए 'ऐ मेरे वतन के लोगों' गाना गाया था।

ThePrint को रूसी विदेश मंत्रालय से पड़ी लताड़, भारत-रूस का नाम ले फैला रहा था फेक न्यूज

रूसी विदेश मंत्रालय ने शेखर गुप्ता की 'द प्रिंट' को जम कर लताड़ लगाई। उसने भारत-रूस के बीच होने वाली वार्षिक बैठक को लेकर फेक न्यूज़ फैलाई थी।

कॉन्ग्रेसी सांसद ने कहा- खालिस्तानी कर रहे किसान आंदोलन को हाइजैक, पार्टी के सुर कुछ और ही

कॉन्ग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा है कि कृषि कानून के खिलाफ हो रहे किसान आंदोलन को खालिस्तानी तत्व हाइजैक करने का प्रयास कर रहे है।

रामतीर्थम पहुँची भगवान राम, सीता और लक्ष्मण की नई प्रतिमा, धड़ से अलग कर दिया गया था 400 साल पुरानी मूर्ति का सिर

आंध्र प्रदेश में दिसंबर में उपद्रवियों ने भगवान की मूर्ति को क्षतिग्रस्त कर दिया था। नई मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा 28 जनवरी को होगी।

मुस्लिम बहुल मालवणी में मुंबई पुलिस ने फाड़ दिए थे भगवान राम के पोस्टर, कार्रवाई को लेकर बीजेपी का प्रदर्शन

मुंबई के मुस्लिम बहुल इलाके मालवणी में भगवान राम के पोस्टर फाड़ने को लेकर बीजेपी ने प्रदर्शन किया। दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मॉंग की।

नेपाल में चीन पैंतरे नाकाम, कम्युनिस्ट पार्टी ने कार्यकारी PM ओली को पार्टी से निकाला

नेपाल की कम्युनिस्ट पार्टी ने कार्यकारी प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को पार्टी से निकाल कर उनकी सदस्यता रद्द कर दी है।

बिशप का गोपनीय पत्रः चर्च समर्थक कैंडिडेट को टिकट दें, ईसाई कम्युनिस्ट पार्टी का समर्थन करेंगे

केरल की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी से विधानसभा चुनावों में एक चर्च समर्थित उम्मीदवार को टिकट देने की सिफारिश कर एक कैथोलिक बिशप विवादों में घिर गए हैं।

राहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती… अनुवादक मोहम्मद इमरान बेहोश हो गए

इरोड में राहुल गाँधी के अंग्रेजी भाषण का तमिल में अनुवाद करने वाले प्रोफेसर मोहम्मद इमरान मंच पर ही बेहोश होकर गिर पड़े।

26 जनवरी पर ट्रैक्टर रैली को दिल्ली पुलिस की हरी झंडी, SFJ ने कहा-भिंडरावाले के पोस्टर लहराना

नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान संगठनों को 26 जनवरी पर ट्रैक्टर रैली निकालने की अनुमति मिल गई है।

सरकारी कार्यक्रम में ‘ला इलाहा इल्लल्लाह’ तो ‘जय श्री राम’ से दिक्कत क्यों: Video शेयर कर ममता से BJP ने पूछा

बीजेपी ने ममता बनर्जी से सवाल किया है कि जब वे सरकारी कार्यक्रम में इस्लामिक इबादत कर सकती हैं, तो ‘जय श्री राम’ बोलने में दिक्कत क्यों होती है?

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
385,000SubscribersSubscribe