Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाज'Bulli Bai' एप के मास्टरमाइंड का हिन्दू संगठनों से कोई सम्बन्ध नहीं, मशहूर होने...

‘Bulli Bai’ एप के मास्टरमाइंड का हिन्दू संगठनों से कोई सम्बन्ध नहीं, मशहूर होने के लिए किया ये सब: दिल्ली पुलिस

"ऐसी संभावना है कि उसका नेटवर्क सुल्ली डील से भी जुड़ा है। उसके द्वारा इस्तेमाल किए गए टूल को स्कैन किया जा रहा है। इसके माध्यम से हम सुल्ली डील के दोषियों तक भी पहुँच सकते हैं।"

दिल्ली पुलिस की अब तक की जाँच में सामने आया है कि ‘बुल्ली बाई ऐप’ (Bulli Bai App) मामले में असम से गिरफ्तार मुख्य साजिशकर्ता नीरज बिश्नोई ने मशहूर होने और अपनी पहचान बनाने के लिए मुस्लिम महिलाओं को निशाना बनाया था। द न्यू इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली पुलिस ने कहा कि अभी तक इस तरह की गतिविधियों में शामिल होने के लिए 21 वर्षीय बिश्नोई को किसी और के द्वारा प्रभावित किए जाने का पता नहीं चला है।

‘बुल्ली बाई’ ऐप के मास्टरमाइंड का हिंदू संगठनों से कोई संबंध नहीं’

‘बुल्ली बाई’ ऐप के मास्टरमाइंड का हिंदू संगठनों से संबंध होने की अटकलों के बीच टाइम्स नाउ के वरिष्ठ पत्रकार, राहुल शिवशंकर ने खुलासा किया कि नीरज बिश्नोई का किसी हिंदू संगठन से कोई संबंध नहीं है। राहुल शिवशंकर ने 6 जनवरी को अपने ट्वीट में पुलिस के हवाले से कहा था कि जोरहाट से मास्टरमाइंड की गिरफ्तारी से जुड़ा मामला पूरी तरह से सुलझ गया है। टाइम्स नाउ के पत्रकार ने पुष्टि की थी, “मास्टरमाइंड का हिंदू (भगवा) समूहों से कोई संबंध नहीं है।”

‘सुल्ली डील’ विवाद के दौरान सक्रिय था नीरज बिश्नोई

दिल्ली पुलिस ने आगे कहा कि इससे पहले विवादित सुल्ली डील मामले में भी नीरज बिश्नोई की कथित संलिप्तता की संभावना है। हम इस मामले की जाँच कर रहे हैं। उन्होंने कहा, “ऐसी संभावना है कि उसका नेटवर्क सुल्ली डील से भी जुड़ा है। उसके द्वारा इस्तेमाल किए गए टूल को स्कैन किया जा रहा है। इसके माध्यम से हम सुल्ली डील के दोषियों तक भी पहुँच सकते हैं।” एक अधिकारी ने बताया, “सुल्ली डील की जाँच के दौरान, उसने खुद को मीडियाकर्मी बताकर हमारी टीम को व्हाट्सएप पर कॉल करके गुमराह करने की कोशिश की थी। हमें यह जानकारी उसके फोन के माध्यम से मिली है।”

इस मामले की जाँच कर रहे अधिकारियों के मुताबिक, बुल्ली बाई ऐप के मास्टरमाइंड बिश्नोई ने ट्विटर पर एक अकाउंट बनाया, था, जहाँ उसने मुस्लिम महिलाओं की फोटो पर भद्दे कमेंट किए थे। यही नहीं उसने उनकी नीलामी के बारे में भी यहाँ पर लिखा था। सुल्ली डील मामले की जाँच के दौरान इनमें से एक अकाउंट सामने आया था। उसने इस अकाउंट के माध्यम से सुल्ली डील्स ऐप के प्रचारक/आयोजक के बारे में कुछ जानकारी देने की कोशिश की थी।

बता दें कि ‘बुल्ली बाई’ ऐप मामले में दिल्ली पुलिस की ‘इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रेटेजिक ऑपरेशन (IFSO)’ यूनिट की टीम ने शुक्रवार (7 जनवरी 2022) को असम से मुख्य साजिशकर्ता को गिरफ्तार किया था। 20 वर्षीय नीरज बिश्नोई असम के जोरहाट के दिगंबर एरिया का रहने वाला है। नीरज भोपाल के वेल्लोर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (Vellore Institute of Technology) में बीटेक का छात्र है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘दरबार हॉल’ अब कहलाएगा ‘गणतंत्र मंडप’, ‘अशोक हॉल’ बना ‘अशोक मंडप’: महामहिम द्रौपदी मुर्मू का निर्णय, राष्ट्रपति भवन ने बताया क्यों बदला गया नाम

राष्ट्रपति भवन ने बताया है कि 'दरबार' का अर्थ हुआ कोर्ट, जैसे भारतीय शासकों या अंग्रेजों के दरबार। बताया गया है कि अब जब भारत गणतंत्र बन गया है तो ये शब्द अपनी प्रासंगिकता खो चुका है।

जिसका इंजीनियर भाई एयरपोर्ट उड़ाने में मरा, वो ‘मोटू डॉक्टर’ मारना चाह रहा था हिन्दू नेताओं को: हाई कोर्ट से माँग रहा था रहम,...

कर्नाटक हाई कोर्ट ने आतंकी मोटू डॉक्टर को राहत देने से इनकार कर दिया है। उस पर हिन्दू नेताओं की हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोप है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -