Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजAMU के पार्क में मॉर्निंग वॉक कर रहा था सफ़दर अली, कुत्तों ने मार...

AMU के पार्क में मॉर्निंग वॉक कर रहा था सफ़दर अली, कुत्तों ने मार डाला: हाथ-पैर-पेट सब जगह नोचा, 10-12 की संख्या में थे

बताया जा रहा है कि सफदर अली स्थानीय सिविल लाइन थाना क्षेत्र का निवासी है। वह रोज की तरह पार्क में घूमने आया था।

देश भर में कुत्तों के हमले की घटनाएँ बढ़ती जा रहीं हैं। ऐसा ही एक मामला उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से सामने आया है। जहाँ पार्क में घूम रहे एक व्यक्ति को कुत्तों ने नोंच-नोंचकर मार डाला। मृतक की पहचान सफदर अली के रूप में हुई। घटना रविवार (16 अप्रैल, 2023) की है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सफदर अली नामक व्यक्ति सुबह करीब 6:30 बजे यूनिवर्सिटी के पार्क में मॉर्निंग वॉक करने आया था। जहाँ कुत्तों के एक झुंड ने उस पर हमला कर दिया। हमले के बाद वह गिर गया। इसके बाद कुत्तों ने उसके हाथ, पैर और पेट व अन्य अंगों को नोंचकर घायल कर दिया। इससे उसकी मौत हो गई। घटना का वीडियो भी सामने आया है। वीडियो में सफदर अली सफेद कपड़े में टहलते हुए दिखाई दे रहा है। कुत्ते चारों ओर से उसे घेर कर नोच रहे हैं। वहीं, सफदर अली खुद को बचाने के लिए हाथ पैर हिलाता दिखाई दे रहा है।

बताया जा रहा है कि सफदर अली स्थानीय सिविल लाइन थाना क्षेत्र का निवासी है। वह रोज की तरह पार्क में घूमने आया था। इसी दौरान कुत्तों के हमले से यह घटना हो गई। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के गार्ड ने उसके शव को देखकर पुलिस को सूचना दी थी। इसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुँचकर जाँच शुरू की। जाँच के दौरान आसपास के CCTV खँगालने के बाद मामले की सच्चाई सामने आई। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है।

इस घटना पर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के प्रॉक्टर मोहम्मद वसीम अली का कहना है कैंपस में एक शव पड़ा दिखाई दिया था। इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई थी। यूनिवर्सिटी में लगे सीसीटीवी के फुटेज पुलिस को सौंपे गए हैं। वहीं, सिटी एसपी कुलदीप गुनावत का कहना है कि सीसीटीवी फुटेज के अनुसार कुत्ते के हमले से मौत हुई है। 10-12 कुत्तों ने हमला किया है। हालाँकि इसके बाद भी मौत के कारण जानने के लिए शव का पोस्टमार्टम किया जा रहा है। शेष आवश्यक कार्रवाई भी की जा रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

घुमंतू (खानाबदोश) पूजा खेडकर: जिसका बाप IAS, वो गुलगुलिया की तरह जगह-जगह भटक बिताई जिंदगी… इसी आधार पर बन गई MBBS डॉक्टर

पूजा खेडकर ने MBBS में नाम लिखवाने से लेकर IAS की नौकरी पास करने तक में नाम, उम्र, दिव्यांगता, अटेंप्ट और आय प्रमाण पत्र में फर्जीवाड़ा किया।

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -