Thursday, July 18, 2024
Homeदेश-समाज'किसी कैदी को स्पेशल सुविधा नहीं दे सकती सरकार': तिहाड़ में फल-सब्जियाँ चाभ रहे...

‘किसी कैदी को स्पेशल सुविधा नहीं दे सकती सरकार’: तिहाड़ में फल-सब्जियाँ चाभ रहे AAP के मंत्री सत्येंद्र जैन पर HC सख्त, मेवा माँगने वाली याचिका ख़ारिज

कोर्ट ने यह भी कहा है कि सत्येंद्र जैन को 'स्पेशल' फल और सब्जियाँ उपलब्ध कराना भारत के संविधान, 1950 के अनुच्छेद 14 का उल्लंघन था, क्योंकि राज्य सभी कैदियों के साथ समान व्यवहार करने के लिए बाध्य है

दिल्ली उच्च न्यायालय ने अरविंद केजरीवाल के मंत्री सत्येंद्र जैन की उस याचिका को खारिज कर दिया है, जिसमें उन्होंने जेल में फल और मेवों की माँग की थी। साथ ही कोर्ट ने तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा है कि तिहाड़ जेल के अधिकारियों ने उन्हें फल और सब्जियाँ देकर ‘विशेष व्यवहार’ किया है, जो कि दिल्ली जेल नियमों का उल्लंघन है। सत्येंद्र जैन मनी लॉन्ड्रिंग मामले में तिहाड़ जेल में बंद हैं।

शनिवार (26 नवंबर, 2022) को दिल्ली हाई कोर्ट के विशेष जज विकास ढुल ने कहा है कि जेल में किसी को भी विशेष सुविधा नहीं दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा है कि तिहाड़ जेल के कर्मचारियों द्वारा डीजीपी जेल या किसी अथॉरिटी के आदेश के बिना सत्येंद्र जैन को फल या सब्जियाँ देना डीपीआर 2018 का उल्लंघन है।

कोर्ट ने यह भी कहा है कि सत्येंद्र जैन को ‘स्पेशल’ फल और सब्जियाँ उपलब्ध कराना भारत के संविधान, 1950 के अनुच्छेद 14 का उल्लंघन था, क्योंकि राज्य सभी कैदियों के साथ समान व्यवहार करने के लिए बाध्य है और जाति, पंथ, लिंग, धर्म इत्यादि के आधार पर कोई भेदभाव नहीं किया जा सकता है। भारतीय कानून अमीर-गरीब, पुरुष, महिला या अन्य किसी प्रकार का भी भेदभाव नहीं करने की अनुमति नहीं देता है।

जस्टिस विकास ढुल ने अपनी टिप्पणी को कोट करते हुए कहा है कि ‘विशेष व्यवहार’ को लेकर की गई उनकी टिप्पणी की पुष्टि इस बात से होती है कि तिहाड़ जेल नंबर 7 के (जहाँ सत्येंद्र जैन बंद है) महानिदेशक (जेल) और लगभग 26 अधिकारियों का ट्रांसफर कर दिया गया है और जेल अधीक्षक को निलंबित कर दिया गया है।

यही नहीं, कोर्ट ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में जेल में बंद सत्येंद्र जैन के वकील की इस दलील को खारिज कर दिया जिसमें उन्होंने कहा था कि मेवे न मिल पाने के कारण जैन का वजन 28 किलो तक घट गया है। बता दें कि सत्येंद्र जैन ने अपनी याचिका में धार्मिक उपवास के अनुसार जेल में खाना उपलब्ध कराने की माँग की थी। हालाँकि, कोर्ट ने सत्येंद्र जैन की यह याचिका खारिज कर दी। कुल मिलाकर अब सत्येंद्र जैन की डाइट में ड्राई फ्रूट्स और फल शामिल नहीं होंगे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नई नहीं है दुकानों पर नाम लिखने की व्यवस्था, मुजफ्फरनगर पुलिस ने काँवड़िया रूट पर मजहबी भेदभाव के दावों को किया खारिज: जारी की...

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में पुलिस ने ताजी एडवायजरी जारी की है, जिसमें दुकानों और होटलों पर मालिकों के नाम लिखने को ऐच्छिक कर दिया है।

‘भ#$गी हो, भ$गी बन के रहो’: जामिया के 3 प्रोफेसर पर FIR, दलित कर्मचारी पर धर्म परिवर्तन का डाल रहे थे दबाव; कहा- ईमान...

एफआईआर में आरोपित नाज़िम हुसैन अल-जाफ़री जामिया मिल्लिया इस्लामिया के रजिस्ट्रार हैं तो नसीम हैदर डिप्टी रजिस्ट्रार। इनके साथ ही आरोपित शाहिद तसलीम यूनिवर्सिटी में प्रोफ़ेसर हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -