Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजपहले बकरीद पर पर्दे में होती थी कुर्बानी, इस बार मंदिर के आगे काटा...

पहले बकरीद पर पर्दे में होती थी कुर्बानी, इस बार मंदिर के आगे काटा भैंस: बरेली के एक हिन्दू बहुल गाँव में इसरार एंड फैमिली ने नया ‘रिवाज’ शुरू कर बढ़ाया तनाव

पुलिस ने इसरार, उसके चारों बेटों, इस्लाम, शफी और अखलाख के खिलाफ केस दर्ज कर लिया। इन सभी पर भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 429 के साथ पशु क्रूरता अधिनियम के तहत कार्रवाई की गई है।

उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में बकरीद (17 जून) के मौके पर 2 पक्षों के बीच तनाव फ़ैल गया। तनाव की वजह सीबीगंज थानाक्षेत्र के एक गाँव में मुस्लिम पक्ष द्वारा नया रिवाज कायम करते हुए बकरे के बजाय भैंस की कुर्बानी करना था। हिन्दू पक्ष का यह भी आरोप है कि कुर्बानी एक प्राचीन मंदिर के आगे दी गई थी। पुलिस इस घटना पर FIR दर्ज करके जाँच कर रही है। मामले में इस्लाम, इस्लाम, शफी और अखलाक सहित कुछ अन्य लोगों को आरोपित किया गया है। FIR में इसरार के चारों बेटों का भी नाम है। ऑपइंडिया ने इस मामले में ताजा हालातों की जानकारी ली।

यह घटना बरेली के गाँव जोगीठेर की है। इस संबंध में 17 जून को थाना सीबीगंज में गाँव के संग्राम सिंह, अनुज, अनिल और गंगाधर सहित लगभग ढाई दर्जन ग्रामीणों ने शिकायत दर्ज करवाई। शिकायत में उन्होंने बताया कि गाँव के ही इसरार, उसके चारों बेटों, इस्लाम, शफी और अखलाख ने नया रिवाज शुरू करते हुए भैंसे की कुर्बानी दी। यह कुर्बानी 17 जून को दोपहर लगभग 11:30 पर गाँव में बने शिव मंदिर के सामने देने का आरोप लगाया गया। शिकायतकर्ता के मुताबिक आरोपितों की इस हरकत से गाँव में असंतोष फ़ैल गया था।

पुलिस ने इसरार, उसके चारों बेटों, इस्लाम, शफी और अखलाख के खिलाफ केस दर्ज कर लिया। इन सभी पर भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 429 के साथ पशु क्रूरता अधिनियम के तहत कार्रवाई की गई है। ऑपइंडिया के पास FIR कॉपी मौजूद है। घटना से नाराज हिन्दू संगठन के सदस्यों ने ग्रामीणों के साथ थाने के बाहर प्रदर्शन किया। इस दौरान दूसरे पक्ष के लोग भी जमा होने लगे थे। पुलिस ने लोगों को समझा-बुझाकर शांत करवाया, तब बरेली के एडिशनल एसपी ने भी आरोपितों द्वारा नया रिवाज शुरू करने पर केस दर्ज करके कार्रवाई किए जाने की बात स्वीकारी थी।

स्वराज्य के मुताबिक 2 आरोपितों को गिरफ्तार किया गया था जिन्हें अगले ही दिन जमानत मिल गई थी। इसी रिपोर्ट में कुछ ग्रामीणों के हवाले से बताया गया है कि पूर्व में तो पर्दे में कुर्बानी होती थी लेकिन इस बार खुलेआम किए जाने का सीधा अर्थ हिन्दू समाज की भावनाओं को आहत करना है। इस हरकत को देखते हुए ग्रामीणों ने कहा कि वो आने वाले बकरीद पर गाँव में पहरा देंगे जिससे कोई उकसाने वाली हरकत न कर पाए।

गाँव हिन्दू बहुल फिर भी दबदबा मुस्लिमों का

ऑपइंडिया ने शिकायतकर्ता संग्राम सिंह से बात की। उन्होंने बताया कि गाँव जोगीठेर हिन्दू बाहुल्य है। आरोप है कि महज 20% की तादाद होने के बावजूद मुस्लिम समुदाय के लोग हमेशा ताव में रहते हैं। जिस मंदिर के आगे भैंस काटी गई वहाँ अक्सर हिन्दू समाज के लोग पूठा-पाठ करने जाते है। शिकायतकर्ता का यह भी दावा है कि पहले मुस्लिम समुदाय के लोग बकरीद पर कुर्बानी कहाँ देते थे ये पता ही नहीं चलता था लेकिन इस बार उन्होंने खुलेआम सबको दिखा कर भैंस काटी है।

न तो माँगी माफी, न की बातचीत की पेशकश

गाँव में एहतियातन पुलिस तैनात कर दी गई है। शिकायतकर्ता का दावा है कि गाँव में हिन्दू समाज के राजपूतों और कश्यप समुदाय के लोगों की संख्या अधिक है। उन्होंने बताया कि इस बीच मुस्लिम पक्ष से आए दिन कोई न कोई उकसावे वाली हरकतें की जा रही हैं। संग्राम सिंह के अनुसार घटना के बाद से अब तक मुस्लिम पक्ष के किसी भी सदस्य ने अपनी हरकत कर न तो दुःख जताया और न ही हिन्दुओं से किसी बातचीत आदि की पहल की। संग्राम ने पुलिस पर भी आरोपितों के खिलाफ लचर कार्रवाई का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि अभी तक किसी भी आरोपित को जेल नहीं भेजा गया जिसकी वजह से उनके हौसले बुलंद हैं।

घटना के वीडियो भी वायरल

केस में आरोपित मोहम्मद इरशाद एक क्लिनिक में काम करता है। उसका अब्बा इसरार गाँव में परचून की दुकान चलाता है। संग्राम सिंह ने ऑपइंडिया को इस घटना के वीडियो भी भेजे हैं। घर के अंदर चुपके से बनाए गए 2 वीडियो में इसरार के परिजन काटे गए भैंसे का मांस लिए दिखाई दे रहे हैं। एक और वीडियो में पुलिस की जीप एक मंदिर के आगे खड़ी हुई है। जीप के आसपास लोग जमा हैं। फिलहाल गाँव में शांति है।

इसरार की बाइक का बीमा एक्सपायर, 6 चालान पेंडिंग

जिस इसरार पर गाँव में कुर्बानी का नया रिवाज चालू करने की साजिश का आरोप लगा है उसके बेटे मोहम्मद इरशाद ने अपनी बाइक के बहाने भी कई नियम तोड़ रखे हैं। मोहम्मद इरशाद के हीरो हौंडा पैशन प्रो बाइक पर कुल 7 चालान हुए हैं। इसमें से हजारों रुपयों के 6 चालान पिछले लम्बे समय से नहीं भरे गए हैं। इसी के साथ इरशाद की बाइक का बीमा भी साल 2023 में ऑनलाइन तौर पर एक्सपायर दिख रहा है।

ऑपइंडिया ने अब तक हुई कानूनी कार्रवाई की जानकारी के लिए SHO सीबीगंज को कॉल किया। उन्होंने बताया कि उनकी अभी हाल ही में तैनाती हुई है जिसकी वजह से उनको अपडेट बताने के लिए थोड़ा समय चाहिए। इंस्पेक्टर सीबीगंज ने ताजा जानकारी के लिए 26 जून को बात करने के लिए कहा। वहीं इसरार के बेटे इरशाद को भी हमने कॉल किया। इरशाद का भी मोबाइल नंबर बंद (स्विच ऑफ़) आया। पुलिस और इरशाद का वर्जन मिलने के बाद उसे खबर में अपडेट किया जाएगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -