Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजजिनके 'काउंटडाउन' के बाद चंद्रयान-3 ने भरी थी उड़ान, वह आवाज खामोश हुईं: ISRO...

जिनके ‘काउंटडाउन’ के बाद चंद्रयान-3 ने भरी थी उड़ान, वह आवाज खामोश हुईं: ISRO वैज्ञानिक एन वलारमथी का निधन 

"अलविदा, वलारमथी महोदया। यह उनकी आवाज़ थी जिसे आपने पिछले कुछ वर्षों में इसरो के सभी रॉकेट प्रक्षेपणों की काउंट डाउन करते हुए सुना था। उनका अंतिम कार्य जुलाई में चंद्रयान-3 के प्रक्षेपण की उलटी गिनती करना था।"

भारतीय अंतरिक्ष और अनुसंधान संगठन (इसरो) के वैज्ञानिक और एजेंसी के रॉकेट काउंटडाउन लॉन्च के पीछे की वह प्रतिष्ठित आवाज जिसे आप हर लॉन्च मिशन में सुनते थे थम गई है। इसरो वैज्ञानिक एन वलारमथी का 64 वर्ष की आयु में चेन्नई में निधन हो गया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, रविवार (3 सितंबर, 2023 ) को उन्हें दिल का दौरा पड़ा था। बता दें 14 जुलाई को चंद्रयान-3 के लॉन्चिंग के समय भी जिस काउंट डाउन को पूरे देश ने सुना, वह घोषणा भी उन्होंने ही की थी। वलारमथी की प्रतिष्ठित आवाज अब श्रीहरिकोटा से इसरो के भविष्य के मिशनों की काउंट डाउन की घोषणा नहीं करेगी, जिसने न सिर्फ वैज्ञानिक समुदाय और बल्कि आम जनता को भी दुखी कर दिया है। सभी सोशल मीडिया X पर उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं। 

इंडिया टुडे के पत्रकार शिव अरूर ने इसरो वैज्ञानिक के निधन की खबर देते हुए पोस्ट किया, “अलविदा, वलारमथी महोदया। यह उनकी आवाज़ थी जिसे आपने पिछले कुछ वर्षों में इसरो के सभी रॉकेट प्रक्षेपणों की काउंट डाउन करते हुए सुना था। उनका अंतिम कार्य जुलाई में चंद्रयान-3 के प्रक्षेपण की उलटी गिनती करना था। दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया। आपके परलोक का महान सफर शानदार हो !””

वहीं एन वलारमथी के न होने की खबर पाकर इसरो के मैटेरियल और रॉकेट विनिर्माण विशेषज्ञ और निदेशक डॉ. पी वी वेंकट कृष्णन (सेवानिवृत्त) ने एक्स पर पोस्ट किया, “वलारमथी मैडम की आवाज श्री हरिकोटा से इसरो के भविष्य के मिशनों की काउंट डाउन  के लिए नहीं होगी। चंद्रयान-3 उनकी अंतिम काउंट डाउन थी। एक अप्रत्याशित निधन। बहुत दुख हो रहा है। प्रणाम!”

वहीं एक दूसरे यूजर ने एक्स पर लिखा, “वलारमथी मैडम की आवाज श्रीहरिकोटा से इसरो के भविष्य के मिशनों की उलटी गिनती के लिए नहीं होगी। चंद्रयान 3 उनकी अंतिम उलटी गिनती की घोषणा थी। एक अप्रत्याशित निधन।”

बता दें कि वह इसरो की प्री-लॉन्च काउंट डाउन घोषणाओं के पीछे की आवाज थीं और उन्होंने आखिरी घोषणा 30 जुलाई को की थी, जब पीएसएलवी-सी 56 रॉकेट एक वाणिज्यिक मिशन के रूप में 7 सिंगापुरी उपग्रहों को लेकर रवाना हुआ था। वहीं उनके बारे में यह जानकारी भी सामने आई है कि सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र में रेंज ऑपरेशंस प्रोग्राम कार्यालय के हिस्से के रूप में, वह पिछले 6 वर्षों से सभी लॉन्चों के लिए काउंट डाउन की घोषणाएँ कर रही थीं। 

गौरतलब है कि 23 अगस्त को, भारत ने तब इतिहास रच दिया जब चंद्रयान -3 का लैंडर मॉड्यूल चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर सफलतापूर्वक उतरा, जिससे भारत ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल करने वाला पहला देश बन गया। कुल मिलाकर, अमेरिका, चीन और रूस के बाद भारत चंद्रमा की सतह पर सफलतापूर्वक उतरने वाला दुनिया का चौथा देश बन गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव में NDA की बड़ी जीत, सभी 9 उम्मीदवार जीते: INDI गठबंधन कर रहा 2 से संतोष, 1 सीट पर करारी...

INDI गठबंधन की तरफ से कॉन्ग्रेस, शिवसेना UBT और PWP पार्टी ने अपना एक-एक उमीदवार उतारा था। इनमें से PWP उम्मीदवार जयंत पाटील को हार झेलनी पड़ी।

नेपाल में गिरी चीन समर्थक प्रचंड सरकार, विश्वास मत हासिल नहीं कर पाए माओवादी: सहयोगी ओली ने हाथ खींचकर दिया तगड़ा झटका

नेपाल संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा में अविश्वास प्रस्ताव पर हुए मतदान में प्रचंड मात्र 63 वोट जुटा पाए। जिसके बाद सरकार गिर गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -