Wednesday, July 24, 2024
Homeदेश-समाज'साहित्य से जुड़ा रहना चाहता हूँ, और किताब दो': तिहाड़ में आफताब को पढ़ने...

‘साहित्य से जुड़ा रहना चाहता हूँ, और किताब दो’: तिहाड़ में आफताब को पढ़ने को मिली ‘द ग्रेट रेलवे बाजार’, जेल में अकेले बैठकर खाना खाया, कटे सिर के बारे में नहीं दी जानकारी

द ग्रेट रेलवे बाजार की किताब मिलने के बाद आफताब ने जेल के अधिकारियों से अपने लिए और अधिक किताबें माँगी हैं। आफ़ताब का कहना है कि वो साहित्य से जुड़ा रहने का इच्छुक है। अभी आफ़ताब को जो किताब पढ़ने के लिए दी गई है वो लेखक पॉल थेरॉक्स द्वारा लिखी गई है।

दिल्ली के महरौली में श्रद्धा मर्डर केस में तिहाड़ जेल में बंद आफ़ताब को पढ़ने के लिए द ग्रेट रेलवे बाजार (The Great Railway Bazaar) नाम की किताब दी गई है। बताया यह भी जा रहा है कि नार्को टेस्ट के दौरान आफ़ताब ने पुलिस के कई सवालों के जवाब सहजता से दिए। माना जा रहा है कि आफ़ताब ने श्रद्धा की हत्या से जुड़े तमाम सबूत बड़ी चालाकी से ठिकाने लगाए हैं जिस से केस की जाँच कर रही पुलिस की राह मुश्किल हो गई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आफताब ने जेल के अधिकारियों से अपने लिए और अधिक किताबें माँगी हैं। आफ़ताब का कहना है कि वो साहित्य से जुड़ा रहने का इच्छुक है। अभी आफ़ताब को जो किताब पढ़ने के लिए दी गई है वो लेखक पॉल थेरॉक्स द्वारा लिखी गई है। यह किताब जेल की लाइब्रेरी में थी। उसकी अन्य माँगों पर जेल स्टाफ प्रोटोकाल और मैनुअल के हिसाब से फैसला लेगा।

वहीं एक अन्य रिपोर्ट के मुताबिक नार्को टेस्ट में पुलिस आफ़ताब से बहुत कुछ उगलवा नहीं पाई। आफ़ताब नार्को में भी इस बात पर कायम रहा कि उसने श्रद्धा का फोन समुद्र में फेंक दिया है। इसी के साथ उसने कत्ल में प्रयोग हुए मेन हथियार के बारे में भी पुलिस को ज्यादा जानकारी नहीं दी। कत्ल के दौरान आफ़ताब ने जो कपड़े पहने थे उसे उसने MCD की कूड़ा ढोने वाले ट्रक में भर के फिंकवा देने की जानकारी दी जिसे कूड़े के ढेर से बरामद नहीं किया जा सका। इसी के साथ उसने श्रद्धा के कटे सिर के बारे में भी पुलिस को ज्यादा कुछ नहीं बताया।

तिहाड़ के अधिकारियों के अनुसार जेल में शिफ्ट होने के बाद आफ़ताब ने अन्य कैदियों से लगभग 3 घंटे तक कोई बात नहीं की। बाद में उसने खाना भी अकेले ही खाया। उसे जेल नंबर 4 की कोठरी नंबर 15 में रखा गया है। कोठरी में 2 अन्य आरोपित बंद हैं। अन्य दोनों आरोपित पहली बार जेल आए हैं। चोरी के इन अन्य दोनों आरोपितों को कोर्ट ने 13 दिनों की न्यायिक रिमांड पर भेजा है।

तिहाड़ के अधिकारियों के अनुसार जेल में शिफ्ट होने के बाद आफ़ताब ने अन्य कैदियों से लगभग 3 घंटे तक कोई बात नहीं की। बाद में उसने खाना भी अकेले ही खाया। काफी देर बाद उसने जेल स्टाफ से अंदर मिलने वाली सुविधाओं के बारे में पूछा। उसे जेल नंबर 4 की कोठरी नंबर 15 में रखा गया है। कोठरी में 2 अन्य आरोपित बंद हैं। अन्य दोनों आरोपित पहली बार जेल आए हैं। चोरी के इन अन्य दोनों आरोपितों को कोर्ट ने 13 दिनों की न्यायिक रिमांड पर भेजा है। बताया जा रहा है कि आफ़ताब के खिलाफ चार्जशीट लगाने से पहले पुलिस ज्यादा से ज्यादा सबूतों की तलाश करेगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -