Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजJNU में पढ़ने वाले 82 विदेशी छात्र किस देश के नागरिक हैं, खुद यूनिवर्सिटी...

JNU में पढ़ने वाले 82 विदेशी छात्र किस देश के नागरिक हैं, खुद यूनिवर्सिटी को भी कुछ नहीं पता

क्या अपनी नागरिकता बताए बिना जेएनयू में एडमिशन लेना संभव है? शायद हाँ। आँकड़े तो यही कह रहे हैं। यहाँ पढ़ रहे 301 विदेशी छात्रों में से 82 ऐसे छात्र हैं, जिनकी राष्ट्रीयता जेएनयू को मालूम ही नहीं है।

अपडेट: जेएनयू ने उन ख़बरों को नकार दिया है, जिनमें कहा जा रहा था कि यूनिवर्सिटी के पास विदेशी 82 छात्रों की राष्ट्रीयता की जानकारी नहीं है। जेएनयू ने अपने ताज़ा बयान में कहा है कि यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे सभी विदेशी छात्रों के बारे में विश्वविद्यालय प्रशासन के पास सारी ज़रूरी सूचनाएँ उपलब्ध हैं।

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में सिर्फ़ भारतीय छात्र ही नहीं पढ़ते बल्कि विदेश से भी सैंकड़ों छात्र यहाँ अध्ययन के लिए आते हैं। अगर आँकड़ों की बात करें तो जेएनयू में कुल 8805 छात्र पढ़ रहे हैं, जिनमें से 301 विदेशी हैं। लेकिन, चौंकाने वाली बात ये है कि इनमें से 82 ऐसे विदेशी छात्र हैं, जिनकी राष्ट्रीयता जेएनयू को मालूम ही नहीं है। अर्थात, जेएनयू को पता ही नहीं है कि ये 82 छात्र किस देश के रहने वाले हैं। जेएनयू प्रशासन ने एक आरटीआई की रिप्लाई में ये बातें बताई

जेएनयू प्रशासन ने कहा कि यूनिवर्सिटी के 48% छात्र एमफिल या पीएचडी का कोर्ट कर रहे हैं। सभी छात्रों की बात करें तो वे ग्रेजुएशन से लेकर पीएचडी तक 41 विभिन्न कोर्सों के तहत दाखिला लेकर जेएनयू में पढ़ाई कर रहे हैं। अगर विदेशी छात्रों की बात करें तो उनमें सबसे ज़्यादा संख्या कोरियन छात्रों की है और उसके बाद नेपाली आते हैं। कैम्पस में कुल 35 कोरियन और 25 नेपाली छात्र पढ़ाई कर रहे हैं।

इसी तरह चीन से 24, अफ़ग़ानिस्तान से 21 और जापान से 16 और जर्मनी से 13 छात्र जेएनयू में दाखिला लेकर अध्ययन कर रहे हैं। 10 अमेरिकी छात्र भी जेएनयूए अध्ययनरत हैं। बांग्लादेश और सीरिया के सात-सात छात्र यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं। 8805 छात्रों में से 4251 छात्र एमफिल अथवा पीएचडी कोर्सों के तहत पढ़ाई कर रहे हैं।

वहीं 1264 छात्र ग्रेजुएशन में एडमिशन लेकर पढ़ रहे हैं। 2877 ऐसे छात्र हैं, जिन्होंने पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्सों में दाखिला लिया हुआ है। विदेशी छात्रों में से 82 ऐसे हैं, जो किस देश के नागरिक हैं- इस सम्बन्ध में जेनयू को कुछ नहीं मालूम। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या अपनी नागरिकता बताए बिना जेएनयू में एडमिशन लेना संभव है?

JNU में 8500 में से 82% छात्रों ने बढ़ी हुई हॉस्टल फीस के साथ किया रजिस्ट्रेशन: VC जगदीश कुमार

JNU के 65% छात्रों ने भर भी दी नई हॉस्टल फीस, इस मुद्दे पर महीनों से बवाल काट रहे हैं वामपंथी

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिल्पकार के नाम से प्रसिद्ध दुनिया का ‘इकलौता’ मंदिर, पानी में तैरने वाले पत्थरों से निर्माण: तेलंगाना का रामप्पा मंदिर

UNESCO के विरासत स्थलों में शामिल है तेलंगाना के वारंगल स्थित काकतीय रुद्रेश्वर या रामप्पा मंदिर। 12वीं शताब्दी में निर्मित मंदिर कुछ विशेष कारणों से है अद्वितीय।

कारगिल के 22 साल: ‘फर्ज पूरा होने से पहले मौत आई तो प्रण लेता हूँ मैं मौत को मार डालूँगा’

भारतीय सैनिकों के ऊपर लगभग 60-70 मशीनगन लगातार फायरिंग कर रहीं थीं। गोले बरस रहे थे। फिर भी कैप्टन मनोज पांडे टुकड़ी के साथ आगे बढ़ रहे थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,215FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe