Thursday, July 18, 2024
Homeदेश-समाजकानपुर में हनुमान मंदिर पर कब्जे और तोड़फोड़ का आरोप, हिन्दू संगठनों की पुलिस...

कानपुर में हनुमान मंदिर पर कब्जे और तोड़फोड़ का आरोप, हिन्दू संगठनों की पुलिस से झड़प: साधु-संतों का प्रदर्शन, DSP सलमान ने कहा – कब्जेदारी का विवाद

डीसीपी साउथ सलमान ताज पाटिल ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान जानकारी दी कि साधु-संतो द्वारा विरोध प्रदर्शन के बाद मामले की जाँच की गई।

बुधवार (01 मार्च, 2023) को उत्तर प्रदेश के कानपुर में हनुमान मंदिर पर कब्जे और तोड़फोड़ का विरोध कर रहे साधु-संतो व हिंदू संगठन के लोगों की पुलिस के साथ झड़प हो गई। बताया जा रहा है कि मंदिर को पुलिस ने सील कर दिया। जिसके बाद बजरंग दल कार्यकर्ताओं और हिंदू संगठन के लोगों ने प्रदर्शन किया। खबर है कि पुलिस ने कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज भी किया है। तनाव को देखते हुए कई थाना की पुलिस को मंदिर के पास तैनात किया गया है।

‘दैनिक भास्कर’ की रिपोर्ट के मुताबिक, कानपुर के जूही थाना क्षेत्र के परमपुरवा में स्थित संकटहारी बाला जी दरबार मंदिर और मंदिर की जमीन पर कब्जा कर लिया गया है। रविवार (26 फरवरी, 2023) से मंदिर परिसर में भक्तों को प्रवेश नहीं करने दिया जा रहा है। मंदिर पर कब्जे के खिलाफ पुजारी और साधु-संत शिकायत लेकर डीएसपी साउथ के दफ्तर पहुँचे। इसके बाद पुलिस की टीम मौके पर पहुँची।

मौके पर पुलिस के पहुँचते ही हिंदू संगठनों और बजरंग दल के कार्यकर्ता भी मंदिर पर पहुँचे। बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने मंदिर में तोड़फोड़ का आरोप लगाते हुए दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की माँग की। हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं का आरोप है कि मंदिर में तोड़फोड़ की गई है। कार्यकर्ता मंदिर को खोलने की माँग करने लगे। रिपोर्ट के मुताबिक कार्यकर्ताओं को शांत करने के लिए पुलिस ने हल्का बल प्रयोग किया और कार्यकर्ताओं को खदेड़ दिया गया।

ख़बरों के मुताबिक, पुलिस ने ‘बजरंग दल’ के जिला संयोजक दिलीप सिंह को हिरासत में ले लिया है। फिलहाल पुलिस ने मंदिर को सील कर दिया है। जिससे हिंदू संगठन के कार्यकर्ता और भी भड़क उठे। तनाव को देखते हुए मौके पर 10 थानों की फोर्स तैनात की गई है।

मामले पर पुलिस का पक्ष

जूही थाना पुलिस ने ऑपइंडिया से बात करते हुए इस विवाद को मंदिर विवाद नहीं बल्कि कब्जेदारी विवाद करार दिया है। डीसीपी साउथ सलमान ताज पाटिल ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान जानकारी दी कि साधु संतो द्वारा विरोध प्रदर्शन के बाद मामले की जाँच की गई। प्रकरण कब्जेदारी विवाद से जुड़ा है। सलमान ताज ने बताया कि एक व्यक्ति की जमीन पर कई किराएदार रहते हैं। मालिक किसी मामले में फरार था। इस बीच एक किराएदार के घर में कुछ लोग जबरन दाखिल हो गए। कुछ महिलाएँ ताला बंद कर के अंदर बैठ गईं।

साधु-संतों का आरोप है कि महिलाओं ने मकान मालिक के इशारे पर कब्जा किया है। दरअसल, इस जगह पर साधु-संत किराए पर रह रहे थे। उनका कहना है कि पूजा की सामग्री व अन्य चीजें नहीं दी जा रही हैं। इसे लेकर साधु-संत विरोध कर रहे थे। डीएसपी का कहना है कि महिलाओं को भी समझाने का प्रयास किया जा रहा है। पुलिस ने धारा 145 के तहत कार्रवाई की बात कही है। पुलिस का कहना है कि न्यायालय के निर्देश के अनुसार उचित कार्रवाई की जाएगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अजमेर दरगाह के सामने ‘सर तन से जुदा’ मामले की जाँच में लापरवाही! कई खामियाँ आईं सामने: कॉन्ग्रेस सरकार ने कराई थी जाँच, खादिम...

सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में अजमेर दरगाह के खादिम गौहर चिश्ती की जाँच में लापरवाही को लेकर कोर्ट ने इंगित किया है।

काँवड़ यात्रा पर किसी भी हमले के लिए मोहम्मद जुबैर होगा जिम्मेदार: यशवीर महाराज ने ‘सेकुलर’-इस्लामी रुदालियों पर बोला हमला, ढाबों मालिकों की सूची...

स्वामी यशवीर महाराज ने 18 जुलाई 2024 को एक वीडियो बयान जारी कर इस्लामिक कट्टरपंथियों और तथाकथित 'सेकुलरों' को आड़े हाथों लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -