Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाज'महिलाओं को बिस्तर तक ले जाने के लिए वो किसी हद तक जा सकता...

‘महिलाओं को बिस्तर तक ले जाने के लिए वो किसी हद तक जा सकता है’: 10 बिंदुओं में आसानी से समझें प्रतीक सिन्हा पर लगे ‘Me Too’ के आरोप

किसी भी सभ्य देश में इस करतूत को बलात्कार की श्रेणी में गिना जाएगा। एक और महिला को मैं जानती हूँ, जिसके साथ उन्होंने ऐसा ही खेल खेला। वो खुद को 'Me Too' का बड़ा समर्थक दिखाते हैं, लेकिन करतूतें कुछ और हैं। मैं महिला अधिकार संगठनों और आयोग से अपील करती हूँ कि ऐसे दरिंदों को सज़ा मिले।

जैसा कि आप अब तक खबरों में देख-सुन ही चुके होंगे, AltNews के संस्थापक प्रतीक सिन्हा पर ‘Me Too’ के आरोप लगे हैं। आरोप लगाने वाली महिला मोहम्मद जुबैर की समर्थक है और उसने स्पष्ट किया है कि वो दक्षिणपंथियों की विरोधी है। प्रतीक सिन्हा के खिलाफ लगाए गए आरोपों में बड़ी बातें क्या है, वो हम आपको बताने जा रहे हैं। इन 10 बिंदुओं में आप समझ सकते हैं कि महिला ने क्या-क्या आरोप लगाए हैं। पीड़िता ने कहा है:

  1. मैं कई वर्षों से प्रतीक सिन्हा को जानती थी और मैंने उन्हें सोशल मीडिया पर फॉलो किया तो उन्होंने भी मुझे फ़ॉलोबैक दिया। 24 अप्रैल, 2020 को उन्होंने फेसबुक पर मैसेज किया और बातचीत के बाद फोन नंबर माँगा। मैंने उन्हें अपना फोन नंबर दे दिया। हम लगातार घंटों बात करते।
  2. जून 2020 में उन्होंने रिलेशनशिप में आने की इच्छा जताई, लेकिन मैंने अपने करियर को देखते हुए 2 वर्षों का समय माँगा। हालाँकि, कॉल-टेक्स्ट पर हमारी बातचीत पहले की तरह चलती रही। नवंबर 2020 में उन्होंने फीलिंग्स न होने की बात कहते हुए कहा कि वो इस रिश्ते को आगे नहीं बढ़ाना चाहते। हालाँकि अगले ही महीने वो पलट गए और फिर से कॉल-टेक्स्ट वगैरह शुरू हो गए। उन्होंने दावा किया कि मार्च 2019 के बाद से किसी के साथ भी उनका शारीरिक संबंध नहीं रहा है और वो इसी एक का होने में विश्वास रखते हैं।
  3. मैंने स्पष्ट कर दिया था कि मैं ऐसे किसी भी व्यक्ति के साथ रिलेशनशिप में नहीं रहूँगी, जो शारीरिक या मानसिक रूप से किसी और महिला से जुड़ा हुआ हो। जुलाई 2021 में उन्होंने मिलने की इच्छा जताई। सितंबर के पहले सप्ताह में हम मिले और हमने 3 दिन साथ समय गुजारा। फिर मैं उच्च-शिक्षा के लिए चली गई।उन्होंने बताया कि उनकी माँ को भी पता है कि हम में कुछ सीरियस चल रहा है।
  4. इसके 12 दिनों बाद ही उन्होंने मैसेज कर के कहा कि वो मेरे से झूठ बोल रहे थे और उन्होंने 2 साल बाद शादी का जो वादा किया था, वो भी झूठा था। मैंने चीजों को सार्वजनिक करने की कोशिश की तो उन्होंने अपनी एक दोस्त से मुझे मैसेज करवाया, जिसने दावा किया कि वो समस्या का समाधान करने की कोशिश कर रही है। उसने मुझे चीजों को बाहर न लाने को कहा।
  5. मुझे ये भी पता चला कि वो सिर्फ मेरे ही साथ नहीं थे। मेरे से मिलने से एक महीने पहले ही वो किसी और महिला से शारीरिक संबंध बना चुके थे। उनके दोस्तों के बताया कि वो महिला को अपनी बिस्तर तक ले जाने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं। ये उनका एक पैटर्न था – ड्रामा करो, सीरियस रिलेशनशिप की बात करो और फिर महिला को बेड तक ले जाओ।
  6. वो महिलाओं के स्तन को घूरते हैं, मेरे से मिलने के वक्त भी मैंने इसे अनुभव किया था। वो जिस लड़की को देखते हैं, उसे घूरना शुरू कर देते हैं। महिलाओं पर रात को वीडियो कॉल करने का दबाव बनाते हैं। ‘महिला अधिकार’ और ‘झूठी सूचनाओं का पर्दाफाश करने वाले’ के पीछे एक झूठा आदमी छिपा हुआ है।
  7. वो ऐसी लड़कियों को चुनते हैं, जिनका सोशल मीडिया में कोई प्रभाव न हो – ताकि वो किसी बात को सार्वजनिक न कर सकें। पीड़िताओं को किसी का समर्थन न मिले। उन्होंने अपनी दोस्त से भी महिलाओं के साथ अपने अंतरंग क्षणों की तस्वीरें/वीडियोज साझा किए थे।
  8. किसी भी सभ्य देश में इस करतूत को बलात्कार की श्रेणी में गिना जाएगा। एक और महिला को मैं जानती हूँ, जिसके साथ उन्होंने ऐसा ही खेल खेला। वो खुद को ‘Me Too’ का बड़ा समर्थक दिखाते हैं, लेकिन करतूतें कुछ और हैं। मैं महिला अधिकार संगठनों और आयोग से अपील करती हूँ कि ऐसे दरिंदों को सज़ा मिले।
  9. अगर लिबरल लोग मेरा समर्थन नहीं करते हैं तो इसका सीधा अर्थ है कि वो मेरे जैसी युवा लड़कियों को कह रहे हैं कि आपने ‘अपने लोग’ अगर आपके साथ इस तरह की हरकतें करें तो आप चुप रहो।
  10. मैं AltNews जिस चीज के लिए लड़ रहा है, उसका समर्थन करती हूँ। लेकिन, अगर मुझे पहले से पता होता कि ये व्यक्ति इस तरह का झूठा और ऐसी हरकतें करने वाला है, तो मैं कभी इससे मिलती तक नहीं।

हमने प्रतीक सिन्हा को ईमेल कर के इन आरोपों पर उनकी प्रतिक्रिया माँगी है और उनका जवाब आते ही हम इन आरोपों को उनका पक्ष भी जनता के सामने रखेंगे। फ़िलहाल इस घटना पर न तो वो और न ही AltNews के अन्य संस्थापक व उनके साथी मोहम्मद जुबैर का कोई बयान आया है, जो खुद एक छोटी बच्ची की तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर कर देने के आरोपों का सामना कर चुका है। लिबरल गिरोह में भी ख़ामोशी छाई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आम सैनिकों जैसी ड्यूटी, सेम वर्दी, भारतीय सेना में शामिल हो चुके हैं 1 लाख अग्निवीर: आरक्षण और नौकरी भी

भारतीय सेना में शामिल अग्निवीरों की संख्या 1 लाख के पार हो गई है, 50 हजार अग्निवीरों की भर्ती की जा रही है।

भारत के ओलंपिक खिलाड़ियों को मिला BCCI का साथ, जय शाह ने किया ₹8.50 करोड़ मदद का ऐलान: पेरिस में पदकों का रिकॉर्ड तोड़ने...

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि ओलंपिक अभियान के लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) को बीसीसीआई 8.5 करोड़ रुपए दे रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -