Wednesday, July 24, 2024
Homeदेश-समाजपुराना हिस्ट्रीशीटर है 3 लोगों का हत्यारा 70 साल का लल्लन खान: कभी घोड़े...

पुराना हिस्ट्रीशीटर है 3 लोगों का हत्यारा 70 साल का लल्लन खान: कभी घोड़े पर चलता और खुद को कहता ‘गब्बर खान’, घर से बरामद हुए थे 30 माउजर

लखनऊ में ट्रिपल मर्डर केस के मुख्य आरोपित लल्लन खान पुराना हिस्ट्रीशीटर है। इसके बावजूद उसके पास लाइसेंसी हथियार है। हत्यारा लल्लन खान 70 साल का है, लेकिन पूरे ठाठ से रहता है। अभी वो और उसका बेटा फरार है। इस मामले में 4 लोगों में से सिर्फ एक आरोपित, उसका ड्राइवर ही गिरफ्तार हुआ है।

लखनऊ में ट्रिपल मर्डर केस के मुख्य आरोपित लल्लन खान पुराना हिस्ट्रीशीटर है। इसके बावजूद उसके पास लाइसेंसी हथियार है। हत्यारा लल्लन खान 70 साल का है, लेकिन पूरे ठाठ से रहता है। अभी वो और उसका बेटा फरार है। इस मामले में 4 लोगों में से सिर्फ एक आरोपित, उसका ड्राइवर ही गिरफ्तार हुआ है। बता दें कि शुक्रवार (02 फरवरी 2024) को लखनऊ के मलिहाबाद में एक ही परिवार के तीन लोगों की हत्या कर दी गई। इस घटना का सीसीटीवी फुटेज भी सामने आया है।

पुराना अपराधी रहा है लल्लन खान

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, लल्लन खान पर 18 आपराधिक मामले दर्ज हैं। वो मलिहाबाद थाने का हिस्ट्रीशीटर भी है। इतने लंबे आपराधिक रिकॉर्ड के बावजूद उनके पास न सिर्फ लाइसेंसी राइफल है, बल्कि उसका पासपोर्ट भी है और वो विदेश भी जा चुका है। पुलिस रिकॉर्ड्स बताते हैं कि वो खुद को गब्बर खान कहलाना पसंद करता है। उसे हथियारों का शौक था।

वहीं, एक रिपोर्ट के मुताबिक, लल्लन खान पर कभी 24 केस दर्ज हुआ करते थे। बताया जाता है कि 80 के दशक में लखनऊ में लल्लन खान की तूती बोलती थी। वह घोड़े से चला करता था और खुद को गब्बर खान कहलाना पसंद करता था। लल्लन के खिलाफ आखिरी FIR साल 1999 में दर्ज हुई थी। हालाँकि, वो अपने पैसों और पहुँच के दम पर तमाम केसों से बचा रहता था।

यूपी तक के मुताबिक, पूर्व डीजीपी बृजलाल ने बताया, “साल 1985 में पुलिस ने इसके घर पर दबिश दी थी। इस दौरान लल्लन खान के घर से भारी मात्रा में हथियार बरामद किए गए थे। एक ही लाइसेंस पर कई हथियार रखे थे। उसके घर से इस दौरान करीब 30 माउजर मिले थी। उस दौरान लल्लन खान के घर से बरामद हुए हथियारों को देखकर पुलिस भी हैरान रह गई थी।”

साल 2010 में बना पासपोर्ट, पोलैंड भी जा चुका है

मलिहाबाद के रहने वाले लल्लन खान के तीन बेटे हैं। उसके दो बेटे पोलैंड में बस चुके हैं। वहीं, तीसरा बेटा सिराज लखनऊ में ही रहता है। वह अपने अब्बू के साथ हत्याकांड को अंजाम दिया था। लल्लन खान खुद भी पोलैंड घूम चुका है। उसका पासपोर्ट कैसे बना, अब पुलिस इस बात की भी जाँच कर रही है। वैसे, लल्लन खान करीब 24 साल से एकदम खामोश था।

दरअसल, शुक्रवार (02 फरवरी 2024) को मलिहाबाद में एक जमीनी विवाद में लल्लन खान ने उसके बेटे सिराज, ड्राइवर एवं एक अन्य शख्स को लेकर अपने भतीजे फरीद खान के घर पर धावा बोल दिया। लल्लन खान और उसके साथियों ने पड़ोसी परिवार के तीन लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी। लल्लन खान ने टेलीस्कोप लगी अपनी लाइसेंसी राइफल से पाँच गोलियाँ मारीं।

घटना को अंजाम देने के बाद आरोपित वहाँ से फरार हो गए। ये वारदात मलिहाबाद के मोहम्मदनगर तालुकेदारी में हुई। मृतकों में फरहीन नाम की महिला, उसका बेटा और ताज नाम का उसका देवर शामिल हैं। लल्लन खान मृतक फरहीन का चचिया ससुर है। ये विवाद पुश्तैनी जमीन के एक टुकड़े को लेकर हुआ, जिसकी कीमत लगभग चार करोड़ रुपए बताई जा रही है। विवादित जमीन मीठेनगर में है।

इस वारदात की सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुँची पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के माध्यम से अपराधियों की पहचान की। फुटेज में 70 साल का लल्लन खान हाथ में हथियार लेकर फायरिंग करता नजर आ रहा है। इसके आधार पर पुलिस ने लल्लन, उसके बेटे, ड्राइवर और एक अन्य शख्स के खिलाफ FIR दर्ज कर ली। इस मामले में मुख्य आरोपित समेत अन्य की तलाश में पाँच टीमें लगाई गई हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -