Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजइस्लाम की तारीफ, हिंदू ग्रंथों की गलत व्याख्या: माघ मेले में हिंदूविरोधी सामग्री बेचने...

इस्लाम की तारीफ, हिंदू ग्रंथों की गलत व्याख्या: माघ मेले में हिंदूविरोधी सामग्री बेचने पर मदरसा टीचर समेत 3 गिरफ्तार, UAE से आती थी फंडिंग

पुलिस आयुक्तालय प्रयागराज की तरफ से घटना के संबंध में ट्वीट किया गया, ''माघ मेले में हिंदू धर्म की आस्था को ठेस पहुँचाने के आशय से अपनी पहचान छिपाकर कूटरचित संदिग्ध इस्लामिक पुस्तकें बेचने वाले गिरोह के तीन सदस्य को थाना दारागंज व एसओजी की संयुक्त टीम ने गिरफ्तार किया है।"

प्रयागराज में हिंदू धर्म की धार्मिक पुस्तकों की गलत व्याख्या वाली किताबों को बेचने का मामला सामने आया है। पुलिस ने इस संबंध में तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया है। इनमें से दो आरोपित समीर और मोनिश स्टॉल लगाक माघ मेले में इन आपत्तिजनक और अप्रमाणित पुस्तकों को बेच रहे थे। मामले का मास्टरमाइंड महमूद हसन गाजी गाजियाबाद में पैगामें बहदानियत संस्था का अध्यक्ष है और मदरसे का शिक्षक है।

पुलिस आयुक्तालय प्रयागराज की तरफ से घटना के संबंध में ट्वीट किया गया, ”माघ मेले में हिंदू धर्म की आस्था को ठेस पहुँचाने के आशय से अपनी पहचान छिपाकर कूटरचित संदिग्ध इस्लामिक पुस्तकें बेचने वाले गिरोह के तीन सदस्य को थाना दारागंज व एसओजी की संयुक्त टीम ने गिरफ्तार किया है। साथ ही भारी संख्या में अप्रमाणित पुस्तकें बरामद किए गए हैं।”

वहीं अपर पुलिस उपायुक्त ने घटना के संबंध में ब्यान दिया है। उन्होंने कहा, ”माघ मेला क्षेत्र में हमने दो लड़कों को पकड़ा है। ये लोग वहाँ ठेला लगाकर मजहबी पुस्तकें बेच रहे थे। उसमें से कुछ पुस्तकें मुस्लिम धर्म से संबंधित थी और कुछ पुस्तकें हिंदू धर्म से संबंधित थीं, जिसमें उन्होंने किताब में हिंदू धर्म ग्रंथों के श्लोकों की गलत व्याख्या की हुई है। इससे हिंदू धर्म के लोगों की भावनाएँ को ठेस पहुँच सकती हैं। दोनों लड़के के नाम मोनिश और समीर हैं। दोनों पहले हिंदू थे। मोनिश ने दो साल पहले हिंदू धर्म अपनाया था। समीर ने 12 साल पहले मुस्लिम धर्म अपनाया था।”

उन्होंने आगे कहा, ”एक मदरसे के टीचर मोहम्मद गाजी को गिरफ्तार किया गया है। वह इन लड़कों को पुस्तक बेचने के लिए देता था और मुफ्त में लोगो को पुस्तकें मुहैया कराता था। ये लोग पुस्तक लेने वालों के फोटो खींच लेते थे और उनके कांटेक्ट नम्बर भी ले लेते थे। मकसद यह था कि जो लोग सॉफ्ट टारगेट हैं उन्हें अपने ग्रुप में शामिल किया जाए।”

अपर पुलिस उपायुक्त ने बताया कि ये लोग विशेषकर हिंदू धर्मस्थलों पर जाते थे। उन्होंने बताया कि प्रयागराज में ये लोग हनुमान मंदिर के पास ठेला लगाते थे। इन लोगों ने बनारस में भी किताबें बेची हैं। वहाँ अस्सी घाट में ये लोग किताबें बेचा करते थे। जानकारी के मुताबिक मोहम्मद मोनिश स्टूडेंट्स इस्लामिक ऑर्गेनाइजेशन (SIO) का पूर्वी उत्तर प्रदेश का जोनल सेक्रेटरी है और समीर भी इसी गिरोह का सक्रिय सदस्य है। वहीं महमूद हसन गाजी फतेहपुर का रहने वाला है जो मौजूदा समय में करेली में रहता है।

कथिततौर पर इस्लामी साहित्य बेचने के लिए इन्हें अबूधाबी (UAE की राजधानी) से पैसा आता ता। पुलिस विदेशी फंडिंग की डिटेल निकाल रही है। रिपोर्ट्स के मुताबिक इनके पास से 204 पुस्तकें, 2 मोबाइल और 4 आधार कार्ड बरामद हुए हैं। इनके पास मिली पुस्तकों में हिंदू धर्म के वेद, श्लोक आदियों का गलत अर्थ छपा है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -