Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाजफूल बरसे, ज़िंदाबाद और 'रिहा करो' के नारे, जमा हुई बड़ी भीड़... बिहार में...

फूल बरसे, ज़िंदाबाद और ‘रिहा करो’ के नारे, जमा हुई बड़ी भीड़… बिहार में कुछ यूँ हुआ मनीष कश्यप का स्वागत

बेतिया में जैसे ही मनीष कश्यप को लेकर तमिलनाडु पुलिस पहुँची, 'मनीष कश्यप ज़िंदाबाद' और 'मनीष कश्यप को रिहा करो' के नारों से इलाका गूँज उठा।

यूट्यूबर मनीष कश्यप को तमिलनाडु पुलिस बिहार लेकर पहुँची है। उन्हें बेतिया में एक अदालत में पेश किया गया है। पश्चिम चम्पारण के मझौलिया में स्टेट बैंक के शाखा प्रबंधक से बदसलूकी और सरकारी काम में बाधा डालने के आरोप में उनके खिलाफ सुनवाई हो रही है। SDPO महताब आलम ने भी पुष्टि की है कि इसी मामले में मनीष कश्यप को तमिलनाडु से बेतिया लाया गया है। तमिलनाडु में उनके खिलाफ NSA के तहत कार्रवाई हो रही है।

इस दौरान समर्थकों ने बेतिया में मनीष कश्यप का जम कर स्वागत किया। रेलवे स्टेशन से लेकर कोर्ट तक पुलिस ने सुरक्षा कड़ी कर दी। इस दौरान समर्थकों ने मनीष कश्यप के ऊपर फूल बरसा कर उनका स्वागत किया। तमिलनाडु की पुलिस सप्तक्रांति एक्सप्रेस से मनीष कश्यप को लेकर बिहार पहुँची। स्टेशन पर उनका स्वागत करने के लिए समर्थकों की बड़ी भीड़ इकट्ठी हो गई। मनीष कश्यप को मदुरै स्थित जेल में बंद कर के रखा गया है।

बेतिया में जैसे ही मनीष कश्यप को लेकर तमिलनाडु पुलिस पहुँची, ‘मनीष कश्यप ज़िंदाबाद’ और ‘मनीष कश्यप को रिहा करो’ के नारों से इलाका गूँज उठा। उन्हें एसपी ऑफिस में ले जाकर रखा गया, फिर कोर्ट में पेश किया गया। एसपी ऑफिस के बाहर भी यूट्यूबर की एक झलक पाने के लिए लोगों की भीड़ बेताब दिखी। बता दें कि बेतिया में मनीष कश्यप पर 7 आपराधिक मामले दर्ज हैं। 5 मामलों में उनके खिलाफ चार्जशीट भी दायर की जा चुकी है।

इससे पहले 4 बार उन्हें पेश किए जाने का आदेश कोर्ट ने दिया था, लेकिन तमिलनाडु पुलिस उन्हें लेकर नहीं पहुँची थी। मनीष कश्यप ने तमिलनाडु में बिहारियों के खिलाफ हिंसा का आरोप लगाते हुए कई वीडियो बनाए थे। बेतिया पहुँचे मनीष कश्यप के परिजनों ने भी उनसे मुलाकात की। एसपी कार्यालय के आसपास भी पुलिस के अतिरिक्त जवानों को तैनात किया गया है। मनीष कश्यप के समर्थकों ने बिहार सरकार पर बदले की भावना से कार्रवाई का आरोप लगाया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

US में पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को लगी गोली, हमलावर सहित 2 की मौत: PM मोदी ने जताया दुख, कहा- ‘राजनीति में हिंसा की...

गोलीबारी के दौरान सुरक्षाबलों ने हमलावर को मार गिराया। इस हमले में डोनाल्ड ट्रंप घायल हो गए और उनके कान से निकला खून उनके चेहरे पर दिखा।

छात्र झारखंड के, राष्ट्रगान बांग्लादेश-पाकिस्तान का, जनजातीय लड़कियों से ‘लव जिहाद’, फिर ‘लैंड जिहाद’: HC चिंतित, मरांडी ने की NIA जाँच की माँग

झारखंड में जनजातीय समाज की समस्या पर भाजपा विरोधी राजनीतिक दल भी चुप रहते हैं, जबकि वो खुद को पिछड़ों का रहनुमा कहते नहीं थकते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -