Thursday, September 23, 2021
Homeदेश-समाजप्रधानाध्यापक फ़ुरक़ान अली के पीलीभीत स्कूल में छात्रों ने कभी नहीं गाया राष्ट्रगान, जाँच...

प्रधानाध्यापक फ़ुरक़ान अली के पीलीभीत स्कूल में छात्रों ने कभी नहीं गाया राष्ट्रगान, जाँच में हुआ ख़ुलासा

प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक फ़ुरक़ान अली के निलंबन को अस्थायी रूप से रद्द करने के कुछ दिनों बाद, ज़िला प्रशासन द्वारा की गई जाँच में पाया गया कि स्कूल में छात्रों से कभी राष्ट्रगान नहीं गवाया गया।

पीलीभीत ज़िले की बेसिक शिक्षा अभियान (BSA) द्वारा ‘मानवीय आधार’ पर बीसलपुर के प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक फ़ुरक़ान अली के निलंबन को अस्थायी रूप से रद्द करने के कुछ दिनों बाद, ज़िला प्रशासन द्वारा की गई जाँच में पाया गया कि स्कूल में छात्रों से कभी राष्ट्रगान नहीं गवाया गया।

इस मामले की जाँच ज़िला मजिस्ट्रेट वैभव श्रीवास्तव के निर्देश पर, 21 अक्टूबर को सिटी मजिस्ट्रेट रितु पुनिया, अतिरिक्त ज़िला मजिस्ट्रेट (नगर) वंदना त्रिवेदी और बीएसए देवेंद्र स्वरूप सहित तीन सदस्यीय टीम ने की थी।

14 अक्टूबर को प्रशासन ने विश्व हिन्दू परिषद् (वीएचपी) के सदस्य की शिक़ायत के आधार पर स्कूल के प्रधानाचार्य फ़ुरकान अली को सस्पेंड कर दिया था। उन पर आरोप था कि उन्होंने छात्रों से प्रार्थना सभा में धार्मिक प्रार्थना कराई थी। वीएचपी सदस्य ने आरोप लगाया था कि यह प्रार्थना मदरसे में कराई जाने वाली प्रार्थना है।

वहीं, बीसलपुर के खंड शिक्षा अधिकारी (बीईओ) उपेंद्र कुमार की एक जाँच में पाया गया कि अली ने छात्रों को 1902 में कवि मुहम्मद इक़बाल द्वारा लिखी गई कविता ‘लब पे आती है दुआ’ को गवाया था। बता दें कि इक़बाल ने ‘सारे जहाँ से अच्छा’ गीत भी लिखा था।

ज़िला प्रशासन द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, रिपोर्ट में कहा गया है कि बच्चों के साथ बातचीत के दौरान, यह पाया गया कि स्कूल में बच्चों ने न तो कभी ‘राष्ट्रगान’ गाया और न ही आधिकारिक रूप से स्वीकृत प्रार्थना ‘वह शक्ति हमें दो दयानिधे’ गाई। बच्चों ने बताया कि उन्होंने हमेशा ‘लब पे आती है दुआ’ का ही पाठ किया है। नए शिक्षक पिछले दो या तीन दिनों से बच्चों को राष्ट्रगान और दूसरी प्रार्थना करवा रहे हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि जिस दिन जाँच हुई, उस दिन कुल 267 में से 53 छात्र उपस्थित थे।

रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र है कि स्कूल में शिक्षा की गुणवत्ता ‘असंतोषजनक’ पाई गई है। जब पाँचवी कक्षा के छात्रों को कुछ सरल इंग्लिश और हिन्दी शब्द लिखने के लिए कहा गया, तो वे नहीं लिख सके। छात्रों ने बताया कि उन्हें केवल मौखिक रूप से शिक्षा दी जाती है। कोई भी छात्र राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री का नाम नहीं बता सका। पाँचवी कक्षा के छात्र ‘ज्ञान प्रकाश’ और ‘हिन्दुस्तान’ जैसे शब्द नहीं लिख सके। छात्रों में अनुशासन की भी कमी देखी गई।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गुजरात में ‘लैंड जिहाद’ ऐसे: हिंदू को पाटर्नर बनाओ, अशांत क्षेत्र में डील करो, फिर पाटर्नर को बाहर करो

गुजरात में अशांत क्षेत्र अधिनियम के दायरे में आने वाले इलाकों में संपत्ति की खरीद और निर्माण की अनुमति लेने के लिए कई मामलों में गड़बड़ी सामने आई है।

‘नागवार हुकूमत… मदीना को बना देगी आवारगी का अड्डा’: सऊदी अरब को ‘मदीना में सिनेमा’ पर भारत-पाक के मुस्लिम भेज रहे लानत

कुछ लोग सऊदी हुकूमत के इस फैसले में इजरायल को घुसा रहे हैं। उनका कहना है कि मदीना पूरे उम्माह का है न कि इजरायल के नौकरों को।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,920FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe