Monday, July 22, 2024
Homeदेश-समाजमोदी सरकार में 50000 Km राजमार्गों के निर्माण से एक दशक में ऐसे 43%...

मोदी सरकार में 50000 Km राजमार्गों के निर्माण से एक दशक में ऐसे 43% बढ़ गई ‘NLT’, ISRO की तस्वीर से समझें कैसे प्रकाशमान हो रहा है भारत

उसके बाद मणिपुर (441%), लद्दाख (280%) और केरल (119%) का स्थान है। दूसरी ओर गुजरात (58%), उत्तर प्रदेश (61%), अरुणाचल प्रदेश (66%) और मध्य प्रदेश (66%) में एक दशक के दौरान मध्यम वृद्धि देखी गई।

भारत में तेजी से विकास हो रहा है। इस वजह से बिजली की माँग भी बढ़ी है। बिजली की माँग की आपूर्ति और दूर-दराज के इलाकों में बिजली कनेक्शन पहुँचाने की दिशा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र की NDA सरकार ने बेहतरीन काम किया है। ISRO की एक रिपोर्ट इसकी पुष्टि करती है। मोदी सरकार की सौभाग्य योजना और राष्ट्रीय राजमार्ग के तेजी से निर्माण ने विद्युतीकरण की दिशा में भारत की तस्वीर बदल दी है।

सौभाग्य योजना की शुरुआत वर्ष 2017 में की गई थी और तब से अब तक करीब 3 करोड़ घरों में बिजली पहुँचाई जा चुकी है। एक रिपोर्ट के मुताबिक 31 मार्च, 2021 तक सौभाग्य योजना के लॉन्च के बाद से 2.8 करोड़ घरों का विद्युतीकरण किया गया था। वहीं 2014 में मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से अब तक करीब 50,000 किलोमीटर के राष्ट्रीय राजमार्ग का निर्माण हो चुका है और यह स्वाभाविक है कि इस राजमार्गों पर जलाई जा रही स्ट्रीट लाइट से देश में नाइट लाइट टाइम (NLT) में बढ़ोतरी हुई है। भारत में अब कुल 63.73 लाख किलोमीटर का राजमार्ग नेटवर्क है। मोदी सरकार द्वारा तेजी से किए गए विद्युतीकरण के कार्य की झलक इसरो की रिपोर्ट में भी दिखती है।

इसरो (ISRO) की ओर से प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में वर्ष 2012 से वर्ष 2021 तक नाइट लाइट टाइम (NLT) में 43 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। रिपोर्ट के अनुसार इस दौरान NLT में केवल वर्ष 2020 में थोड़ी कमी आई है। इसका कारण संभवतः कोरोना महामारी हो सकता है।

NLT (2012-21) की तुलना करते हुए इसरो की रिपोर्ट (तस्वीर साभार: इसरो)

कई राज्यों ने इस मामले में बेहतरीन प्रदर्शन किया है। बिहार इसमें सबसे आगे है। बिहार में इस एक दशक में NLT में रिकार्ड 474 प्रतिशत की बढोतरी दर्ज की है। वहीं कई राज्यों ने इस मामले में सुस्त प्रगति की है।

NLT के मामले में बिहार में 474 प्रतिशत की बढ़ोतरी (तस्वीर साभार-इसरो)

दरअसल ISRO के नेशनल रिमोट सेंसिंग सेंटर (ISRO National Remote Sensing Centre) ने यह ग्रोथ रिपोर्ट जारी की है। रिपोर्ट के अनुसार, “विकास के दृष्टिकोण से आर्थिक और पारिस्थितिक तंत्र को देखने के लिए कई संकेतक उपलब्ध हैं। नाइट टाइम लाइट्स (NTL) को इन गतिविधियों की निगरानी के संकेतकों में से एक माना जा सकता है। वर्ष 2012 से 2021 की अवधि में राष्ट्रीय, राज्य और जिलेवार नाइट टाइम लाइट ट्रेंड का विश्लेषण करने के लिए पूरे भारत को कवर किया गया है।”

रिपोर्ट में आगे कहा गया है, “कोविड-19 महामारी के कारण, यह पाया गया कि NLT में लगभग सभी राज्यों में वर्ष 2020 में गिरावट आई है। इसलिए आँकड़ों की गणना तीन स्तरों में की गई है। 2012 से 2019 , 2019 से 2020 और 2020 से 2021 के बीच । ट्रेंड सामाजिक-आर्थिक और पर्यावरणीय मापदंडों के संबंध में बहुत उपयोगी हो सकते हैं। पूरे भारत में 2012 से 2021 के बीच NLT में लगभग 43% वृद्धि देखी गई है। वहीं वर्ष 2019 और 2020 की तुलना करें तो इस दौरान 5% की कमी देखी गई है, जिसका कारण COVID-19 महामारी हो सकता है। वहीं वर्ष 2020 की तुलना में  2021 में पूरे भारत में NLT में 9% वृद्धि देखी गई।”

राज्यवार बात करें तो बिहार ने NLT में शानदार प्रदर्शन किया है। उसके बाद मणिपुर (441%), लद्दाख (280%) और केरल (119%) का स्थान है। दूसरी ओर गुजरात (58%), उत्तर प्रदेश (61%), अरुणाचल प्रदेश (66%) और मध्य प्रदेश (66%) में एक दशक के दौरान मध्यम वृद्धि देखी गई। वहीं जिन राज्यों में इस दौरान NLT 55 % से कम रहे, उनमें महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश और तेलंगाना जैसे विकसित राज्य शामिल हैं 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -