Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाज2 ने हाथ पकड़े, तीसरे ने गुदाद्वार में पंप से हवा भरी... 16 साल...

2 ने हाथ पकड़े, तीसरे ने गुदाद्वार में पंप से हवा भरी… 16 साल के लड़के का स्थानीय डॉक्टर भी इलाज नहीं कर पाए

लड़के की हालत ऐसी हो गई कि स्थानीय डॉक्टर उसका इलाज ही नहीं कर पाए। उन्होंने पीलीभीत के जिला अस्पताल में उसे शिफ्ट किया। वहाँ से भी आगे के इलाज के लिए बरेली के डॉक्टरों के पास रेफर किया गया लेकिन...

उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में 9वीं कक्षा में पढ़ने वाले 16 साल के बच्चे के साथ की गई एक घटिया हरकत ने उसकी जान ले ली। जानकारी के मुताबिक, राइस मिल में काम करने वाले कुछ युवकों ने उसके गुदाद्वार में हाई पावर एयर कम्प्रेसर से इतनी हवा भरी कि नाबालिग के भीतर के अंग खराब हो गए और घटना के मात्र दो दिन के बाद उसकी मौत हो गई।

पीड़ित ने बरेली के अस्पताल में आखिरी साँस ली। तीनों आरोपितों की उम्र 22 से 26 साल के बीच की है। उत्तर प्रदेश पुलिस ने बच्चे की मौत के बाद इनके खिलाफ़ पीलीभीत में रविवार को मुकदमा दर्ज किया।

पड़ताल की जा रही है कि आखिर ऐसे बर्बर कृत्य के पीछे कारण क्या था… क्या सिर्फ़ अपने ‘आनंद’ के लिए युवकों ने ये सब किया या फिर उनकी बच्चे से कोई निजी दुश्मनी थी। आरोपितों की पहचान अमित, सूरज और कमलेश के तौर पर हुई है।

पीलीभीत पुरनपुर कोतवाली इलाके के निवासी व बच्चे के पिता ने बताया कि उनका बेटा उनकी जगह चावल की मिल में काम करता था। 4 मार्च को जब वह दोपहर का खाना खाने जा रहा था, तभी तीनों मजदूरों- अमित, सूरज और कमलेश ने उनके बेटे को पकड़ लिया। अमित और सूरज ने उसके हाथ पकड़े और कमलेश ने उसके गुदाद्वार में चावल मिल में इस्तेमाल होने वाले एयर कंप्रेसर से हवा भरी।

घटना के बाद लड़के की हालत ऐसी हो गई कि स्थानीय डॉक्टर उसका इलाज ही नहीं कर पाए। उन्होंने पीलीभीत के जिला अस्पताल में उसे शिफ्ट किया। वहाँ डॉक्टरों ने उसकी आंत फटने की बात कही, जिसके बाद आगे के इलाज के लिए बरेली के डॉक्टरों के पास रेफर किया। लेकिन शनिवार तक लड़का बच न सका। उसने वहीं अस्पताल में दम तोड़ दिया।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, एसएचओ ने बताया कि तीनों आरोपितों के ख़िलाफ़ धारा 304 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। इनमें से दो को हिरासत में लेकर पूछताछ भी चल रही है।

एबीपी न्यूज की दो दिन पुरानी रिपोर्ट के अनुसार पहले खबर थी कि पीड़ित पक्ष और आरोपित पक्ष एक ही गाँव के है। इसलिए सुलह की बात चल रही है और वह आरोपितों के विरुद्ध कार्रवाई को हामी नहीं भर रहे। हालाँकि, शनिवार को पता चला कि बच्चे के अंतिम संस्कार के बाद इस संबंध में शिकायत हुई व आरोपित हिरासत में ले लिए गए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe