Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजउद्दंडों को मुर्गा भी बना रही है, बेसहारा लोगों को भोजन, बुजुर्गों को दवा...

उद्दंडों को मुर्गा भी बना रही है, बेसहारा लोगों को भोजन, बुजुर्गों को दवा तक भी उपलब्ध करा रही है पुलिस

उत्तराखंड के हरिद्वार जिले में पुलिस ने बेसहारा और गरीब लोगों के लिए सामूहिक किचन की व्यवस्था की है जिसमें लॉकडाउन के दौरान गरीब और खाने के लिए जूझ रहे लोगों को खिलाने का प्रबंध किया गया है। उत्तराखंड पुलिस को शायद इसी कारण 'मित्र पुलिस' भी कहा जाता है।

कोरोना के संक्रमण में एक ओर जहाँ कई लोग पुलिस की भूमिका को नकारात्मक रूप से दर्शाने का प्रयास कर रहे हैं, जबकि वास्तविकता कुछ और ही कह रही है। ट्विटर पर लगभग हर बड़े-छोटे राज्य की पुलिस लॉकडाउन की सीमाओं का उल्लंघन करने वालों को दंड भी दे रहे हैं और वही पुलिसकर्मी लॉकडाउन के कारण हो रही समस्याओं से गुजर रहे लोगों के लिए मसीहा की भूमिका भी अदा कर रहे हैं। इसी का एक उदाहरण है उत्तराखंड पुलिस!

उत्तराखंड पुलिस ने ट्विटर पर कुछ तस्वीरें शेयर की हैं, जिनमें उन्हें भूखे लोगों के लिए भोजन का प्रबंध करते हुए देखा जा रहा है। उत्तराखंड पुलिस ने अपने आधिकारिक ट्विट्टर अकाउंट से ट्वीट में लिखा है- “घबराओ मत #UttarakhandPolice हैं ना। लॉकडाउन के दौरान असहायों एवं बेसहारा लोगों को हरिद्वार IRB के जवानों द्वारा सामूहिक किचन लगाकर खाना खिलाया जा रहा है।”

उत्तराखंड के हरिद्वार जिले में पुलिस ने बेसहारा और गरीब लोगों के लिए सामूहिक किचन की व्यवस्था की है जिसमें लॉकडाउन के दौरान गरीब और खाने के लिए जूझ रहे लोगों को खिलाने का प्रबंध किया गया है। उत्तराखंड पुलिस को शायद इसी कारण ‘मित्र पुलिस’ भी कहा जाता है।

वहीं, उत्तर प्रदेश में पुलिस ने एक ट्वीट के द्वारा बताया कि उन्होंने व्हाट्सएप के जरिए बुजुर्ग की दवा मँगवाकर उनके घर तक पहुँचाई। इसी के साथ जरूरतमंद लोगों के घरों तक किचन से सम्बंधित खाने की वस्तुएँ भी उपलब्ध करवा रही है। सोशल मीडिया पर देखा जा सकता है कि बंद के दौरान पंजाब पुलिस भी लोगों को भोजन आदि उपलब्ध करवाती देखी जा रही है।

पीएम मोदी द्वारा 21 दिनों के लिए लॉकडाउन की घोषणा करने के बाद से पुलिस और प्रशासन दोनों अनावश्यक सड़कों पर घूम रहे लोगों से सख्ती से निपटना शुरू कर दिया है, जिस कारण मीडिया का एक ख़ास वर्ग पुलिस की भूमिका पर संदेह खड़े करने का प्रयास भी कर रहा है। बेवजह घर से बाहर घूम रहे लोगों की फ़ौरन जाँच से लेकर उन पर दंडात्मक कार्रवाई के आदेश का भी पुलिस ने गंभीरता से पालन कर रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दाँत काट घायल किया… दर्द से कराहते रवि कुमार दहिया ने फिर भी फाइनल में बनाई जगह – देखें वीडियो

टोक्यो ओलंपिक के फाइनल में रवि कुमार दहिया और रूस के जौर रिजवानोविच उगवे के बीच मुकाबला होगा। गोल्ड मेडल के लिए...

योनि, मूत्रमार्ग, गुदा, मुँह में लिंग प्रवेश से ही रेप नहीं… जाँघों के बीच रगड़ भी बलात्कार ही: केरल हाई कोर्ट

केरल हाई कोर्ट ने कहा कि महिला के शरीर का कोई भी हिस्सा, चाहे वह जाँघों के बीच की गई यौन क्रिया हो, बलात्कार की तरह है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,048FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe