Thursday, July 29, 2021
Homeदेश-समाजबहादुरी के बाद अब दुनिया ने देखी मयूर शेलके की दरियादिली: जिस बच्चे की...

बहादुरी के बाद अब दुनिया ने देखी मयूर शेलके की दरियादिली: जिस बच्चे की जान बचाई अब उसे देंगे आधा इनाम

"मयूर शेलके के पास पोशाक या टोपी नहीं थी। लेकिन उन्होंने सुपरहीरो की तुलना में अधिक साहस दिखाया।"

इन दिनों सोशल मीडिया में मयूर शेलके  (Mayur Shelke) की खूब चर्चा हो रही है। वे सेंट्रल रेलवे के मुंबई डिवीजन में बतौर प्वाइंट्समैन कार्यरत हैं। मुंबई के करीब वन्गनी रेलवे स्टेशन पर उन्होंने एक बच्चे को बचाने के लिए जो हौसला दिखाया, उसका हर कोई कायल है। अब उन्होंने अपनी दरियादिली का एक और परिचय दिया है।

शेलके ने इनाम में मिली आधी राशि उसी बच्चे और उसकी माँ को देने का फैसला किया है, जिसकी जान उन्होंने बचाई थी। सेंट्रल रेलवे ने उनकी बहादुरी को देखते हुए 50 हजार रुपया देने का ऐलान किया था।

असल में वन्गनी स्टेशन पर एक बच्चा अपनी नेत्रहीन माँ के साथ जा रहा था। तभी वह प्लेटफॉर्म से नीचे पटरी पर गिर गया। बच्चा ऊपर चढ़ने की कोशिश कर रहा था, लेकिन चढ़ने में असफल रहा। उसकी माँ चिल्ला रही थी तभी शेलके ने सूझबूझ का परिचय दिया और दौड़कर बच्चे को ट्रेन की चपेट में आने से बचा लिया। यह घटना सीसीटीवी में कैद हो गई। इसे रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी शेयर किया। इसके बाद से ही शेलके की पूरे देश में चर्चा हो रही है।

शेलके के इस बहादुरी भरे कारनामे के बाद जावा मोटरसाइकल्स ने उन्हें पुरस्कार स्वरूप जावा बाइक देने की भी घोषणा की थी। महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने शेलके की तारीफ करते हुए ट्वीट किया, “मयूर शेलके के पास पोशाक या टोपी नहीं थी। लेकिन उन्होंने सुपरहीरो की तुलना में अधिक साहस दिखाया। Jawa परिवार की तरफ से हम सभी उन्हें सलाम करते हैं। मुश्किल समय में, मयूर ने हमें दिखाया है कि हमें बस अपने आसपास के लोगों को देखना होगा, जो हमें एक बेहतर दुनिया की राह दिखाते हैं।”

शेलके ने इनाम की राशि का आधा हिस्सा बच्चे और उसकी माँ को देने का फैसला करते हुए कहा है कि कोविड-19 महामारी का यह समय अत्यंत कठिन है। ऐसे में जो भी उन्हें नकद राशि अथवा चेक देना चाहते हैं, उसे उस बच्चे तथा उसकी माँ को दें अथवा किसी भी अन्य जरुरतमन्द को दें।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्ष एकजुटता पर बात करते हुए कहा, "हम 'सच्चे दिन' देखना चाहते हैं, 'अच्छे दिन' काफी देख लिए।"

कराहते केरल में बकरीद के बाद विकराल कोरोना लेकिन लिबरलों की लिस्ट में न ईद हुई सुपर स्प्रेडर, न फेल हुआ P विजयन मॉडल!

काँवड़ यात्रा के लिए जल लेने वालों की गिरफ्तारी न्यायालय के आदेश के प्रति उत्तराखंड सरकार के जिम्मेदारी पूर्ण आचरण को दर्शाती है। प्रश्न यह है कि हम ऐसे जिम्मेदारी पूर्ण आचरण की अपेक्षा केरल सरकार से किस सदी में कर सकते हैं?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,739FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe