Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजपरिवार को मारने पर स्वर्ग या नर्क: गूगल पर किया सर्च... माँ-बाप और 2...

परिवार को मारने पर स्वर्ग या नर्क: गूगल पर किया सर्च… माँ-बाप और 2 बेटों को मार डाला, फिर खुद भी पानी की टंकी में कूद मर गया

शंकर लाल के फोन की हिस्ट्री में दूसरी अहम बात नींद की गोलियों के बारे में जुटाई गई सूचना थी। इसके लिए शंकर लाल ने अच्छी क्वालिटी की नींद की गोलियों के बारे में काफी सर्च किया था। क्वालिटी के साथ शंकर लाल ने किस गोली का कितना और कितनी देर तक असर रहता है, इसकी भी जानकारी ली थी।

राजस्थान के जोधपुर में 3 नवंबर 2022 को एक ही परिवार के 5 लोगों के शव मिले थे। अब यह जानकारी सामने आई है कि इनमें से एक ने अन्य की पहले हत्या की और फिर खुद भी आत्महत्या कर ली। इस जघन्य कांड को अंजाम देने की वह कई दिनों से तैयारी कर रहा था। यहाँ तक कि गूगल से भी पूछा था कि परिवार की हत्या के बाद स्वर्ग मिलेगा या फिर नर्क।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मामला जोधपुर के लोहावट इलाके का है। यहाँ 38 साल का शंकर लाल अपने परिवार के साथ रहता था। वह खेती-बाड़ी का काम करता था। परिवार में पत्नी के अलावा 2 बेटे और माता-पिता भी थे। शंकर लाल को अफीम की लत लग गई थी, जिसकी वजह से उसका अपनी पत्नी से आए दिन झगड़ा होता रहता था। इसी वजह से वो खुद ही अपने परिवार का दुश्मन बन बैठा। शंकर लाल सितम्बर 2022 से ही अपने परिवार को खत्म करने का प्लान बना रहा था।

आखिरकार 3 नवम्बर 2022 को शंकर लाल ने पत्नी छोड़ कर अपने पूरे परिवार को मार डाला। सबसे पहले शंकर लाल ने अपने 65 साल के पिता सोनाराम की कुल्हाड़ी मार कर हत्या की। इसके बाद वो घर से भाग गया। कुछ लोगों ने सोनाराम को अस्पताल पहँचाया लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। बाद में घर आ कर उसने पूरे परिवार को नींद की गोलियाँ खिला दीं। गहरी नींद में सो जाने के बाद शंकर लाल ने बारी-बारी अपनी माँ और दोनों बेटों को पानी की टंकी में फेंक दिया।

इसके बाद शंकर लाल ने खुद भी पानी की टंकी में कूद कर आत्मह्त्या कर ली। पुलिस ने इन सभी मौतों के पीछे के कारणों की जाँच शुरू की तो उसमें शंकर लाल के मोबाइल की डिटेल अहम साबित हुई। पुलिस ने शंकर लाल की मोबाइल हिस्ट्री में पाया कि उसने सर्च किया था कि वो मौत के बाद स्वर्ग जाएगा या नर्क। इस बात से अनुमान लगाया जा रहा है कि वो अपने ही परिवार को खत्म करने से पहले अपने मौत के बाद के बारे में जानकारी जुटा रहा था।

शंकर लाल के फोन की हिस्ट्री में दूसरी अहम बात नींद की गोलियों के बारे में जुटाई गई सूचना थी। इसके लिए शंकर लाल ने अच्छी क्वालिटी की नींद की गोलियों के बारे में काफी सर्च किया था। क्वालिटी के साथ शंकर लाल ने किस गोली का कितना और कितनी देर तक असर रहता है, इसकी भी जानकारी ली थी। माना जा रहा है कि शंकर लाल की तैयारियों में अपने परिवार को नींद की गोलियों के साथ जहर भी देना शामिल था। मौत से पहले उसने परिवार के सदस्यों को नींद की 22 गोलियाँ खिलाई थी। ये गोलियाँ उसने सोने से पहले पी गई शिकंजी में डाल कर दी थीं।

इंटरनेट पर इन तमाम खोजबीन के साथ शंकर लाल सावधान इंडिया और क्राइम पेट्रोल शो भी देख रहा था। 14 सितम्बर से उसने कई अन्य क्राइम सीरीज भी देखना शुरू कर दिया था। माना जा रहा था कि हत्या की प्लानिंग उसने इन्हीं शोज को देखकर की होगी। जानकारी के अनुसार 4 शो देखने के बाद उसने घर वालों को मारने की पुख्ता तैयारी कर डाली थी। शंकर लाल अपनी पत्नी को नहीं मरना चाहता था। शंकर लाल के मोबाइल से विधवा पेंशन के बारे में जानकारी खोजी गई थी। उसकी सर्च में ये भी शामिल था कि मौत के बाद किसी परिवार के लिए सरकार क्या करती है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20000 महिलाओं को रेप-मौत से बचाने के लिए जब कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RSS से माँगी थी मदद: एक पत्र में दर्ज इतिहास, जिसे छिपा...

पत्र में कहा गया था कि आरएसएस 'फील्ड वर्क' के लिए लोगों को अत्यधिक प्रशिक्षित करेगा और संघ प्रमुख श्री गोलवर्कर से परामर्श लिया जा सकता है।

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -