Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजराजस्थान में धारा 144, उदयपुर में कर्फ्यू-इंटरनेट बंद: रिपोर्ट में दावा- कन्हैया लाल का...

राजस्थान में धारा 144, उदयपुर में कर्फ्यू-इंटरनेट बंद: रिपोर्ट में दावा- कन्हैया लाल का अंतिम संस्कार घर के पास कराने पर तुली पुलिस

कन्हैयालाल को नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट को लेकर लगातार धमकियाँ मिल रही थी। उन्होंने इसको लेकर पुलिस में शिकायत दर्ज कराते हुए सुरक्षा माँगी थी, जिसे पुलिस ने गंभीरता से नहीं लिया।

पूरे राजस्थान में एक महीने के लिए धारा 144 लागू कर दिया गया है। उदयपुर में इंटरनेट बंद है। कर्फ्यू लगाया गया है। कन्हैया लाल का गला काटने की घटना के बाद ये कदम उठाए गए हैं।

इस घटना के बाद से शहर में तनाव का माहौल बताया जा रहा है। पत्थरबाजी की भी खबर है। हालाँकि पुलिस हालात नियंत्रण में होने का दावा कर रही है। उदयपुर के डिविजनल कमिश्नर राजेंद्र भट्ट ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है।

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार कन्हैया लाल के शव का पोस्टमॉर्टम हो गया है। आज ही उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। लेकिन इसके लिए परिजनों और पुलिस के बीच विवाद है। पुलिस घर के पास ही उनका अंतिम संस्कार करवाना चाहती है। लेकिन परिवार अशोक नगर श्मशान घाट में अंतिम संस्कार चाहता है। इसकी वजह से शव अभी भी परिजनो को सौंप नहीं गया है।

गौरतलब है कि कन्हैयालाल की टेलर शॉप थी। मंगलवार को वह दुकान में काम कर रहे थे। इस दौरान बाइक पर आए दो मुस्लिम युवक कपड़े का नाप देने के बहाने दुकान में घुसे और अचानक हथियार से हमला कर दिया। बताया जा रहा है कि नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट को लेकर उन्हें लगातार धमकियाँ मिल रही थी। उन्होंने इसको लेकर पुलिस में शिकायत दर्ज कराते हुए सुरक्षा माँगी थी जिसे पुलिस ने गंभीरता से नहीं लिया।

मामले में पुलिस ने हत्या के दोनों आरोपितों को राजसमंद से गिरफ्तार कर लिया है। एक का नाम मोहम्मद रियाज और दूसरे का नाम गौस मोहम्मद बताया जा रहा है। हत्यारों ने वीडियो जारी कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी जान से मारने की धमकी दी थी। रियाज उदयपुर के खाजिपिर में रहकर मस्जिद में खिदमत का काम करता था। वही गौस वेल्डिंग और प्रॉपर्टी का काम करता था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -