Thursday, July 18, 2024
Homeदेश-समाजयूपी के मैनपुरी में लालच देकर चल रहा था धर्मांतरण का खेल, मौके पर...

यूपी के मैनपुरी में लालच देकर चल रहा था धर्मांतरण का खेल, मौके पर पहुँचे हिंदू संगठन के लोगों और पुलिस पर ग्रामीणों ने की पत्थरबाजी

ऑपइंडिया से बातचीत में किशनी थाना के अधिकारी धर्मेंद्र कुमार ने बताया, "नागला बख्ती गाँव में लालच देकर धर्म परिवर्तन कराने की सूचना मिलने पर हमलोग पहुँचे। इस दौरान ग्रामीण भड़क गए और पत्थरबाजी करने लगे।"

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मैनपुरी (Mainpuri) जिले में धर्मांतरण (Conversion) की सूचना के बाद मौके पर पहुँचे हिंदूवादी संगठनों के साथ ग्रामीणों ने मारपीट की। हालात को देखते हुए कई थानों की पुलिस मौके पर पहुँचकर हालात को नियंत्रित करने का प्रयास किया। वहीं, हिंसा को लेकर हिंदू संगठन के लोगों ने थाने में शिकायत दर्ज कराई है। हालाँकि, इस मामले में अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

मामला मैनपुरी जिले में किशनी थाना क्षेत्र के नगला बख्ती गाँव का है। आरोप है कि यहाँ धर्म परिवर्तन को लेकर एक सभा का आयोजन किया गया और साथ ही दावत का इंतजाम किया गया था। इस बात की सूचना जब हिंदू जागरण मंच के पदाधिकारियों को पता चली तो वे मौके पर पहुँच गए। इसके साथ ही इन लोगों को पुलिस को इस बात की सूचना दी।

आरोप है कि गाँव के 71 साल के नेत्रहीन बुजुर्ग मेवालाल ने दावत का इंतजाम किया है। इस दावत में लालच देकर धर्म परिवर्तन कराने का काम किया जा रहा है। सूचना पर पहुँची पुलिस ग्रामीणों से जानकारी जुटाने लगी। पुलिस ने मेवाराम का आधार कार्ड चेक किया गया तो बताया गया कि मेवाराम गाँव की पूर्व प्रधान प्रेमा देवी पत्नी राम प्रसाद जाटव का मामा है।

इसी दौरान ग्रामीणों ने जागरण मंच के लोगों और पुलिस से अभद्रता शुरू कर दी और गाली-गलौच करने लगे। बात आगे बढ़ गई और ग्रामीणों ने पत्थरबाजी शुरू कर दी और जागरण मंच और पुलिसकर्मियों को दौड़ा लिया। लोग किसी तरह से भागकर अपनी जान बचाई। उधर, मेवाराम का कहना था कि धर्म परिवर्तन जैसी कोई बात नहीं है, बल्कि उसने अपने जन्मदिन पर दावत का इंतजाम कराया था.

ऑपइंडिया से बातचीत में किशनी थाना के अधिकारी धर्मेंद्र कुमार ने बताया, “नागला बख्ती गाँव में लालच देकर धर्म परिवर्तन कराने की सूचना पुलिस को मिली तो हमलोग मौके पर पहुँचे। इस दौरान ग्रामीण भड़क गए और पत्थरबाजी करने लगे। अफतरा-तफरी में लोगों ने भागकर किसी तरह भागकर जान बचाई।”

हालाँकि, धर्मेंद्र कुमार ने पुलिस पर हमले की बात को नकार दिया। उन्होंने कहा कि पुलिस पर हमला नहीं किया गया था। ग्रामीणों ने जागरण मंच के लोगों पर पत्थरबाजी की थी। धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि मंच के लोगों ने शिकायत दी है। इस मामले में किसी की अभी तक गिरफ्तारी नहीं हुई है और मामले की जाँच कर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अजमेर दरगाह के सामने ‘सर तन से जुदा’ मामले की जाँच में लापरवाही! कई खामियाँ आईं सामने: कॉन्ग्रेस सरकार ने कराई थी जाँच, खादिम...

सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में अजमेर दरगाह के खादिम गौहर चिश्ती की जाँच में लापरवाही को लेकर कोर्ट ने इंगित किया है।

काँवड़ यात्रा पर किसी भी हमले के लिए मोहम्मद जुबैर होगा जिम्मेदार: यशवीर महाराज ने ‘सेकुलर’-इस्लामी रुदालियों पर बोला हमला, ढाबों मालिकों की सूची...

स्वामी यशवीर महाराज ने 18 जुलाई 2024 को एक वीडियो बयान जारी कर इस्लामिक कट्टरपंथियों और तथाकथित 'सेकुलरों' को आड़े हाथों लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -