Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजश्रद्धा के टुकड़े करने वाला आफताब करेगा हायर स्टडी, कहा- पेंसिल और नोटबुक दी...

श्रद्धा के टुकड़े करने वाला आफताब करेगा हायर स्टडी, कहा- पेंसिल और नोटबुक दी जाए: साकेत कोर्ट ने जारी किया नोटिस

आफताब ने अपनी लिव इन पार्टनर श्रद्धा की हत्या कर शव के टुकड़े-टुकड़े कर दिए थे। आफताब के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने जनवरी 2023 को 6629 पन्नों की चार्जशीट अदालत में पेश की थी।

आफताब अमीन पूनावाला की याचिका पर साकेत कोर्ट ने जेल प्रशासन और दिल्ली पुलिस से जवाब माँगा है। याचिका में उसने चार्जशीट की कॉपी और वीडियो व्यवस्थित तरीके से देने की माँग की है। श्रद्धा वाकर की हत्या के आरोपित आफताब ने हायर स्टडी के लिए पेंसिल और नोटबुक की भी डिमांड की है। साथ ही अपना एजुकेशनल सर्टिफिकेट दिलाने की माँग की है।

आफताब के वकील एमएस खान की तरफ से दी गई याचिका में कोर्ट से कहा गया है कि उपलब्ध कराया गया चार्जशीट पढ़ने योग्य नहीं है। चार्जशीट जिस पेन ड्राइव में दिया गया है] वह ओवरलोडेड है। पेन ड्राइव में उपलब्ध फुटेज भी साफ नहीं है। याचिका में माँग की गई है कि फुटेज और चार्जशीट की कॉपी अलग-अलग पेन ड्राइव में उपलब्ध कराई जाए।

आफताब की तरफ से दी गई दूसरी याचिका में कहा गया है कि जाँच अधिकारी उसकी पढ़ाई-लिखाई से जुड़ी सर्टिफिकेट वापस दें। आफताब का कहना है कि वह आगे पढ़ाई करना चाहता है इसलिए उसे इनकी आवश्यकता है। इन्हीं याचिकाओं पर जेल प्रशासन और जाँच अधिकारी से जवाब माँगा गया है। लिखित मटेरियल और सर्टिफिकेट उपलब्ध कराए जाने पर कोर्ट बुधवार (15 फरवरी, 2023) को सुनवाई करेगी। जबकि साफ चार्जशीट और फुटेज उपलब्ध कराए जाने पर अदालत में शुक्रवार (17 फरवरी, 2023) को सुनवाई होगी।

बता दें आफताब ने अपनी लिव इन पार्टनर श्रद्धा की हत्या कर शव के टुकड़े-टुकड़े कर दिए थे। लाश के टुकड़ों को उसने फ्रिज में रखा था और एक-एक कर टुकड़ों को ठिकाने लगा दिया था। आफताब के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने 24 जनवरी, 2023 को 6629 पन्नों की चार्जशीट अदालत में पेश की थी। इसके मुताबिक श्रद्धा को मारने के बाद आफताब ब्लेड, हथौड़ा, प्लास्टिक लेने गया था। सामान लेकर लौटने के बाद उसने शव को बाथरूम में काटना शुरू किया। पहले श्रद्धा की कलाई काटकर पॉलीथीन में रखी और फिर अगले पाँच दिन में शव के 17 टुकड़े कर दिए। इन 17 टुकड़ों में दोनों हाथ-पाँव के 6-6 टुकड़े शामिल थे। इसके अलावा सिर, धड़, अंगूठों को भी काट डाला गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -