Tuesday, July 16, 2024
Homeदेश-समाजहिंसा के खिलाफ शिकायत करने थाने पहुँचा तो पुलिस बोली 'हाथ बँधे हैं': बंगाल...

हिंसा के खिलाफ शिकायत करने थाने पहुँचा तो पुलिस बोली ‘हाथ बँधे हैं’: बंगाल में TMC के आतंक से त्रस्त बीजेपी वर्कर

ममूनी शाह और उनके पति रवि शाह ने कहा कि 2 मई को टीएमसी की जीत के बाद उनकी पोल्ट्री शॉप को तोड़ दिया गया था। उसके बाद से वह अपने भवानीपुर इलाके में स्थित अपने घर अब तक नहीं लौट पाए। दोनों पति-पत्नी बताते हैं कि...

पश्चिम बंगाल में चुनावी नतीजों के बाद भड़की हिंसा ने न केवल लोगों से उनका आश्रय छीना बल्कि उन्हें डर-डरकर रहने को मजबूर भी कर दिया। ऐसे में सोमवार (21 जून) को जब कलकत्ता हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को शिकायत दर्ज न करने पर फटकारा तो पीड़ितों में न्याय का विश्वास जगा और अन्य पीड़ितों ने सामने आकर आपबीती सुनाई।

इंडिया टुडे से बात करते हुए, ममूनी शाह और उनके पति रवि शाह ने कहा कि 2 मई को टीएमसी की जीत के बाद उनकी पोल्ट्री शॉप को तोड़ दिया गया था। उसके बाद से वह अपने भवानीपुर इलाके में स्थित अपने घर अब तक नहीं लौट पाए। दोनों पति-पत्नी बताते हैं कि टीएमसी ने उनको पार्टी में शामिल होने को कहा था लेकिन उन्होंने तीन साल पहले चुपचाप भाजपा ज्वाइन कर लिया।

दंपत्ति बताती है, “टीएमसी को एक साल पहले इस बारे में पता चला और वह लोग उनको डराने धमकाने पर उतारू हो गए।” इस घटना के बाद रवि ने तो घर छोड़ दिया जबकि ममूनी वहीं रहती रहीं। रवि कहते हैं, “मैं घर नहीं लौट सका हूँ। जब मैं शिकायत दर्ज कराने भवानीपुर थाने गया तो पुलिस ने हाथ बँधे होने की बात कहकर शिकायत नहीं ली।”

वहीं ममूनी ने बताया कि वह उसी इलाके में रहती थीं। लेकिन मार्च में उन्हें होली के समय धमकी दी गई। उस समय उन्होंने टीएमसी समर्थकों को 10 किलो चिकन देने से मना कर दिया था। वह कहती हैं, “वे तब से हमें परेशान कर रहे हैं। उन्होंने 2 मई को दुकान में तोड़फोड़ की और अब दुकान के सामने बैरिकेडिंग कर दी गई है। मैं घर नहीं लौट पा रही हूँ।” टीएमसी के आतंक से परेशान होकर अब ये दंपत्ति टौलीगंज इलाके में रहते हैं। ये जगह भवानीपुर से बहुत दूर है।

‘TMC समर्थकों ने गल ढंग से छुआ, बच्चों के साथ पीटा भी’

चुनावी जीत के बाद राज्य में हुई हिंसा के क्रम में एक प्रताड़ना की कहानी पूर्व बर्धमान जिले के खंडघोष से भी है। वहाँ तीन दिन पहले पुलिस सुरक्षा में अपने घर लौटी राखी रॉय ने आरोप लगाया कि उन्हें फिर से टीएमसी समर्थकों द्वारा धमकाया जा रहा है।

रॉय ने दावा किया कि टीएमसी समर्थक कथित तौर पर रविवार रात उनके घर में घुसे, उनके साथ मारपीट की और उनके कपड़े फाड़ दिए और उन्हें जाने की चेतावनी दी। टीएमसी समर्थकों ने कहा कि वह वहाँ से चले जाएँ वरना यह उनके जीवन का आखिरी दिन होगा। 

राखी बताती हैं कि उनके साथ हुई मार-पिटाई सोमवार की सुबह की बात है। जब सत्ता पक्ष के समर्थक वापस आए और बच्चों समेत उनकी दोबारा पिटाई कर दी। राखी कहती हैं, “उन्होंने मुझे पीटा और मुझे गलत तरीके से छुआ। उन्होंने मुझे इतनी बुरी तरह से पीटा कि इससे मेरी पीठ पर निशान बन गए हैं।” राखी कहती हैं कि अगर उन्होंने घर नहीं छोड़ा तो उनके पति को मार दिया जाएगा।

गौरतलब है कि राज्य सरकार ने कलकत्ता हाईकोर्ट से उनके फैसले पर रोक लगाने की माँग की थी जिसमें NHRC को हिंसा संबंधी जाँच के आदेश दिए गए थे। लेकिन हाईकोर्ट ने याचिका को खारिज कर दिया। साथ ही राज्य सरकार को फटकार लगाई। 5 सदस्यीय पीठ ने कहा कि आखिर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के पास कैसे 541 शिकायतें आई लेकिन राज्य के पास एक भी शिकायत नहीं आई।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -