Monday, July 22, 2024
Homeदेश-समाजगाड़ी चढ़ा कर रामतीरथ तिवारी को मार डाला, पुलिस पर भी की गोलीबारी: ज़ुबैर...

गाड़ी चढ़ा कर रामतीरथ तिवारी को मार डाला, पुलिस पर भी की गोलीबारी: ज़ुबैर हुआ गिरफ्तार, मुठभेड़ में पाँव में लगी गोली

अयोध्या पुलिस ने बताया कि मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया गया 30 वर्षीय जुबैर रामतीरथ तिवारी नाम के एक व्यक्ति की हत्या कर के फरार था। रामतीरथ तिवारी की हत्या शुक्रवार (11 अगस्त, 2023) को हुई थी।

उत्तर प्रदेश के अयोध्या जिले में पुलिस की अपराधियों से मुठभेड़ हुई है। इस मुठभेड़ में जुबैर खान नाम के एक व्यक्ति को गोली लगी है। जुबैर एक हिन्दू व्यक्ति की बोलेरो गाड़ी से कुचल कर हत्या के बाद फरार चल रहा था। फरारी के दौरान जुबैर ने खुद को रोके जाने पर पुलिस पर भी गोलियाँ बरसाईं। जवाबी कार्रवाई में जुबैर के पैर में गोली लगी और उसे गिरफ्तार कर लिया गया। मुठभेड़ के दौरान जुबैर का साथी सिराज फरार हो गया जिसकी तलाश की जा रही है। यह मुठभेड़ सोमवार (14 अगस्त, 2023) को हुई है।

यूपी पुलिस अपनी टीम के साथ रात लगभग 11:30 पर वाहनों की चेकिंग कर रही थी। इस दौरान एक पुल के पास बाइक सवार 2 संदिग्ध लोग दिखाई दिए। दोनों को रुकने का इशारा किया गया तो वो मुड़ कर भागने लगे। पुलिस टीम ने दोनों संदिग्धों का पीछा किया और आत्मसमर्पण करने को कहा तो बाइक पर पीछे बैठा व्यक्ति गोलियाँ चलाने लगा। आत्मरक्षा में पुलिस ने भी जवाबी फायरिंग की। इस फायरिंग में एक आरोपित को बाएँ पैर गोली लगी जिसकी बाद में पहचान जुबैर खान के रूप में हुई। जुबैर के पास से पुलिस ने एक अवैध तमंचा और 3 कारतूस बरामद हुए।

इस मुठभेड़ में पुलिस कॉन्स्टेबल शैलेन्द्र भी घायल हुए हैं जिनका इलाज चल रहा है। जुबैर ने पूछताछ में बाइक चला रहे आरोपित का नाम सिराज अहमद बताया। सिराज मुठभेड़ स्थल से भागने में सफल रहा जिसकी तलाश में दबिश दी जा रही है। गिरफ्तार और फरार दोनों ही आरोपित अयोध्या के रामपुर भगन गाँव के रहने वाले हैं। घायल जुबैर का अस्पताल में इलाज के करवाया गया। पुलिस ने जुबैर और सिराज पर IPC की धारा 307 (जान से मारने का प्रयास) और आयुध अधिनियम की धारा 3/5/25/27 के तहत केस दर्ज किया है। मामले में आगे की कानूनी कार्रवाई की जा रही है।

रामतीरथ तिवारी की हत्या कर के फरार था जुबैर

अयोध्या पुलिस ने बताया कि मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया गया 30 वर्षीय जुबैर रामतीरथ तिवारी नाम के एक व्यक्ति की हत्या कर के फरार था। रामतीरथ तिवारी की हत्या शुक्रवार (11 अगस्त, 2023) को हुई थी। रामतीरथ तिवारी के कत्ल में जुबैर के साथ उसका अब्बा नौशाद और 2 अन्य साथी शामिल थे। रामतीरथ तिवारी की हत्या की वजह जुबैर ने उनके साथ चल रहे अपने जमीनी मुकदमे को बताया। जुबैर को लगता था कि केस रामतीरथ तिवारी जीत जाएँगे। ऐसे में उसने साजिश रची कि अगर रामतीरथ को रास्ते से हटा दिया जाए ताकि कोई और जमीन के केस की पैरवी करने वाला नहीं बचे।

अपनी साजिश को अंजाम देने के लिए जुबैर अपने एक परिचित अनिल कुमार की बोलेरो गाड़ी माँग कर लाया। 11 अगस्त को जैसे ही रामतीरथ अपने घर से बाहर निकले, जुबैर ने उन पर गाड़ी चढ़ा दी। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि बोलेरो चढ़ाने के बाद जुबैर बोला, “लगता है साला बच गया। आइंदा जान से मार डालेंगे।” जुबैर के हमले में रामतीरथ बुरी तरह से घायल हो गए जिन्होंने बाद में दम तोड़ दिया। गाड़ी चढ़ाने के बाद जुबैर ने बोलेरो उसकी चाबी बोलेरो के मालिक के रिश्तेदार को दे दी और सिराज के साथ फरार हो गया।

इस मामले में पुलिस ने IPC की धारा 302 (हत्या) और 120 बी (साजिश रचना) के तहत FIR दर्ज की थी। केस दर्ज होने के बाद से जुबैर फरार चल रहा था। आखिरकार वह 14 अगस्त को पुलिस से हुई मुठभेड़ में गिरफ्तार कर लिया गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -